पंजाब यूनिवर्सिटी / लिटरेचर के एक्सपर्ट को डॉक्टर ऑफ लाॅ की डिग्री देने की सिफारिश, अब पीयू ने सुधारी भूल



Recommendation to give Doctor-of-law degree to the expert of literature, now PU corrected the mistake.
X
Recommendation to give Doctor-of-law degree to the expert of literature, now PU corrected the mistake.

  • सिंडीकेट और स्पेशल सीनेट मीटिंग होगी एक ही दिन, 21 को सुधरेगी गलती
  • इंग्लिश और कन्नड़ की लेखिका सुधा मूर्ति की किताबें कई भाषाओं में प्रकाशित हैं

Dainik Bhaskar

Apr 16, 2019, 01:32 PM IST

चंडीगढ़. 22 अप्रैल को होने वाली पंजाब यूनिवर्सिटी की कन्वोकेशन में ऑनरेरी डिग्री के लिए नाम अप्रूव करने वाली कमेटी ने लिटरेचर के एरिया में काम करने वाली और इंजीनियरिंग बैकग्राउंड की सुधा मूर्ति को डॉक्टर ऑफ लॉ की डिग्री देने की सिफारिश कर डाली।

 

अब यूनिवर्सिटी इस गलती को 21 अप्रैल को होने वाली स्पेशल सिंडीकेट और सीनेट की मीटिंग में सुधारने वाली है। लगातार गलतियों की वजह से सिंडिकेट ने इस प्रस्ताव को पास ही नहीं किया था। यूनिवर्सिटी ने बाकायदा बयान जारी कर दिया था कि ये डिग्री दी जानी है।

 

महंगी पड़ती है ये मीटिंग: हड़बड़ी का आलम यह था कि सिंडिकेट को भेजे सप्लीमेंट्री एजेंडा प्रस्ताव में सिफारिश भी वाइस चांसलर के बजाय कमेटी की ओर से थी। इस स्पेशल मीटिंग के कारण यूनिवर्सिटी को कई लाख रुपए का अतिरिक्त खर्च करना होगा। एक सीनेट मीटिंग पर यूनिवर्सिटी का 2 से ढाई लाख रुपए तक का खर्च आता है। अब 21 की सुबह 10:30 बजे सिंडीकेट इसरो चेयरमैन डॉ. वी सिवान को विज्ञान रत्न और सुधा मूर्ति को डी लिट की उपाधि देने को एक तिहाई बहुमत से मंजूरी देगी और उसके ठीक एक घंटे बाद होने वाली सीनेट मीटिंग में इसे मंजूरी मिलेगी।


बायोडाटा पढ़ने के बाद मेंबर्स ने किया सवाल खड़ा: 10 अप्रैल को सिंडीकेट मीटिंग में सप्लीमेंट्री एजेंडे के तौर पर जब ये आइटम आई तो कुछ मेंबर्स ने बायोडाटा पढ़ने के बाद सवाल खड़ा किया कि ऑनरेरी डिग्री की सिफारिश किस तौर पर की गई है। 5 अप्रैल को पूर्व वीसी प्रो. आरपी भांबा, प्रो. केएन पाठक, पद्मश्री प्रो. अमोद गुप्ता, आईडीसी के डायरेक्टर प्रो. प्रमोद कुमार, पीजीआईएमईआर से प्रो. बलजिंदर सिंह और रजिस्ट्रार प्रो. करमजीत सिंह मौजूद थे।

 

सुधा मूर्ति एमई पर कमेटी मेंबर्स ने की एलएलडी डिग्री की सिफारिश: सुधा मूर्ति एमई हैं और अपने कन्नड़ प्रेम की वजह से उन्होंने इस भाषा की लगभग 60 हजार लाइब्रेरियां स्थापित की हैं। इंग्लिश और कन्नड़ की लेखिका सुधा मूर्ति की किताबें कई भाषाओं में प्रकाशित हैं। उन्हें आरके नारायण अवाॅर्ड फॉर लिटरेचरअ मिल चुका है। हाल ही में उन्हें क्रॉसवुड बुक अवाॅर्ड भी मिला है। लेकिन कमेटी मेंबर्स ने एलएलडी की डिग्री अवाॅर्ड करने की सिफारिश कर दी। सिंडीकेट मेंबर्स ने इसको अगले साल तक टालने के लिए कहा लेकिन पता लगा कि वाइस चांसलर इसके लिए दोनों हस्तियों को इनवाइट भी कर चुके हैं। अब एकमात्र रास्ता ये था कि त्वरित तौर पर सिंडीकेट और सीनेट की मीटिंग बुलाई जाए।

 

सिंडीकेट को दोबारा हुआ नोटिस जारी: अब सिंडीकेट का दोबारा नोटिस जारी हुआ है, जिसमें सिफारिश वीसी की ओर से की गई है। अब एलएलडी के बजाय डॉक्टरेट ऑफ लिटरेचर की डिग्री को अप्रूव करने को कहा गया है। सूत्रों के अनुसार दोनों ही नाम चांसलर ऑफिस से अप्रूव हैं। ऐसे में बिना किसी विवाद के दोनों ही नाम पर अप्रवूल मिल जाएगी। इसरो के चेयरमैन डॉ. के सिवान के कार्यकाल में ही एक साथ 104 सेटेलाइट लॉन्च किए गए। मदुरई यूनिवर्सिटी से बीएससी मैथ्स करने वाले डॉ. सिवान ने एमआईटी चेन्नई से बीटेक की, आईआईएससी बेंगलुरू से एमई एयरोस्पेस और पीएचडी आईआईटी बांबे से।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना