हिमाचल / एनआईटी सफाई कर्मी ने की आत्मदाह की कोशिश, बार बार ड्यूटी बदले जाने से परेशान था कर्मी



डेमो पिक्चर डेमो पिक्चर
X
डेमो पिक्चरडेमो पिक्चर

  • कंपनी और संस्थान पर लगाया प्रताड़ित करने का आरोप, तनावपूर्ण माहौल में पुलिस तैनात
  • कंपनी प्रबंधन ने कहा: ऐसा कदम किसी के हित में नहीं, बातचीत से सुलझाया जा सकता है समस्या का हल

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2019, 06:11 PM IST

हमीरपुर. बार-बार ड्यूटी यहां से वहां बदलने को लेकर प्रताड़ित किए जा रहे 15 साल पुराने एक सफाई कर्मचारी ने शनिवार सुबह राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक के बाहर खुद पर मिट्टी का तेल डालकर आत्मदाह करने की कोशिश की।

 

इससे पहले कि वे हाथ में पकड़े लाइटर से आग लगा लेता साथियों ने किसी तरह झपटकर उसकी जान बचा ली। घटना से संस्थान का माहौल काफी तनावपूर्ण हो गया और दर्जनों सफाई कर्मचारी मौके पर पहुंच गए।

 

मामले की सूचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर कर्मचारी को अपने घेरे में लिया और से सारी घटना को लेकर पूछताछ की। संस्थान में कार्यरत मोहनलाल का कहना था कि उसे बार-बार लंबे समय से संस्थान प्रबंधन और कंपनी मैनेजमेंट के अधिकारियों द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है। जिससे आहत होकर वे इस कदम को उठाने के लिए मजबूर हुआ।


बता दें कि सफाई व्यवस्था का ठेका एक प्राइवेट कंपनी को दिया गया है। मोहन लाल ने बताया कि पहले उसकी ड्यूटी डायरेक्टर के आवास पर लगाई गई थी लेकिन बाद में न जाने क्यों उसे वहां से बदलकर हॉस्टल में लगा दिया गया। वहां भी उसे बेवजह प्रताड़ित किया जा रहा था। उसने कभी ड्यूटी में कोताही नहीं बरती।

 

अपने ईपीएफ को लेकर डायरेक्टर को भी एक पत्र लिखा था। तब संस्थान के कुछ लोगों ने उसे डराया था कि उसने पत्र क्यों लिखा। उस पर दबाव डाला जा रहा है कि वे लिखित में दे, कि अब वे संस्थान में काम नहीं कर सकता है। किसी द्वारा उसकी बात न सुने जाने से मजबूरन खुद को आग लगाने जैसा कदम उठाना पड़ा है।


कंपनी के खिलाफ कर्मचारियों ने निकाली भड़ास: सफाई का काम इंप्रेशंस कंपनी कर रही है। इस समय कंपनी में 96 लोग हैं। कर्मचारियों का आरोप है कि उक्त कंपनी के तीन अधिकारी जो यहां तैनात हैं उन्हें आए दिन तंग करते हैं। उनके साथ दुर्व्यवहार किया जाता है मोहनलाल भी इसी व्यवस्था का शिकार हुआ है। कुछ कर्मचारियों से कंपनी के लोग दूसरी जगह पर भी काम करवा रहे हैं। उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है। कर्मचारी मानसिक दबाव में काम करते हैं। किसी के साथ कोई घटना हो जाए तो फिर इसकी जिम्मेदारी किसकी होगी।

ऐसा कदम किसी के हित में नहीं
वहीं इंप्रेशंस कंपनी के साइट इंचार्ज एके भारद्वाज ने कहा कि किसी भी सफाई कर्मचारी ने अपनी समस्या को लेकर लिखित में कोई भी पत्र कंपनी प्रबंधन को नहीं दिया है। अगर कहीं कोई समस्या है तो उसे बातचीत से ही सुलझाया जा सकता है। ऐसा कदम किसी के हित में नहीं है जो भी मामला होगा उसे हल कर लिया जाएगा।

 

पुलिस की तैनात: आत्मदाह करने की कोशिश की सूचना पुलिस को दी गई। एसएचओ संजीव गौतम ने पुलिस दल के साथ वहां मोहनलाल से इस सारी घटना को लेकर पूछताछ की। उसने जिन कपड़ों पर मिट्टी का तेल छिड़का था उन्हें भी खुलवा कर बदलवाया गया। उसके बयान घटना को लेकर मौके पर दर्ज किए गए। दर्जनों कर्मचारियों की भीड़ वहां जमा हो जाने के चलते काफी तादाद में पुलिस तैनात करनी पड़ी ताकि कोई अप्रिय घटना मौके पर ना हो।
 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना