रोष प्रदर्शन / ननिहाल से लौटते वक्त लापता हुआ था युवक, 19 दिन बाद पेड़ से लटकी मिली लाश तो हुआ हंगामा

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 06:36 PM IST



ruckus after finding dead body of a missing young-boy by the family
ruckus after finding dead body of a missing young-boy by the family
ruckus after finding dead body of a missing young-boy by the family
ruckus after finding dead body of a missing young-boy by the family
X
ruckus after finding dead body of a missing young-boy by the family
ruckus after finding dead body of a missing young-boy by the family
ruckus after finding dead body of a missing young-boy by the family
ruckus after finding dead body of a missing young-boy by the family

  • 24 सितंबर को बंगाणा स्थित ननिहाल गए सुमित ने छोटे भाई को कही थी ऊना में दोस्त के यहां रुकने की बात
  • अगले दिन नहीं लौटने पर फिर से मोबाइल पर कॉल की तो एक महिला बोली- पड़े मिले थे बाइक-फोन व चप्पलें
  • लाश मिली तो विधायक के नेतृत्व में 3 घंटे रोड जाम कर पुलिस के खिलाफ निकाली परिजनाें ने भड़ास, हुई कार्रवाई

ऊना। हिमाचल प्रदेश के रायपुर सहोड़ा से लापता युवक का शव 19 दिन बाद शुक्रवार की शाम ऊना के नजदीकी गांव अर्नियाला के जंगल से बरामद की गई, जो पेड़ से लटकी हुई थी। सूचना मिलने पर परिजन व ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। परिजनों ने विधायक सतपाल रायजादा के नेतृत्व में रेड लाइट चौक पर रात 10 बजे से रात 1 बजे तक चक्का जाम रखा। लोगों में पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर काफी नाराजगी दिखी। जाम लगने से यातायात प्रभावित रहा। ऊना का मुख्य चौक पुलिस छावनी के रूप में तब्दील हो गई। गुस्साए लोगों ने पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बड़ी मुश्किल से शनिवार को मामला शांत हुआ।

 

परिजनों की मानें तो सुमित कुमार 24 सितंबर को बंगाणा स्थित अपने मामा के घर से वापस आ रहा था, लेकिन कई दिन बीत जाने के बावजूद उसका कोई अता-पता नहीं था। छोटे भाई निखिल ने बताया कि बंगाणा से लौट रहे सुमित से करीब 7 बजे उसकी बात हुई तो सुमित ने भारी बारिश के चलते अपने दोस्त के पास ऊना में ही रुक जाने की बात कही थी। इसके बाद सुमित का कोई अता-पता नहीं चला। जब निखिल ने सुमित के फोन पर कॉल की तो फोन किसी औरत ने उठाया और उसे यह फोन कोटला में गिरा मिलने की बात कही। जब निखिल अपने भाई का फोन लेने महिला के पास आया तो सुमित कुमार का मोटरसाइकिल और चप्पलें भी पड़ी हुई थी। निखिल ने पुलिस पर मामले में लीपा-पोती करने का आरोप जड़ा है। निखिल ने कहा कि जिन लोगों पर उन्हें शक था, उस बारे पुलिस को कई बार बताया गया, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।

 

इसके बाद शुक्रवार शाम सुमित का शव ऊना के साथ लगते अर्नियाला गांव के जंगल मे पेड़ से लटका मिला। तो परिजनों ने विधायक सतपाल रायजादा के नेतृत्व में हंगामा शुरू कर दिया। रेड लाइट चौक पर हंगामे की सूचना पाकर ऊना का मुख्य चौक पुलिस छावनी के रूप में तब्दील हो गया। एसपी, एएसपी व डीएसपी सहित अन्य अधिकारी भी मौके पर पहुंचे, लेकिन फिर भी हालत सामान्य नहीं हुई और पुलिस व प्रदर्शनकारियों में खूब गहमागहमी हुई। करीब 1 बजे लोगों का गुस्सा शांत हुआ। तब यातायात को दुरुस्त किया गया। परिजनों ने सुमित की हत्या की आशंका जताई है। विधायक सतपाल रायजादा ने कहा कि पुलिस की मनमानी सहन नहीं होगी। कानून व्यवस्था लगातार बिगड़ रही है। पुलिस चालान काटने में ही व्यस्त है। चोरी, हत्या जैसे मामलों को सुलझाने में पूरी तरह से असफल रही है।

 

उधर एसपी दिवाकर शर्मा ने कहा कि पुलिस इस मामले की गहन छानबीन कर रही है। किसी तरह की कोताही नहीं बरती जाएगी। यदि इस मामले में कोई कोताही बरती गई होगी तो कोताही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी, आखिर इसी के चलते एक पुलिस कर्मी को सस्पेंड कर दिया गया है। हत्या के मामले की जांच एएसपी और सस्पेंड पुलिस कर्मी के मामले की जांच डीएसपी हेडक्वार्टर अशोक वर्मा करेंगे।

COMMENT