फैसला / प्रदेश में 10 से कम स्टूडेंट्स वाले स्कूल अब नहीं किए जाएंगे बंद



Himachal will not close schools with less than 10 students
X
Himachal will not close schools with less than 10 students

  • कठिन भौागोलिक परिस्थितियाें को देखते हुए लिया गया फैसला
  • जहां पर सड़क की सुविधा है वहां स्कूल मर्ज करने के बारे में पूछा जाएगा

Dainik Bhaskar

Aug 16, 2019, 04:17 PM IST

शिमला. 10 व इससे कम स्टूडेंट स्ट्रेंथ वाले 299 सरकारी स्कूल बंद करने को लेकर राज्य सरकार पसोपेश में फंस गई है। पहले सरकार इन सभी स्कूलों काे बंद करने की तैयारी में थी। प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने स्कूल बंद करने या खुले रखने को लेकर सुझाव मांगे थे, लेकिन अंतिम फैसला नहीं हो सका है। अब शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा है कि 10 से कम स्टूडेंट स्ट्रेंथ वाले हर स्कूल काे बंद नहीं किया जाएगा।

 

उन्होंने कहा कि प्रदेश की भौगौलिक परिस्थितियां ऐसी है कि स्ट्रेंथ भले ही कम हाे वहां पर स्कूल खाेलना जरूरी है। उन्हाेंने कहा कि इसकाे लेकर नए सिरे से रिपाेर्ट तैयार की जा रही है।

 

जन प्रतिनिधि नहीं हैं स्कूल बंद करने के पक्ष में

राज्य सरकार ने 10 व इससे कम स्टूडेंट स्ट्रेंथ वाले स्कूलों काे मर्ज करने के लिए जन प्रतिनिधियों सहित आम जनता से राय मांगी थी। जन प्रतिनिधि व आम लाेग स्कूलों को बंद करने के पक्ष में नहीं है।

 

राज्य सरकार ने 10 से कम संख्या वाले 235 प्राइमरी और 64 मिडिल स्कूलों को मर्ज करने का निर्णय लिया था। प्रारंभिक शिक्षा विभाग ने स्कूल बंद करने की अधिसूचना जारी करने से पहले नोटिस निकालकर आम जनता से सुझाव और आपत्तियां मांगी थीं।

 

निदेशालय में पहुंचे अधिकांश सुझावों में स्कूलों को बंद न करने की वकालत की गई है। स्थानीय नेता नहीं चाहते हैं कि उनके एरिया के स्कूल बंद हों और जनता खफा हो जाए। इसलिए वे स्कूलाें का वजूद बनाए रखना चाहते हैंं।

 

शिक्षा मंत्री ने कहा कि जहां पर स्ट्रेंथ काफी ज्यादा कम है और वहां पर सड़क सुविधा है ताे सरकार वहां पर यातायात सुविधा मुहैया करवाने के लिए भी तैयार है। शिक्षा विभाग लाेगाें की राय पूछेगा कि वह क्या स्कूल काे मर्ज करने के लिए तैयार हैं। उसके बाद ही आगामी निर्णय लिया जाएगा।

 

सबसे ज्यादा मंडी में हैं कम संख्या वाले स्कूल
कम छात्रों की संख्या वाले स्कूलों की सबसे अधिक संख्या जिला मंडी में है। यहां एक से पांच विद्यार्थियों वाले 11 और छह से दस विद्यार्थियों वाले 51 प्राइमरी स्कूल हैं। एक से पांच विद्यार्थियों की संख्या के बिलासपुर में चार, चंबा तीन, हमीरपुर पांच, कांगड़ा 27, सिरमौर दो, शिमला पांच और सोलन में पांच प्राइमरी स्कूल हैं।

 

छह से दस विद्यार्थियों वाले बिलासपुर में 15, चंबा 17, हमीरपुर 20, कांगड़ा 18, कुल्लू एक, सिरमौर दो, शिमला 33, सोलन 13 और ऊना में चार प्राइमरी स्कूल हैं। एक से पांच विद्यार्थियों की संख्या के बिलासपुर में दो, चंबा तीन, हमीरपुर एक, कांगड़ा एक, मंडी दो, सिरमौर एक, शिमला नौ और सोलन में चार मिडल स्कूल हैं। छह से दस विद्यार्थियों वाले बिलासपुर में एक, चंबा तीन, हमीरपुर छह, कांगड़ा आठ, सिरमौर एक, शिमला 15 और सोलन में तीन मिडल स्कूल हैं।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना