बजट सत्र / गवर्नर के अभिभाषण को आप ने बताया झूठा, शिअद नाराज



राज्यपाल ने अंग्रेजी में भाषण शुरू किया तो बैंस ब्रदर ने पंजाबी में पढ़ने की मांग करने लगे राज्यपाल ने अंग्रेजी में भाषण शुरू किया तो बैंस ब्रदर ने पंजाबी में पढ़ने की मांग करने लगे
बजट सत्र में शामिल होने पहुंचे पंजाब के पूर्व सीएम परकाश सिंह बादल बजट सत्र में शामिल होने पहुंचे पंजाब के पूर्व सीएम परकाश सिंह बादल
कर्ज से परेशान होकर मरने वाले किसानों की तस्वीरें लेकर कांग्रेस विरुद्ध अकाली दल के आगू नेता नारे लगाते रहे। कर्ज से परेशान होकर मरने वाले किसानों की तस्वीरें लेकर कांग्रेस विरुद्ध अकाली दल के आगू नेता नारे लगाते रहे।
X
राज्यपाल ने अंग्रेजी में भाषण शुरू किया तो बैंस ब्रदर ने पंजाबी में पढ़ने की मांग करने लगेराज्यपाल ने अंग्रेजी में भाषण शुरू किया तो बैंस ब्रदर ने पंजाबी में पढ़ने की मांग करने लगे
बजट सत्र में शामिल होने पहुंचे पंजाब के पूर्व सीएम परकाश सिंह बादलबजट सत्र में शामिल होने पहुंचे पंजाब के पूर्व सीएम परकाश सिंह बादल
कर्ज से परेशान होकर मरने वाले किसानों की तस्वीरें लेकर कांग्रेस विरुद्ध अकाली दल के आगू नेता नारे लगाते रहे।कर्ज से परेशान होकर मरने वाले किसानों की तस्वीरें लेकर कांग्रेस विरुद्ध अकाली दल के आगू नेता नारे लगाते रहे।

  • शिअद-भाजपा गठबंधन और लोक‌ इंसाफ पार्टी के विधायकों ने बायकॉट किया
  • बैंस बंधुओं ने अभिभाषण को पंजाबी भाषा में अभिभाषण पढ़े जाने की मांग की

 

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 06:08 AM IST

चंडीगढ़. पंजाब विधानसभा के बजट सत्र के पहले दिन मंगलवार को अकाली दल-भाजपा गठबंधन और लोक‌ इंसाफ पार्टी के विधायकों ने राज्यपाल के अभ‌िभाषण का बायकाट किया। सदन में राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर ने जैसे ही ‌अभिभाषण पढ़ना शुरू किया तो अकाली दल और भाजपा के विधायक अपनी-अपनी सीटों से उठकर खड़े हो गए और सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। इसी दौरान लोक इंसाफ पार्टी के विधायक बैंस बंधुओं ने भी राज्यपाल द्वारा अंग्रेजी में अभिभाषण पढ़ने का विरोध करते हुए पंजाबी भाषा में अभिभाषण पढ़े जाने की मांग करनी शुरू कर दी। जब उनकी मांग पर ध्यान नहीं दिया गया तो बैंस बंधु सदन से उठकर चले गए। 

 

इधर, अपनी सीटों पर खड़े होकर नारेबाजी कर रहे अकाली और भाजपा विधायक वेल में पहुंच गए और सरकार के खिलाफ नारेबाजी तेज कर दी। इस नारेबाजी से सदन में इतना शोर था कि अकाली विधायक क्या कहना चाह रहे हैं, साफ सुनाई नहीं दिया।

 

हालांकि अकाली दल के परमिंदर सिंह ढींढसा राज्यपाल द्वारा अभिभाषण पढ़े जाने के दौरान ‘सब झूठ है’ के नारे लगाने के साथ ही कांग्रेस सरकार मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे। राज्यपाल ने सुबह 11 बजे अभिभाषण पढ़ना शुरू किया था लेकिन चार मिनट बाद लोक‌ इंसाफ पार्टी के विधायक सदन से उठकर चले गए। उन्होंने सदन से बाहर निकल कर अंग्रेजी में छपी अभिभाषण की प्रति भी फाड़ दी। खास बात यह भी रही कि सत्ता पक्ष और मुख्य विपक्षी दल आम आदमी पार्टी के विधायकों ने कोई प्रतिक्रिया नहीं की गई।

 

वाॅकआउट राज्य प्रमुख के विरुद्ध बदतमीजी है: कैप्टन

सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा-अकाली-भाजपा का विधानसभा से वाकआउट करना राज्य के प्रमुख के विरुद्ध ‘बदतमीजी’ है। सीएम ने विधानसभा के नजदीक अकालियों के प्रदर्शन को  लोकसभा चुनाव के मद्देनजर एक राजनैतिक स्टंट बताया। उन्होंने कहा कि अकालियों ने अपने 10 साल के शासन में किसानों के लिए कुछ किया नहीं और गुमराह कर घटिया किस्म के दाव पेच कर रहे हैं। हम कर्ज  राहत स्कीम के तहत 5.83 लाख किसानों की मदद कर चुके हैं और 10.25 लाख छोटे और सीमांत किसानों को जल्द इस स्कीम के अधीन लाया जा रहा है।

 

बेअदबी के आरोपी नहीं बख्शे जाएंगे :
इस दौरान, कैप्टन ने कहा-बहबल कलां गोलीबारी की जांच के लिए एसआईटी जांच कर रही है। किसी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। 

 

राज्यपाल से सरकार ने झूठ बुलवाया : 

विरोधी पक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने कैप्टन सरकार पर राज्यपाल बीपी सिंह बदनौर से झूठ का पुलंदा पढ़वाने का आरोप लगाया है। कहा-राज्यपाल के भाषण में सबसे बड़ा झूठ ‘कर्ज कुर्की खत्म, फसल की पूरी रकम’ के नाम पर बोला गया है। कांग्रेस ने किसानों और खेत मजदूरों को धोखा और जलालत दी गई है।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना