पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

स्कूल खुलने के बाद सैर-सपाटे के लिए विदेश नहीं जा सकेंगे गुरुजी, सिर्फ गर्मियों की छुटि्टयों में जाने की मिलेगी अनुमति

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो।
  • निदेशालय ने शैक्षणिक सत्र में विदेश जाने पर लगाई रोक, एक से दो माह के अवकाश के लिए आ रहे आवेदन
  • ऐसा निर्णय इसलिए किया गया शैक्षणिक सत्र में टीचर बच्चों की अच्छी तरह से पढ़ाई करा सकें
Advertisement
Advertisement

चंडीगढ़ (मनोज कुमार). प्रदेश में विदेश में सैर सपाटा करने के शौकीन गुरुजी अब अपनी मर्जी के अनुसार देश से बाहर नहीं जा सकेंगे। उनके लिए शिक्षा विभाग की ओर से गर्मियों की छुटि्टयों का वक्त तय कर दिया गया है। इससे पहले या बाद में किसी भी शिक्षक को घूमने के लिए विदेश जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी। विभाग की ओर से इसे लेकर सख्त दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। ऐसा इसलिए किया गया है तक शैक्षणिक सत्र में गुरुजी बच्चों की अच्छी तरह से पढ़ाई करा सके।


निदेशालय में साल भर में हजारों आवेदन आते हैं। इस वक्त भी विदेश घूमने की इजाजत के लिए ढेर लगे हुए हैं। किसी ने डेढ़ तो किसी ने एक और दो महीने के अवकाश की स्वीकृति मांगी हुई है। अधिकारियों का कहना है कि स्कूल खुलने के वक्त शिक्षकों के बाहर इतने लंबे समय तक जाने से बच्चों की पढ़ाई नहीं हो पाती।


इसलिए बेहतर रिजल्ट और बच्चों के भविष्य को लेकर यह निर्णय लिया गया है। ज्यादातर शिक्षक अमेरिका, कनाडा, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, इटली आदि देशों में घूमने के लिए जाते हैं। निदेशालय की ओर से इसे लेकर सभी जिला शिक्षा अधिकारियों, निदेशक एससीईआरटी, डाइट प्रिंसिपल समेत विभाग से जुड़े सभी अधिकारियों को पत्र भेज दिया है।

जानिए- स्कूलों में क्या है शिक्षकों के पदों की स्थिति
हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ के अनुसार प्रदेश में शिक्षकों के हजारों पद खाली है। इसलिए वैसे ही पढ़ाई प्रभावित होती है। ऐसे में शिक्षकों के लंबे अवकाश पर विदेश जाने से यह पढ़ाई और ज्यादा प्रभावित होती है। प्रदेश में जेबीटी/पीआरटी की 43851 पद स्वीकृत हैं। इनमें रेगुलर टीचर 31461 हैं। जबकि करीब 8 हजार गेस्ट हैं।


यानि 6300 से ज्यादा खाली हैं। जबकि विषय अध्यापकों के 35491 पदों में रेगुलर टीचर 22815 हैं। 4426 गेस्ट टीचर कार्यरत हैं। 8250 पद यहां भी रिक्त हैं। जबकि लेक्चरर के 39 हजार 187 पदों पर रेगुलर लेक्चरर 24 हजार 629 है। 1624 गेस्ट लेक्चरर हैं। इनके 12 हजार 934 पद खाली हैं। बात यदि कुल की करें तो एक लाख 27 हजार 652 में 31 हजार 63 पद फिलहाल खाली हैं।

इन मामलों में छूट: सेकंडरी एजुकेशन के निदेशक अमनीत पी कुमार ने बताया कि यदि किसी शिक्षक का विदेश जाना ज्यादा जरूरी है, तो उस मामले पर विचार किया जा सकता। क्योंकि कुछ शिक्षकों के बच्चे विदेश में पढ़ते हैं। ऐसे में यदि किसी आपातकाल में उनकी जरूरत होती है तो उन्हें नहीं रोका जाएगा। या फिर किसी को मेडिकल को लेकर जाना है तो उस केस को भी निदेशालय हरी झंडी दे सकता है।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप कई प्रकार की गतिविधियों में व्यस्त रहेंगे। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से मन में राहत रहेगी। धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में महत्वपूर्ण...

और पढ़ें

Advertisement