हिमाचल / मनाली में मिनी कॉन्क्लेव के दौरान 2219 करोड़ के 93 एमओयू साईन किए



93 MOU's worth rupees 2219 crores signed in Mini Enclave organised in Manali.
93 MOU's worth rupees 2219 crores signed in Mini Enclave organised in Manali.
X
93 MOU's worth rupees 2219 crores signed in Mini Enclave organised in Manali.
93 MOU's worth rupees 2219 crores signed in Mini Enclave organised in Manali.

  • सीएम ने हिमाचल के उद्योगपतियों से अन्य राज्यों के उद्यमियों को समर्थन देने का आग्रह किया
  • सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार यहां प्राकृतिक पर्यटन के क्षेत्र को आगे बढ़ाना चाहती है

Dainik Bhaskar

Sep 11, 2019, 05:26 PM IST

मनाली. प्रदेश सरकार ने यहां बुधवार को आयोजित मिनी कॉन्क्लेव के दौरान 2219 करोड़ के 93 एमओयू साइन किए। इनमें 500 करोड़ के 63 एमओयू पर्यटन क्षेत्र के हैं। इस सम्मेलन में हिमाचल प्रदेश के अलावा बाहरी राज्यों के उद्योगपत्तियों ने भी भाग लिया।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने जर्मनी, नीदरलैंड और यूएई में तीन अंतरराष्ट्रीय रोड शो किए हैं। जबकि दिल्ली, बेंगलुरु,हैदराबाद, मुंबई,अहमदाबाद और चंडीगढ़ में छह घरेलू रोड शो किए हैं। इन रोड शोज में हिमाचल प्रदेश में निवेश करने के लिए व्यापारिक समुदाय से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है।

 

उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार यहां प्राकृतिक पर्यटन के क्षेत्र को आगे बढ़ाना चाहती है। योजना प्राचीन वातावरण, स्वच्छ हवा, शांतिपूर्ण वातावरण, सांस्कृतिक विविधता पर्यटन के क्षेत्र को बढ़ावा देने की । इसी तरह साहसिक पर्यटन मेंकार्य, वन्य जीवन, पर्यावरण, पर्यटन, आध्यात्मिक, स्मारक, धार्मिक, स्कीइंग आदि में भी अच्छी खासी संभावनाएं हैं।

 

वह बोले कि 41000 करोड़ रुपए के निवेश के साथ विभिन्न क्षेत्रों में अब तक कुल 419 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मजबूत और सक्षम नेतृत्व ने यह सुनिश्चित किया है कि राष्ट्र और राज्य प्रगति और समृद्धि के रास्ते पर आगे बढ़ें।

 

मनाली में आयोजित ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के मिनी कॉन्क्लेव का उद्देश्य राज्य के उद्यमियों और व्यापारियों की समस्याओं को सुनना और उनका निवारण सुनिश्चित करना है ताकि वे ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट का अधिक से अधिक लाभ उठा सकें।

 

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि अन्य राज्यों से आने वाले निवेशक स्थानीय उद्यमियों के सक्रिय समर्थन के बिना निवेश नहीं कर पाएंगे क्योंकि उन्हें व्यापार करने के लिए उनके समर्थन की आवश्यकता होगी।

 

उन्होंने स्थानीय उद्यमियों से ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट का हिस्सा बनने और राज्य के विकास में अपना योगदान देने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार एमएसएमई क्षेत्र में निवेश आकर्षित करने के लिए प्रक्रिया को सरल बनाने पर विचार करेगी।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना