हिमाचल / तत्कालीन आईजी जैदी ने मुझे जबरन शराब-गांजा पिलाया था; फिर बांधकर पीटा ताकि मैं जुर्म कबूल लूं: आशीष



डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स कॉम्पलेक्स(फाइल फोटो) डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स कॉम्पलेक्स(फाइल फोटो)
X
डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स कॉम्पलेक्स(फाइल फोटो)डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स कॉम्पलेक्स(फाइल फोटो)

  • सूरज की मौत का मामला पूर्व आरोपी आशीष ने दी गवाही
  • कहा-पुलिस ने पीठ पर इतने डंडे मारे थे कि मैं आज भी ढंग से चल नहीं पाता हूं

Dainik Bhaskar

Oct 10, 2019, 12:18 PM IST

शिमला/ चंडीगढ़. शिमला के गुड़िया रेप और मर्डर केस में एक आरोपी सूरज की पुलिस कस्टडी में हुई मौत के मामले का ट्रायल चंडीगढ़ सीबीआई कोर्ट में चल रहा है। इस मामले मे शिमला के आशीष चौहान की गवाही हुई।

 

आशीष को पहले पुलिस ने गुड़िया केस में आरोपी बनाया था लेकिन बाद में कोर्ट ने उसे डिस्चार्ज कर दिया था। आशीष ने कोर्ट में कहा कि जब पुलिस उसे पकड़कर ले गई थी तब उसे बुरी तरह टॉर्चर किया गया था।

 

उसे बांधकर पीटा गया था ताकि वह जुर्म कबूल कर ले। पुलिस ने पीठ पर डंडे मारे, जिनकी वजह से वह आज भी ढंग से चल नहीं पाता है। आशीष ने शिमला के तत्कालीन आईजी और सूरज मर्डर केस में आरोपी जहूर एच.जैदी के खिलाफ भी गवाही दी।

 

आशीष ने कहा कि 9 जुलाई 2017 को पुलिस उसे घर से उठाकर ले गई। जहां उससे मारपीट की गई, वहां जैदी भी माैजूद थे। उन्होंने ही उसे पहले जबरदस्ती शराब पिलाई और फिर गांजा। जैदी ने खुद भी गांजा पिया।

 

आशीष ने कोर्ट में जैदी की पहचान भी कर ली। आशीष ने कहा कि पुलिस ने उसे रस्सी से बांध कर बुरी तरह पीटा और जुर्म कबूल करने के लिए दबाव बनाया थ। अब अगली सुनवाई 24 अक्टूबर को होगी।


क्यों अहम है ये गवाही: आशीष की गवाही इसलिए अहम है क्योंकि जैदी समेत 9 पुलिसवालों पर आरोप कि उन्होंने कस्टडी में सूरज के साथ थर्ड डिग्री टॉर्चर किया। उसके साथ बुरी तरह मारपीट की जिस वजह से उसकी मौत हुई। इस मामले में 9 पुलिसवालों को सीबीआई ने रिमांड पर लिया था। वहां से उन्हें ज्यूडिशियल कस्टडी में भेज दिया। पूर्व आईजी जैदी, पूर्व एसपी डीडब्ल्यू नेगी और पूर्व डीएसपी मनोज जोशी फिलहाल जमानत पर हैं। जबकि अन्य छह जेल में हैं। अगर यह पुष्ट हो जाता कि जैदी समेत अन्य पुलिसवालों ने आशीष से मारपीट की थी तो सूरज की मौत से भी जल्द पर्दा उठ सकता है और आरोपियों को सजा हो सकती है।


एसएचओ समेत दो की जमानत अर्जी खारिज: पूर्व एसएचओ राजिंदर सिंह, कांस्टेबल रंजीत और रफी मोहम्मद की जमानत अर्जी कोर्ट ने खारिज कर दी। तीनों ने याचिका में कहा था उन्हें सीबीआई ने फंसाया है। वहीं, उन्होंने ये भी कहा कि इस केस में तीन आरोपी जहूर जैदी, मनोज जोशी और डीडब्ल्यू नेगी जमानत पर हैं। इसलिए उन्हें भी जमानत दी जाए।
 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना