हिमाचल / शिक्षक संगठनों के आगे फिर झुका विभाग, सर्दी की छुट्टियां 26 दिसंबर से 4 जनवरी तक ही होंगी

हिमाचल में 26 से छुटि्टया। डेमो फोटो हिमाचल में 26 से छुटि्टया। डेमो फोटो
X
हिमाचल में 26 से छुटि्टया। डेमो फोटोहिमाचल में 26 से छुटि्टया। डेमो फोटो

  • पहले विभाग ने 22 से 31 दिसंबर तक छुट्टियों की अधिसूचना जारी की थी
  • संगठनों के दबाव में किया बदलाव

दैनिक भास्कर

Dec 22, 2019, 11:34 AM IST

हमीरपुर. शिक्षक संगठनों के दबाव के आगे सरकार और विभाग एक बार फिर झुक गया है। विभाग ने शीतकालीन छुट्टियों के एक दिन पहले जारी की गई अधिसूचना को वापस लेकर नई अधिसूचना जारी कर दी है। अब ये छुट्टियां 22 से 31 दिसंबर के बजाय, 26 दिसंबर से 4 जनवरी तक घोषित की गई हैं।

शुक्रवार को जो नोटिफिकेशन की गई, उसके मुताबिक अब छुट्टियां 10 दिन की रहेंगी। 25 दिसंबर को अवकाश तथा 5 जनवरी को रविवार की वजह से यह छुट्टियां अध्यापकों के हित में तो हैं, मगर स्टूडेंट्स के लिए नुकसानदेह साबित होंगी। क्योंकि शनिवार को जिस समय नई नोटिफिकेशन छुट्टियों की स्कूलों तक पहुंची, तब तक बच्चे स्कूल से जा चुके थे।

उन्हें 22 दिसंबर से छुट्टियों का फरमान सुनाकर एक तारीख को आने का आदेश दिया गया था। मगर लगातार दो दिनों से इस ऊहापोह के बीच टीचर्स के छुट्टियों के प्रति मोह का अच्छा खासा खुलासा हुआ है। क्योंकि सरकारी स्कूलों में बच्चों को एसएमएस से संदेश भेजने की प्राइवेट स्कूलों की तरह कोई व्यवस्था तो है नहीं।

ऐसे में अब सोमवार को बच्चे स्कूल आएंगे, ऐसी उम्मीद कम ही है। वैसे भी, यदि वे आते भी हैं तो मंगलवार तक आएंगे और बुधवार से फिर छुट्टियां हो जाएंगी। ऐसे में टीचर तो आएंगे, लेकिन बच्चे जब नहीं आएंगे, तो टीचर्स के आने का फायदा आखिर इस व्यवस्था से क्या होगा। क्योंकि उन्हें तो शरदकालीन छुट्टियां कह कर घर भेज दिया गया है। इस पर भी सवाल तो खड़े हो ही रहे हैं।

साल में टीचर्स को होेती हैं 52 दिन की छुटि्टयां
दरअसल में शिमला में टीचर्स यूनियन से जुड़े नेताओं ने शिक्षा मंत्री और डायरेक्टर कार्यालय को जिस अंदाज में छुट्टियों के शेड्यूल में बदलाव करने को लेकर घेर रखा था यह उसी का नतीजा है कि इनमें बदलाव हुआ है। वजह यह है कि जनवरी से दिसंबर तक टीचर्स को स्कूलों में 52 दिन का अवकाश रहता है जिनमें ग्रीष्मकालीन अवकाश 26 जून से 2 अगस्त तक 38 दिन का, दीपावली अवकाश 25 से 29 अक्टूबर तक 5 दिन का और सर्द कालीन अवकाश 26 से 31 दिसंबर तक 6 दिन का होना था।

कुल मिलाकर 49 दिन बन रहे थे जबकि टीचर्स को 52 दिन की छुट्टियां चाहिए थी इसे लेकर 2 माह पहले हिमाचल राजकीय अध्यापक संघ ने सरकार से इस शेड्यूल को बढ़ाने की मांग की थी लेकिन शिक्षा विभाग की खामी भी देखिए की छुट्टियां 22 दिसंबर से होनी थी और नोटिफिकेशन 20 को जारी की गई जब दबाव पड़ा तो अगले दिन फिर नई नोटिफिकेशन जारी हुई इस मामले को लेकर शिक्षा विभाग को शाबाशी तो कोई नहीं दे रहा इस मामले में फजीहत ही मानी जा रही है।

अब 52 के बजाय 56 दिन की छुट्टियों का कैलेंडर हुआ तैयार
अब असल समस्या यह है कि 52 के बजाए 56 दिन की छुट्टियों का कैलेंडर तैयार हो गया है। क्योंकि री-शेड्यूलिंग के कारण यह नई व्यवस्था जिनमें चार छुट्टियां अगले साल की थीं, इसी साल के शेड्यूल में ले ली गई हैं। उन्हें कैसे एडजस्ट किया जाएगा? इस बारे में कोई जानकारी नहीं है।

मतलब साफ है कि अगले साल भी 52 ही छुट्टियां और मिलेंगी। जबकि शरद कालीन छुट्टियों में जो 4 दिन की छुट्टियां अभी जोड़ी गई हैं, उन्हें उसमें शामिल नहीं किया जाएगा। इसीलिए फायदा टीचर्स को ही हुआ है। उधर प्राइवेट स्कूलों ने तो बच्चों को मोबाइल के जरिए सूचना भेजकर सोमवार को बुला लिया है। मगर सरकारी स्कूलों में बच्चे आखिर कैसे पहुंचेंगे? इस पर सवाल खड़ा हो गया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना