पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सरकारी अस्पतालों में सुबह 2 घंटे बंद रही ओपीडी, इमरजेंसी सेवाएं जारी रहीं

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रदेश में डॉक्टर्स के साथ बदसलूकी और मारपीट करने के खिलाफ विरोध कर रहे हैं डॉक्टर्स
  • हमीरपुर में नहीं हुई स्ट्राइक, नया मेडिकल कॉलेज होने के चलते पेन डाउन स्ट्राइक की समय रहते सूचना नहीं दी गई

शिमला/ कुल्लू /हमीरपुर. प्रदेश में डॉक्टर्स के साथ बदसलूकी और उनसे मारपीट करने के खिलाफ विरोध कर रहे डॉक्टर्स ने आज भी सरकारी अस्पतालों में दो घंटे के लिए पेन डाउन स्ट्राइक की। सुबह ओपीडी बंद रखी, जबकि इमरजेंसी सेवाएं जारी रहीं। सुबह साढ़े 9 से लेकर साढ़े 11 बजे तक तक ओपीडी उपचार सेवा केंद्रों पर कार्य ठप रख कर रोष प्रदर्शन किया। पिछले दो दिन से डॉक्टर्स काले बिल्ले लगा कर मरीजों का उपचार कर रहे हैं।

 

हिमाचल मेडिकल ऑफिसर एसोसिएशन ने साफ कहा है कि सरकार 24 घंटे वाले चिकित्सा संस्थानों में सुरक्षा उपलब्ध करवाए। एसोसिएशन ने कहा है कि जल्द आरोपी को गिरफ्तार किया जाए। दूसरा मंडी जिला में महिला डॉक्टर के साथ मारपीट से लेकर घुमारवीं में बीएमओ के सस्पेंड करने के मामले पर भी प्रदेश भर के डॉक्टरो में रोष है। क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू के तमाम डॉक्टरों ने भी दो घंटे ओपीडी का कार्य बंद रखा।

 

इस दौरान डॉक्टरों ने एक बैठक की और इस मामले में आगे की रणनीति बनाई। भारतीय चिकित्सा संघ की इकाई कुल्लू के अध्यक्ष ओम पाल के नेतृत्व में शुरू हुई हड़ताल में क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू के कई डॉक्टरों ने हिस्सा लिया। क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू में डाक्टरों के पेन डाउन से अस्पताल की 20 से अधिक ओपीडी की सेवाएं प्रभावित रही। जबकि ओपीड़ी के बाहर मरीजों की लंबी कतारें लगी हुई थी।

 

वहीं हमीरपुर में मेडिकल कॉलेज में आज मरीजों को कुछ राहत मिली क्योंकि यहां पेन डाउन स्ट्राइक नहीं की गई। डॉक्टरों ने मरीजों की रोज की ही तरह सेवाएं दीं। दरअसल, नया मेडिकल कॉलेज होने के चलते पेन डाउन स्ट्राइक की समय रहते सूचना नहीं दी गई थी जिस वजह से से हड़ताल टाल गई है। अब ये हड़ताल कल की जाएगी।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - धर्म-कर्म और आध्यामिकता के प्रति आपका विश्वास आपके अंदर शांति और सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर रहा है। आप जीवन को सकारात्मक नजरिए से समझने की कोशिश कर रहे हैं। जो कि एक बेहतरीन उपलब्धि है। ने...

और पढ़ें