हिमाचल / कुछ दिन ही याद रहा हादसों से मिला सबक, बसों में ओवरलोडिंग फिर शुरू



Lessons learnt from Banjar and Jhanjheri incidents were remembered only for few days, overloading in buses starts again.
Lessons learnt from Banjar and Jhanjheri incidents were remembered only for few days, overloading in buses starts again.
X
Lessons learnt from Banjar and Jhanjheri incidents were remembered only for few days, overloading in buses starts again.
Lessons learnt from Banjar and Jhanjheri incidents were remembered only for few days, overloading in buses starts again.

  • शिमला शहर के सभी रूटों पर बसों में भरे जा रहे हैं क्षमता से ज्यादा लोग
  • बंजार और झंझीड़ी हादसे के बाद जागे पुलिस-प्रशासन फिर सोए

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2019, 01:15 PM IST

शिमला. ओवरलोडिंग से होने वाले सड़क हादसों से भी सबक नहीं लिया जा रहा। हादसों के बाद कुछ दिनों तक ओवरलोडिंग करने पर पुलिस और परिवहन विभाग भी खूब एक्शन में दिखा। शहर में बसों के धड़ा-धड़ चालान किए और कुछ के परमिट रद्द करने की प्रक्रिया भी शुरू की गई।

 

लेकिन अब फिर शहर की परिवहन व्यवस्था उसी ढर्रे पर चलने लगी है। शिमला शहर में जमकर बसों में ओवरलोडिंग की जा रही है। बसों में लोगों को ठूंस-ठूंस कर भरा जा रहा है। प्रशासन इन बस वालों पर कार्रवाई करने की बजाए मूक दर्शक बना हुआ है।


कुल्लू के बंजार में बस हादसे की वजह ओवरलोडिंग ही थी। इस दर्दनाक हादसे के बाद प्रदेश के साथ-साथ शिमला में भी सरकारी मशीनरी ने बड़ी सक्रियता दिखाई। भारी संख्या में चालान किए गए। इसके कुछ समय तक निजी बस वालों में खौफ भी देखा गया।

 

लेकिन निजी बस वालों ने कुछ समय तक अपनी बसें कम चलाकर लोगों को परेशान करना शुरू कर दिया ताकि सरकार दबाब में आए। निजी बस वालों की इस रणनीति के बाद अब प्रशासन कार्रवाई करने में कोई ज्यादा रुचि नहीं दिखा रहा।

 

इसके बाद अब फिर से बसों में ओवरलोडिंग का दौर शुरू हो गया है। शिमला शहर के सभी रूटों पर बसों में क्षमता से ज्यादा लोग भरे जा रहे हैं। हालांकि नियमानुसार बसों में ओवरलोडिंग पर भारी जुर्माने का प्रावधान है और ऐसे बस ऑपरेटरों के परमिट तक रद्द किए जा सकते हैं।

 

परिवहन विभाग से लेकर ट्रैफिक पुलिस पर ओवरलोडिंग रोकने की जिम्मेवारी है। लेकिन ये दोनों अपनी जिम्मेवारी को नहीं निभा पा रहे। बसों में इस कदर भीड़ की जा रही है कि बीमार, बुजुर्गों और महिलाओं को इनमें सफर करना आसान नहीं रह गया।


स्टॉपेज पर फिर से लंबे समय तक रुक रही बसें निजी बस वालों की शिमला शहर में मनमानी फिर से शुरू हो गई है। अब बसें रूट में पड़ने वाले स्टापेज पर फिर से काफी समय तक रोकी जा रही है। ओल्ड बस स्टैंड से संजोली और न्यू शिमला, पंथाघाटी की ओर जाने वाली बसें टालैंड के पास लंबे समय तक खड़ी की जा रही हैं।

 

हालांकि कुछ समय तक पुलिस और परिवहन विभाग की सक्रियता के चलते टॉलैंड में बसों को अधिक समय तक रुकने नहीं दिया जा रहा था, लेकिन अब फिर से वहीं हालात हो गए हैं। छोटा शिमला स्टॉपेज पर भी संजौली की ओर जाने वाली बसों को काफी समय तक खड़ा किया जा रहा है ताकि बसों में ओवरलोडिंग की सके।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना