टोल टैक्स / दो किमी का जाम देख फास्टैग लाइन में घुसे वाहन चालक, घरौंडा समेत कई जगह झड़पें

प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • प्रदेशभर में टोल नाकों पर फास्टैग अनिवार्य, अब कैश पेमेंट के लिए सिर्फ एक लाइन
  • फास्टैग वाली लाइन में अब बिना टैग लगे वाहन ले जाने पर दोगुना टैक्स लिया जा रहा

Dainik Bhaskar

Jan 16, 2020, 05:23 AM IST

चंडीगढ़. 15 जनवरी से वाहनों के लिए टोल टैक्स के लिए फास्टैग अनिवार्य हो गया। कैश के लिए दोनों तरफ सिर्फ एक-एक लाइन कर दी गई। इससे प्रदेश के सभी टोल पर कैश वाली लाइन पर वाहनों की 1 से 2 किमी तक लंबी कतारें लग गईं। फास्टैग वाली लाइन में अब बिना टैग लगे वाहन ले जाने पर दोगुना टैक्स वसूला जाएगा। टोल कंपनियों से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, अभी करीब 55% वाहनों पर फास्टैग लगे हैं।

 
वहीं रोहद टोल पर करीब 80 फीसदी वाहन फास्टैग वाले ही निकल रहे हैं। पर अभी भी 20 फीसदी वाहन ऐसे हैं जो फास्टैग नहीं ले पाए। इस कारण उनके लिए एक कैश काउंटर खोल दिया गया है। अगले कुछ दिनों में एक नकद लेन रहने से इस लेन पर वाहनों की लंबी लाइन लगने की आशंका है। जबकि अभी तक 20 प्रतिशत लेन बिना फास्टैग वाले वाहनों के लिए है।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने 14 जनवरी तक के लिए यह आदेश दिया हुआ था। अब भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने अपने टोल प्लाजा पर सिर्फ एक नकद लेन रखने का निर्णय लिया है। बदरपुर टोल प्लाजा की आठ लेन पर अब सिर्फ फास्टैग वाले वाहन चलेंगे, जबकि एक लेन नकद टोल चुकाने वाले वाहन चालकों के लिए आरक्षित रहेगी।

अगर स्कैनर में कोई खराबी आ जाती है इस स्थिति में चालक को कोई पैसा नहीं चुकाना होगा और वह फ्री में टोल से गुजर सकेगा। किसी प्रकार की परेशानी होने पर उपभोक्ता हेल्पलाइन नंबर 1033 पर कॉल कर सकते हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना