चंडीगढ़ / नोबल विद्वानों के योगदानों पर केंद्रीत एग्जिबीशन का वर्ल्ड प्रीमियर मोहाली में हुआ, मौजूद रहे 2014 के नोबल प्राइज विजेता कैलाश सत्यार्थी



The new travelling exhibition ‘For the greatest benefit to humankind’  inaugurated in Mohali.
The new travelling exhibition ‘For the greatest benefit to humankind’  inaugurated in Mohali.
The new travelling exhibition ‘For the greatest benefit to humankind’  inaugurated in Mohali.
X
The new travelling exhibition ‘For the greatest benefit to humankind’  inaugurated in Mohali.
The new travelling exhibition ‘For the greatest benefit to humankind’  inaugurated in Mohali.
The new travelling exhibition ‘For the greatest benefit to humankind’  inaugurated in Mohali.

  • एग्जिबीशन में दिखाया गया है कि नोबल विद्वानों ने किस तरह इस दुनिया को रहने के लिए बेहतर जगह बनाया है
  • नाबी के शिक्षकों के लिए एक विशेष सम्मेलन किया गया, विमर्श का मुद्दा था कि विद्यार्थी अपनी सर्वोच्च क्षमता कैसे हासिल करें

Dainik Bhaskar

Sep 11, 2019, 07:08 PM IST

मोहाली.  सर्वोपरि मानवता के हित’ पर ट्रेवलिंग एग्जिबीशन का उद्घाटन बुधवार को मोहाली स्थित नेशनल एग्री-फूड बायोटेक्नोलाजी इंस्टीट्यूट में किया गया। एग्जिबीशन में दिखाया गया है कि नोबल विद्वानों ने किस तरह इस दुनिया को रहने के लिए बेहतर जगह बनाया है। 

 

इस प्रदर्शनी में लोगों की जान बचाने, मानवता के लिए भोजन सुनिश्चित करने, लोगों को आपस में जोड़ने और धरती की सुरक्षा से जुड़ी इन नोबल विद्यवानों की खोजों और उपलब्धियों को दिखाया गया है।

 

यह वर्ल्ड प्रीमियर तीन दिवसीय कार्यक्रम नोबल प्राइज़ सीरीज़ इंडिया 2019 का हिस्सा है जो लुधियाना और दिल्ली में भी होगा। इसका मकसद पढ़ाने एवं सीखने के अहम मसलों को सामने रखना है।

 

इस दौरान शिक्षकों के लिए एक विशेष सम्मेलन किया गया। विमर्श का मुद्दा यह था कि विद्यार्थी अपनी सर्वोच्च क्षमता हासिल करें और इस उद्देश्य से कैसे उनकी शिक्षा में निरंतर सुधार किया जाए।

 

नोबल विद्वानों ने कैसे वह सब सीखा जिसके बल पर वे दुनिया को बदलने में कामयाब रहे, आज अध्यापन के लिए आवश्यक महत्वपूर्ण कौशलों और पद्धतियों के बारे में उनकी क्या राय है पर भी चर्चा की गई।

 

इस मौके पर 2012 में फिजिक्स नोबल प्राइज विजेता डॉ. सरोज हारोके, 2014 में नोबल प्राइज विजेता डॉ. कैलाश सत्यार्थी, पंजाब के स्वास्थय एवं परिवार कल्याण मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू, स्टॉकहॉम में नोबल प्राइज म्यूजियम के निदेशक एरिका लान्नर आदि मौजूद थे।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना