• Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • The Punjab Police, which had collected the 'goonda tax', now beat the Haryana Police with the 'goons' of the mining mafia.

चंडीगढ़ / माइनिंग माफिया को पकड़ने गई हरियाणा पुलिस पर हमला, तीन जवान घायल

माइनिंग में लगे लोगों ने पुलिस की निजी कार को तोड़ दिया माइनिंग में लगे लोगों ने पुलिस की निजी कार को तोड़ दिया
X
माइनिंग में लगे लोगों ने पुलिस की निजी कार को तोड़ दियामाइनिंग में लगे लोगों ने पुलिस की निजी कार को तोड़ दिया

  •  पुलिस स्टाफ ने अपनी कार छोड़ जान बचाने के लिए एक घर में ली शरण
  • 12 से ज्यादा हमलावरों ने डंडों से किया, रॉड और पत्थरों से तोड़ी कार

दैनिक भास्कर

Jan 18, 2020, 11:09 AM IST

डेराबस्सी. यहां शुक्रवार रात हरियाणा पुलिस के जवानों पर माइनिंग माफिया के लोगों ने हमला कर दिया। हमले में तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए। इन्हें जीएमसीएच में भर्ती कराया गया है।रामगढ़ पुलिस चौकी इंचार्ज राममेहर ने बताया कि पंचकूला कंट्रोल रूम से सूचना मिली थी, कि सेक्टर-27 और 28 की सीमा पर घग्गर नदी किनारे माइनिंग हो रही है। रात 1 बजे मौके पर पहुंचे तो वहां 15 से 20 ट्रैक्टर-ट्राॅलियां मौजूद थीं। माइनिंग कर रहे लोग पंजाब सीमा के गांव ककराली की ओर भाग गए। उन्हें पकड़ने के लिए जब पुलिस गई तो उन्होंने हमला कर दिया। पुलिसवालों को पीटा और उनकी कार तोड़ दी। पुलिसवालों ने एक घर में छुपकर जान बचाई।

मामले में 12 लोगों पर मामला दर्ज 

मुबारिकपुर पुलिस के एएसआई नरपिंदर ने बताया कि रामगढ़ चौकी इंचार्ज एएसआई राममेहर नेहरा के बयान पर 12 से अधिक हमलावरों के खिलाफ सरकारी ड्यूटी में बाधा डालने, कार तोड़ने और माइनिंग एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। आरोपियों में ककराली गांव के हरप्रीत सिंह, सोनू और मनी हैं। रेत से भरा ट्रैक्टर-ट्राॅली छोड़ने वाले और एक बोलेरो गाड़ी के अज्ञात चालक पर भी केस दर्ज किया गया है। पुलिस ने ट्रैक्टर ट्रॉली और इंचार्ज राममेहर की कार कब्जे में ले ली है।

रामगढ़ चौकी इंचार्ज राम मेहर अपने साथ राजवीर और सिऊ सिंह नामक दो एसपीओज को साथ लेकर अपनी ऑल्टो कार में ककराली गांव के पास घग्गर किनारे गए थे। उन्हें एक ट्रैक्टर-ट्रॉली आती दिखाई दी। वे उसे रोकते कुछ लोगों ने ईंट-पत्थर और डंडे लेकर उन पर हमला कर दिया। वर्दी में होते हुए भी उन्हें कार छोड़कर मौके से भागना पड़ा। राम मेहर ने बताया कि पंजाब पुलिस को जानकारी दी थी, लेकिन पुलिस ने आने में देरी कर दी। जब तक पुलिस आती उससे पहले ही हमारी टीम पर माफिया के गुंडों ने हमला कर दिया।

पुलिसवाले जान बचाने के लिए अपनी कार छोड़कर मौके से भागे और गांव में करनैल सिंह के घर में जाकर शरण ली। बाद में पंजाब पुलिस यहां पहुंची और हरियाणा पुलिस को बाहर निकाला।

गांववाले बोले-सिविल वर्दी में थे, हमने सोचा चोर हैं...

माइनिंग के आरोपों से बदनाम गांव ककराली में लोग वीरवार रात हुए हंगामे के बारे में कुछ भी बताने को तैयार नहीं। कुछ लोगों ने बताया कि हरियाणा पुलिस ने गांव में आकर मनी नामक युवक की जमकर पिटाई की। पुलिस सिविल वर्दी में और प्राइवेट कार में थी। गांव में चोरों का खौफ है। हरियाणा पुलिस वाले इसी का शिकार बने। पुलिसवाले भाग गए, लेकिन लाेगों ने गुस्सा कार पर निकाला।

पंजाब पुलिस नहीं करती मदद, माफिया यहीं हो रहा सक्रिय...

जब भी घग्गर में माइनिंग के बारे में पंचकूला पुलिस के कंट्रोल रूम पर कॉल आती है तो पंचकूला पुलिस मोहाली पुलिस के कंट्रोल रूम में कॉल कर टीम भेजने को कहती है। क्योंकि माफिया के लोग पंजाब एरिया से ही निकलते हैं, ऐसे में पंजाब पुलिस उन्हें काबू कर सकती है। लेकिन पंजाब पुलिस का सहयोग नहीं मिलता। वीरवार रात भी ऐसा ही हुआ।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना