हिमाचल / स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी पुराना स्टेशन करें ज्वाइन नहीं तो जनवरी महीने से बंद होगा वेतन: प्रदेश सरकार

सिंबोलिक फोटो सिंबोलिक फोटो
X
सिंबोलिक फोटोसिंबोलिक फोटो

  • सैकड़ों कर्मचारियों पर मनमानी करने की गिर सकती है गाज
  • पैरा मेडिकल से लेकर मिनिस्ट्रियल स्टाफ तक दायरे में

दैनिक भास्कर

Jan 20, 2020, 01:28 PM IST

हमीरपुर. डेपुटेशन पीरियड खत्म हो चुका है, तो पुराना स्टेशन ज्वाइन कर लो। नहीं तो जनवरी महीने से ही वेतन बंद हो जाएगा। सरकार ने आदेश जारी कर दिए हैं। यदि कर्मचारियों का डेपुटेशन पीरियड जो इसी महीने की 14 तारीख को खत्म हो गया है और मनमानी कर उसी स्टेशन पर डटे रहे तो जहां वेतन रुकेगा, वहीं उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई भी होगी।

स्वास्थ्य निदेशालय की ओर से पत्र संख्या एचएफडब्ल्यू -एच 1 वी 6, 143/91 के तहत राज्य के सभी जिलों को इस बारे निर्देश जारी हो गए हैं। इनमें साफ कहा गया है कि सभी डीडीओ को यह देखना होगा कि संबंधित कर्मचारी ने अॉरिजनल स्थान पर ज्वाइन किया है या नहीं, यदि नहीं किया होगा, तो उसके इसी महीने से वेतन न बनाने के निर्देश जारी किए गए हैं।

विभाग के सैंकडों कर्मचारी इस समय डेपुटेशन पर दूसरे स्थानों पर हैं। इसी कारण कई अस्पतालों या कार्यालयों में तो उनकी कमी के कारण उनके पुराने स्टेशनों पर ही कार्य भी प्रभावित होता है। लोगों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है।

अब इन आदेशों के बाद उन डेपुटेशन पर जाने वाले कर्मचारियों में जरूर हडकंप की स्थिति बनने लगी है, जो मनचाहे स्टेशनों पर अपने डेपुटेशन के आदेश करवाते तो एक या दो महीने के लिए हैं, लेकिन वह वहां सालों टिके रहते हैं।


वहीं सभी सीएमओ को एक अन्य आदेशों के तहत हेल्थ सेफ्टी एवं रेगूलेशन निदेशालय की ओर से भी पत्र जारी हुआ है, जिसमें कहा गया है कि सरकार के पास सूचना मिली है कि कुछ अधिकारी कर्मचारी हेडक्वार्टर स्टेशनों को बिना परमिशन या बिना स्टेशन लीव दिए ही स्टेशनों को छोड़ कर जा रहे हैं।

कर्मचारियों या अधिकारियों के लिए संबंधित स्टेशन से सरकार की ओर से दायरा तय किया गया है, जहां तक वह छुट्‌टी पर जा सकते हैं, लेकिन कुछ कर्मचारी तो 8 किमी के दायरे के बाहर जाते हैं और न तो इसकी सूचना वह संबंधित अधिकारी को देते हैं और न ही स्टेशन लीव लेते हैं। अब उन्हें बाकायदा संबंधित अधिकारी के समक्ष दायरे से बाहर जाने के लिए स्टेशन लीव देने के साथ इसकी सूचना भी देनी होगी नहीं तो कर्मचारियों के खिलाफ भी कार्रवाई हो सकेगी।

आदेशों के तहत सभी जिलों के पैरा मेडिकल कर्मचारी, नर्सिंग स्टाफ, पब्लिक हेल्थ स्टाफ और मिनिस्ट्रियल स्टाफ जो टेंपरेरी तौर पर दूसरे स्थानों पर डेप्यूट किए जाते हैं। जिनका डेपूटेशन पीरियड 14 जनवरी को समाप्त हो चुका है, उन्हें उस स्थान पर ज्वाइन करना होगा, जहां उनका ऑरिजनल पोस्टिंग है।

यहां महत्वपूर्ण बात तो यह भी है कि कई कर्मचारी तो एक या दो महीने के लिए डेपुटेशन पर दूसरे स्थानों पर जाते हैं और कई तो महीनों और कई तो सालों उसी स्थान पर डटे रहते हैं। इस कारण कई स्थानों पर तो पैरा मेडिकल या क्लर्कों की कमी के कारण उनके अॉरिजनल स्थानों पर ही कामकाज प्रभावित भी होने लगता है, लेकिन वह वहां आने से कतराते हैं।

ऐसे में वहां कर्मचारियों की कमी का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ता रहा है। देखने में आया है कि कुछ कर्मचारी तो जुगाड़ से अपने घरों के पास ही डेपूटेशन आधार पर चले जाते हैं। अब इन आदेशाें के तहत उन्हे पुराने स्टेशनों पर इसी महीने ज्वाइन करना होगा, नहीं तो जनवरी महीने का वेतन जो फरवरी में उन्हें मिलना है वह रुक जाएगा। चूंकि उनका वेतन पुराने स्टेशनों से ही जारी हाेता है, ऐसे में वहां के जो भी डीडीओ होंगे, जो वेतन बनाएंगे, वह उन्हें ज्वाइन न करने की स्थिति में उनका वेतन रोक सकेंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना