पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

3400 बीघा जमीन पर बनेगा मंडी एयरपोर्ट, हिमाचल सरकार और एयरपोर्ट अथॉरिटी के बीच करार

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली : हिमाचल सरकार और एएआई के बीच साइन हुआ एमओयू।
  • एयरपोर्ट पर पहले चरण में खर्च किए जाएंगे 2 हजार करोड़ रुपए
  • एयरपोर्ट अथॉरिटी-सरकार की 51-49% की हिस्सेदारी

शिमला. मंडी जिले की बल्ह घाटी के नागचला में बनने वाले ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे को लेकर बुधवार को नई दिल्ली में हिमाचल प्रदेश सरकार और एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एएआई)के बीच एमओयू साइन हो गया। केंद्र और हिमाचल सरकार की संयुक्त हिस्सेदारी में बनने वाले इस एयरपोर्ट के लिए अब प्रदेश सरकार को जमीन अधिग्रहण का काम शुरू करना होगा।


क्योंकि बुधवार को दिल्ली में साइन हुए एमओयू के मुताबिक एयरपोर्ट निर्माण के लिए जमीन अधिग्रहण की जिम्मेदारी पूरी तरह से सरकार की है। हिमाचल की ओर से डायरेक्टर टूरिज्म एंड सिविल एविएशन युनूस और एएआई के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर प्रोजेक्ट एचएस बलहाड़ा ने साइन किए। इस मौके पर एएआई के प्रेसिडेंट अरविंद सिंह भी मौजूद थे।
 
इस एयरपाेर्ट में 51 फीसदी हिस्सेदारी एएआई और 49 फीसदी शेयर हिमाचल या नोमिनेटेड एजेंसी का होगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का यह ड्रीम प्राेजेक्ट है। वे कई बार इस मुद्दे को केंद्र में उठा चुके हैं।

सीएम का ड्रीम प्रोजेक्ट है ये एयरपोर्ट
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का यह ड्रीम प्राेजेक्ट है। वे पिछले काफी समय से इस मसले काे केंद्र सरकार के समक्ष उठा रहे हैं। यह प्रदेश का सबसे बड़ा हवाई अड्डा हाेगा। प्रदेश में पर्यटन की दृष्टि से इस हवाई अड्डे काे महत्वपूर्ण है। शिमला और धर्मशाला की दूरी इस हवाई अड्डे से लगभग एक समान है।

जमीन एक्वायर करना सबसे बड़ी चुनौती: वीपी अग्रवाल
एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन वीपी अग्रवाल का कहना है कि एयरपेार्ट बनाने का काम पूरी तरह से जमीन एक्वायर करने पर निर्भर है। इसपर भारी रकम खर्च होगी। लागत कम रखने के लिए जरूरी है एयरपोर्ट को विभिन्न चरणों में डेवलप किया जाए। पहले चरण में इसे एयरबस 320 की उड़ान के हिसाब से तैयार किया जाए। जितनी जल्दी जमीन एक्वायर होगी, एयरपोर्ट का काम उतनी तेजी से पूरा हो जाएगा। हरियाणा के हिसार में भी एयरपोर्ट डेवलप किया जा रहा है। यहां ज्यादातर सरकारी जमीन है इसलिए इसके जल्दी तैयार होने की उम्मीद है। 
 

अब दो साल में जमीन अधिग्रहण का लक्ष्य
पहले चरण में 2 हजार करोड़ से 2400 मीटर लंबा रनवे बनाया जाएगा। अगले दो साल में जमीन के अधिग्रहण के काम काे पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।
 

ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट क्या होता है
ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट उस हवाई अड्‌डे को कहते हैं जहां जीरो से काम शुरू किया जाता है। यानी जहां पहले से कुछ भी मौजूद नहीं है, केवल खेत वगैरह हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि वालों से अनुरोध है कि आज बाहरी गतिविधियों को स्थगित करके घर पर ही अपनी वित्तीय योजनाओं संबंधी कार्यों पर ध्यान केंद्रित रखें। आपके कार्य संपन्न होंगे। घर में भी एक खुशनुमा माहौल बना ...

और पढ़ें