हिमाचल / अब स्वास्थ्य विभाग ब्लॉक स्तर पर करेगा नशे की गिरफ्त में फंसे युवाओं का उपचार

डेमो पिक्चर डेमो पिक्चर
X
डेमो पिक्चरडेमो पिक्चर

  • स्कूल से लेकर अस्पतालों में चेलगी योजना, अभिभावकों की भी हो सकेगी काउंसलिंग

दैनिक भास्कर

Nov 10, 2019, 12:41 PM IST

हमीरपुर. प्रदेश भर में अब जो युवा नशे की गिरफ्त में हैं उनका उपचार ब्लॉक स्तर पर ही पहचान कर होगा। स्वास्थ्य विभाग की ओर से बाकयदा इस योजना का शैड्यूल तैयार कर सभी जिलों को दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। योजना के तहत स्कूलों में अवेयरनैस नशा निवारण हेल्थ टॉक कार्यक्रम व सिविल अस्पतालों से लेकर पीएचसी स्तर पर कैंप आयोजित कर स्पेशलिस्ट कर ऐसे युवाओं का उपचार करेगें।


यह पहला मौका है जब विभाग की और से इस वारे बड़े स्तर पर योजना तैयार कर उसे अमलीजामा पहनाने के निर्देश जारी हुए है। राज्य भर में करीव एक साथ एक माह तक कैंपो का आयोजन किया जाएगा। हांलाकी मरीज का उपचार इसके बाद भी चल सकेगा और स्वास्थ्य विभाग की और से उन्हे दवाईयां भी दी जा सकेगी।


फॉर्म भरने के बाद होगा तय: दरअसल जो योजना तैयार की गई है उसके तहत युवाओं के बाकायदा पहले जो फॉर्म डब्ल्यूएचओ की और से सवालों का तय किया गया है उसे भरवाया जाएगा। जिसके आधार पर जो जबाव युवाओं की और से दिए जाने हैं उससे तय हो सकता है कि युवा किस तरहं से नशे की गिरफ्त में है और उसे उपचार व काउंसलिंग जरुरी है या नहीं। दरअसल राज्य भर के कई जिलों में काफी युवा इस समय नशे कि गिरफ्त में हैं और यह क्रम बढ़़ता जा रहा है। नशे की हालत में कुछ युवाओं की मौत के मामले भी सामने आ चुके हैं। ऐसे में अब इस योजना को काफी अहम माना जा रहा है।


मेडिकल कॉलेज में हो सकेगा उपचार: 15 नंवबर से 15 दिसंबर तक ड्रग एब्यूज व अल्कोहल के विरुद्ध स्पेशल अभियान चलेगा। इसके तहत जिस भी नशा पीड़ित में लक्षण पाए जाते हैं उन्हें इलाज व काउंसलिंग के लिए मेडिकल कॉलेज या जिला अस्पतालों में भी भेजा जा सकेगा। यहीं नहीं बच्चों पर कैसे नजर रखी जा सकती है और उनकी नशे की गिरफ्त में होने की सूचना मिलने पर अभिभावक क्या कर सकते हैं, इसके बारे में अभिभावकों की भी काउंसलिंग होगी और उन्हें जानकारियां भी दी जा सकेगी। जो कैंप ब्लॉक स्तर पर होगें उसमें भी इलाज व काउंसलिंग हो सकेगी। उपचार एमडी, क्लीनिकल व साइकोलॉजिस्ट करेगें। ब्लॉक स्तर के अस्पतालों में भी डॉक्टर्स को इस बारे ट्रेंड किया जा चुका है। विभाग सभी शिक्षण संस्थाओं को कबर करेगा और मॉर्निग असेंबली में हेल्थ टॉक कार्यक्रम भी चलेगा ताकि स्टूडेंट्स को इस जानलेवा लत से दूर रखने के बारे में जागरुक किया जाएगा।

 

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना