हिमाचल / दलाई लामा के अस्थायी निवास के पास मिला फोटो खींच रहा ड्रोन, अमेरिका से आया प्रोफेसर खींच रहा था सीनिक ब्यूटी



डेमो पिक्चर डेमो पिक्चर
X
डेमो पिक्चरडेमो पिक्चर

  • पूरे परिसर में किसी भी तरह के इलेक्ट्रॉनिक गैजेट, बैग व अन्य चीजों पर है रोक

Dainik Bhaskar

Oct 22, 2019, 03:03 PM IST

धर्मशाला.  तिब्बतियों के सर्वोच्च धर्मगुरु दलाई लामा के मैक्लोडगंज स्थित अस्थायी निवास स्थान के आस-पास के फोटो खींच रहे ड्रोन कैमरे को सुरक्षा बलों ने कब्जे में लेकर जांच के लिए फोरैंसिक लैब भेजा है। इसे सुरक्षा में एक बड़ी चूक माना जा रहा है।

 

इससे पहले पिछले साल 29 सितंबर को दलाई लामा के मैक्लोडगंज स्थित अस्थायी निवास स्थान के साथ लगते नामग्याल बौद्ध मठ के एक कमरे के बाहर इलेक्ट्रॉनिक गैजेट मिला था। इसे भी सुरक्षा में एक बड़ी चूक माना गया था।

 

मिली जानकारी के मुताबिक दलाई लामा के अस्थायी निवास स्थान के आस-पास हाई सिक्योरिटी क्षेत्र में अमेरिकी प्रोफेसर जोश इगनैशियो कार्वेला ने होटल नोरबू हाउस से ड्रोन उड़ा दिया। मंदिर के ऊपर ड्रोन उड़ता देख सुरक्षा बलों के होश उड़ गए।

 

सुरक्षा बलों ने ड्रोन को तुरंत कब्जे में ले लिया। पड़ताल करने पर पता चला दलाई लामा मंदिर के ऊपर ड्रोन एक अमेरिकन प्रोफेसर ने होटल नोरबू हाउस से उड़ाया है। अमेरीकी प्रोफेसर अपने ग्रुप के साथ नोरबू हाउस में रह रहा था।

 

पुलिस को दिए बयान में अमेरिकी प्रोफेसर ने बताया कि वो अपने ग्रुप के साथ दलाईलामा से मिलने आया था। अमेरिकी प्रोफेसर को दलाई लामा से मिलने के लिए 23 अक्टूबर का समय मिला था।

 

पुलिस पूछताछ में अमेरिकी नागरिक ने बताया कि वह धर्मशाला की सीनिक ब्यूटी को अपने कैमरे में कैद करना चाहते थे। इसलिए उन्होंने ड्रोन उड़ाया। अमेरिकी प्रोफेसर ने कहा कि उसे बिना अनुमति के ऐसे इलेक्ट्रॉनिक गैजेट का इस्तेमाल नहीं करने संबंधी जानकारी नहीं थी।

 

उसे पता नहीं था कि यह प्रतिबंधित क्षेत्र है। पुलिस ने ड्रोन के साथ अमेरिकी नागरिक का मोबाइल फ़ोन भी जब्त कर लिया है। एएसपी दिनेश कुमार ने कहा कि अमेरिकी नागरिक ने प्रतिबंधित क्षेत्र में ड्रोन उड़ाया था।

 

ड्रोन मे लगाए मोबाइल से अमेरिकी नागरिक दलाई लामा के अस्थायी निवास स्थान के आसपास के वीडियो शूट करने के साथ फोटो खींच रहा था। पुलिस ने अमेरिकी नागरिक से पूछताछ की है। ड्रोन और मोबाइल को कब्जे में ले लिया गया है। ड्रोन कैमरे को जांच के लिए फोरैंसिक जांच में भेजा है।


भारत सरकार करती है थ्री-लेअर सिक्युरिटी की मॉनिटरिंग : दरअसल दलाई लामा की सुरक्षा की जिम्मेदारी भारतीय विदेश मंत्रालय व गृह मंत्रालय द्वारा मॉनिटर की जाती है। वर्तमान में दलाई लामा की सुरक्षा तीन स्तरीय है, जिसमें हिमाचल पुलिस की द्वितीय सशस्त्र वाहिनी के डीएसपी के अधीनस्थ 108 पुलिस कर्मचारी 24 घंटे दलाई लामा की सुरक्षा में तैनात हैं। इसके अतिरिक्त केंद्रीय तिब्बती प्रसाशन के सुरक्षा विभाग का सुरक्षा घेरा रहता है व केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारी तैनात हैं। हर प्रवेश द्वार पर डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर (स्कैनर) लगे हुए हैं, जहां से हर आगुन्तक की गहनता से जांच करने के बाद ही प्रवेश की अनुमति दी जाती है। इस पूरे परिसर में किसी भी तरह के इलेक्ट्रॉनिक गैजेट, मोबाइल फोन, बैग व अन्य सामग्री ले जाने पर प्रतिबंध है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना