हिमाचल / ऊंचे इलाकों में बर्फबारी और निचले में बारिश का दौर जारी; ठिठुरन बढ़ी

Snowfall and low rainfall continue in high-rise areas of Himachal Pradesh.
Snowfall and low rainfall continue in high-rise areas of Himachal Pradesh.
Snowfall and low rainfall continue in high-rise areas of Himachal Pradesh.
X
Snowfall and low rainfall continue in high-rise areas of Himachal Pradesh.
Snowfall and low rainfall continue in high-rise areas of Himachal Pradesh.
Snowfall and low rainfall continue in high-rise areas of Himachal Pradesh.

  • लगातार बढ़ती ठंड और बर्फबारी के कारण प्रदेश में 120 सड़कें बंद हो गईं
  • सिसु में फंसा 12 लोगों का समूह, निर्माणाधीन रोहतांग सुरंग में वाहनों की आवाजाही बंद
  • कुल्लू के जलोड़ी जोत पर भारी बर्फबारी के कारण आनी उपमंडल का जिला मुख्‍यालय से कटा संपर्क, एनएच 305 बंद

दैनिक भास्कर

Nov 28, 2019, 12:25 PM IST

केलंग. हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में आज सुबह से बर्फबारी और निचले इलाकों में बारिश का दौर जारी है। ठिठुरन तेज हो गई है और कई मार्ग भी अवरुद्ध हो गए हैं। लगातार बढ़ती ठंड और बर्फबारी के कारण प्रदेश में 120 सड़कें बंद हो गई हैं।

जिला किन्‍नौर में भारी बर्फबारी के कारण आज भी स्‍कूलों में छुट्‌टी कर दी गई है। दूसरी ओर जलोड़ी जोत पर भारी बर्फबारी के कारण आनी उपमंडल का जिला मुख्‍यालय से संपर्क कट गया है और एनएच 305 बंद हो गया है।

कीलोंग, सिसु, लाहुल-स्पिति के अलावा मनाली और शिमला के कुफरी, नारकंडा व खड़ापत्थर में बर्फबारी का दौर जारी है। हालांकि यहां अभी कोई सड़कें बंद नहीं हुई हैं। लाहुल-स्‍पीति में भी जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। भारी बर्फबारी की वजह से लोग जगह-जगह फंस गए हैं। हालांकि प्रशासन की ओर से लोगों को सुरक्षित स्‍थान पर पहुंचा दिया गया है।

मनाली के पर्यटन स्थलों में ताजा बर्फबारी के बाद साहसिक गतिविधियां शुरू होने से घाटी के सैकड़ों युवाओं का रोजगार भी शुरू हो गया है। वहीं सोलंगनाला में खेलों के साथ पैराग्लाइडिंग, माउंटेन बाइक व घुड़सवारी जैसी साहसिक खेलों का पर्यटक आनंद ले रहे हैं।

सिसु में फंसा 12 लोगों का समूह, निर्माणाधीन रोहतांग सुरंग में वाहनों की आवाजाही बंद

लाहुल-स्पीति की बात करें तो सिसु में 12 लोगों का एक समूह इस बर्फबारी में फंस गया है। इनमें से 12 लोग वह हैं जो जिले में एक विश्व बैंक से वित्त पोषित सरकारी परियोजना का रिसर्च करने यहां आए थे। 23 नवंबर से 27 नवंबर तक बागवानी विकास परियोजना की रिसर्च करने के लिए इन्हें यहां नियुक्त किया गया था। बीते कल प्रशासन की ओर से इन्हें वापिस भेजने का पूरा इंतजाम किया गया था लेकिन दल के सभी सदस्यों ने जाने से इंकार कर दिया। उनका कहना है कि वह अपनी गाड़ियों से ही वापस लौटेंगे। अभी ये सभी सदस्य सिसु में सुरक्षित रुके हुए हैं। बता दें कि बर्फबारी की वजह से यहां सड़कें अवरुद्ध हो गई हैं और बीआरओ की ओर से निर्माणाधीन रोहतांग सुरंग में वाहनों को जाने के लिए पहले ही बंद कर दिया गया है।

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना