परंपरा / नाहन में बसंत पंचमी पर नहीं, रक्षाबंधन पर होती है पतंगबाजी



Kites are flown on the occassion of Rakshabandhan in Nahan.
X
Kites are flown on the occassion of Rakshabandhan in Nahan.

  • आज भी जारी हैं, रियासत काल की रिवायतें
  • एक माह पहले ही शुरु हो जाती है पतंगबाजी की तैयारियां

Dainik Bhaskar

Aug 14, 2019, 03:47 PM IST

नाहन. शहर में रक्षा बंधन के मौके पर पतंगबाजी होती है। एक महीने पहले से ही शहर में पतंगबाजी शुरू हो जाती है। लोग घरों की छतों पर चरखी व डोर को लेकर व आकाश में भिड़ते पतंग दिखाई देते हैं।जैसे-जैसे रक्षाबंधन का त्यौहार नजदीक आता जा रहा है, लोगों के घरों छतों पर भीड़ बढ़ती जा रही है।

 

बता दें कि किसी दौर में पतंगबाजी नाहन का प्रमुख खेल हुआ करता था। नाहन के अलावा अन्य राज्यों से पतंगबाजी के धुरंधर यहां पर अपना जौहर दिखाने आते थे। रक्षा बंधन पर पतंगबाजी की प्रथा सिरमौर के राजाओं के समय से ही चली आ रही है। हालांकि अब आबादी बढऩे से पतंगबाजी के लिए उतनी जगह नहीं रह गई है।

 

लोग घरों की छतों पतंग उड़ाते हैं। जबकि पहले आबादी कम होने व व्यापक स्थान होने के कारण लोग पतंगबाजी का लुत्फ उठाते थे। नाहन शहर की दुकानों के बाहर तरह-तरह की पतंगे लोगों को लुभा रही है। बढिय़ा डिजाइन वाली पतंगे व चरखियों की बिक्री  हो रही है।

 

एक तरफ जहां रक्षाबंधन के अवसर पर दुकानदार विभिन्न प्रकार की राखियों से लोगों को लुभा रहे हैं, वहीं पतंगों की दुकानों पर भी कम भीड़ नहीं है। दोपहर बाद नाहन शहर में छतों पर लोगों की भीड़ उमडऩे लगती है। लोगों में पतंगबाजी का रोमांच चरम पर है।
 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना