सजा / नाबालिगा के साथ दुराचार मामले में अरुण व मीनाक्षी को 7-7 साल का कठोर कारावास

डेमो पिक्चर डेमो पिक्चर
X
डेमो पिक्चरडेमो पिक्चर

  • युवक ने युवती की मदद से लड़की को बनाया था अपनी हवस का शिकार

दैनिक भास्कर

Dec 07, 2019, 12:08 PM IST

बिलासपुर. एक नाबालिगा को बहला-फुसलाकर अपने घर ले जाकर उसके साथ दुराचार करने के मामले में जिला सत्र एवं विशेष न्यायाधीश राकेश चौधरी की अदालत ने आरोपी तथा उसका साथ देने वाली युवती को अभियुक्त करार दिया है।

अदालत ने दोनों को कठोर कैद के साथ ही जुर्माने की सजा भी सुनाई है। अभियुक्त अरुण पहले से ही न्यायिक हिरासत में है। सह अभियुक्त मीनाक्षी जमानत पर थी। अदालत के फैसले के बाद उसे भी हिरासत में ले लिया गया है।

जिला न्यायवादी एवं विशेष लोक अभियोजक विनोद भारद्वाज ने बताया कि 29 जुलाई 2017 को तलाई थाना में एक महिला द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार उसकी बेटी काॅलेज जा रही थी। इसी दौरान नैनो कार लेकर आए अरुण नामक युवक ने गाड़ी रोकी। उस कार में मीनाक्षी भी बैठी थी।

काॅलेज तक लिफ्ट देने की बात कहकर अरुण उसकी बेटी की मर्जी के खिलाफ उसे अपने घर ले गया। वहां मीनाक्षी रसोईघर से चाय बनाकर लाई। उसने अरुण को चाय का कप थमाने के साथ ही स्टीरियो भी आॅन कर दिया। उसके बाद वह बाहर निकल गई और दरवाजा बाहर से बंद कर दिया।


कमरे में अरुण ने नाबालिगा के साथ गलत काम करने लगा। नाबालिगा चिल्लाती रही, लेकिन स्टीरियो के तेज साउंड की वजह से उसकी आवाज ज्यादा दूर तक नहीं जा पाई। अरुण ने नाबालिगा की अस्मत लूटने के बाद उसे छोड़ा। जब वह रोती हुई बाहर निकली तो मीनाक्षी वहां घास काट रही थी। बाद में उसने घर पहुंचकर परिजनों को आपबीती सुनाई तो उन्होंने तलाई थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाई।


अदालत में मामले की पैरवी जिला न्यायवादी विनोद भारद्वाज ने की। अभियोजन पक्ष की ओर से 24 गवाह पेश किए गए। गवाहों के बयान और विनोद भारद्वाज के तर्कों के आगे बचाव पक्ष की दलीलें नकार दी गई। अदालत ने पोक्सो एक्ट की धारा-4 के साथ ही आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत अभियुक्त अरुण को कुल 7 साल के कठोर कारावास और 12,250 रुपये जुर्माने तथा मीनाक्षी को 7 साल की कठोर कैद के साथ 4100 रुपए जुर्माने की सजा सुनाई।

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना