हिमाचल / 19 से शुरू होने वाले 11 दिन के विस सत्र में पूछे जाएंगे 859 सवाल



Himachal assembly session will run from 19 to 31 this time
X
Himachal assembly session will run from 19 to 31 this time

  • सबसे ज्यादा सवाल सड़क, स्कूलों में खाली पद, पानी व सड़क दुर्घटनाओं से जुड़े होंगे
  •  

Dainik Bhaskar

Aug 16, 2019, 03:37 PM IST

शिमला. हिमाचल प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र 19 अगस्त से शुरू हाेगा। बजट सत्र में पहली बार 11 बैठकें हाेगी। सत्र में 859 सवाल पूछे जाएंगे। इसके अलावा कई ज्वलंत मामलों पर चर्चाऐं भी होंगी। विधानसभा अध्यक्ष डाॅ. राजीव बिंदल ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सत्र के लिए सारी तैयारियां पूरी हाे चुकी है। विधानसभा में सबसे ज्यादा सवाल सड़क, स्कूलों में खाली पद, पानी और सड़क दुर्घटनाओं से जुड़े सवाल पूछे जाएंगे।

 

मंत्री और विधायकों की सिटिंग में बदलाव

विधानसभा सत्र में इस बार बैठने की व्यवस्था बदल दी गई है। प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा की तरफ से पूर्व मंत्री किशन कपूर और पूर्व विधायक सुरेश कश्यप लोकसभा चुनाव जीतने के बाद सांसद बने है। इसी तरह भाजपा टिकट से विधानसभा चुनाव जीते अनिल शर्मा अपने बेटे आश्रय शर्मा को मंडी संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस से टिकट मिलने के कारण मंत्री पद से इस्तीफा दे चुके हैं। यानी सत्तापक्ष में नए सिरे से मंत्रियों से लेकर विधायकों के बैठने का विधानसभा में प्रावधान रहेगा।
 

फिर उठाए जाएंगे पुराने मुद्दे
विधानसभा मानसून सत्र के दौरान पुराने मुद्दे फिर से जिंदा होकर बरसेंगे। बजट सत्र के कई स्थगित सवाल मानसून सत्र में पूछे जाएंगे। ये ऐसे सवाल हैं, जो फरवरी माह में हुए बजट सत्र के दौरान नहीं पूछे गए थे। इसके मद्देनजर विधानसभा सचिवालय ने ऐसे सवालों को मानसून सत्र में पूछे जाने के बारे में अधिसूचना भी जारी कर दी है। स्थगित सवाल सिर्फ विपक्ष के ही नहीं, बल्कि सत्तापक्ष के विधायकों के भी हैं। ऐसे कई ज्वलंत सवाल इस बार के मानसून सत्र में गूंजेंगे, जिसका जवाब सरकार देगी। प्रदेश सरकार द्वारा वाहन खरीद, अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सेवाविस्तार, आउटसोर्स, विदेश यात्रा सहित कई ऐसे सवाल पूछे जाएंगे।
 

पहली बार सत्र में आएंगे इतने अधिक सवाल
विधानसभा मानसून सत्र सोमवार 19 अगस्त से शुरू हाेकर 31 अगस्त तक चलेगा। इसमें कुल 11 बैठकें हाेगी। 22 व 29 अगस्त को दो दिन गैर सरकारी सदस्य कार्य दिवस यानी प्राइवेट मेंबर-डे के लिए रखे गए हैं। इस बार का मॉनसून सत्र लंबा चलेगा जिससे पहले एक सप्ताह तक ही यह सत्र चलता था, लेकिन इस बार 11 बैठकों के चलते यह दो सप्ताह तक चलेगा। प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल ने विधायकों से सत्र को सफल बनाने के लिए सहयोग देने को कहा है।

 

इसलिए लंबा चलेगा माॅनसून सत्र
लोकसभा चुनाव के कारण पिछले बजट सत्र की बैठकें पूरी नहीं हुई थीं, तो इसकी भरपाई के लिए मानसून सत्र को लंबा खींचा गया है। आगामी विधानसभा उपचुनाव से पहले हो रहा यह सत्र मुख्य विपक्षी दल में नई ऊर्जा के संचार का बहाना भी बनेगा। मानसून सत्र इन्हें सदन में सरकार को घेरने के बहाने खुद को तरोताजा करने का मौका देगा।

 

कांग्रेस इन मुद्दों पर घेरेगी
कांग्रेस विधायक इस दौरान प्रशासनिक ट्रिब्यूनल को बंद करने, सरकारी विभागों में खरीद में गड़बड़ी, स्कूलों के लिए वर्दी के बाद लैपटॉप खरीद में भी देरी, ग्लोबल इन्वेस्टर मीट पर श्वेत पत्र, धारा 118 के नियमों में संशोधन, अवैध खनन के बढ़ते मामलों, कानून-व्यवस्था, नशे के बढ़ते कारोबार और बरसात से हुए नुकसान जैसे मामलों को सदन में उठाएंगे। हालांकि पहले दिन की कार्यवाही को शोकोद्गार के साथ शुरू होगी, जिसमें विधानसभा के दिवंगत सदस्यों को श्रद्धांजलि दी जाएगी।
 

18 अगस्त को बनेगी दोनों दलों की रणनीति
19 अगस्त से शुरू होने वाले विधानसभा मानसून सत्र के लिए सत्तापक्ष और विपक्ष 18 अगस्त को रणनीति बनाएगा। भाजपा विधायक दल की बैठक सदन के नेता एवं मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में होगी, जबकि कांग्रेस विधायक दल की बैठक नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री की अध्यक्षता में विधानसभा के ऑपोजिशन लॉज में होगी।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना