हिमाचल / बाल विवाह रुकने के बाद मां ने ही नाबालिगा को शारीरिक-मानसिक रूप से किया प्रताड़ित

बाल विवाह से मना करने पर लड़की को मां ने प्रताड़ित किया। डेमो फोटो बाल विवाह से मना करने पर लड़की को मां ने प्रताड़ित किया। डेमो फोटो
X
बाल विवाह से मना करने पर लड़की को मां ने प्रताड़ित किया। डेमो फोटोबाल विवाह से मना करने पर लड़की को मां ने प्रताड़ित किया। डेमो फोटो

  • 5 नवंबर को रुकवाया था बाल विवाह 
  • चाइल्ड हेल्प लाइन ने घर से किया रेस्क्यू, बड़ी बहन ने ली जिम्मेवारी

दैनिक भास्कर

Dec 21, 2019, 11:13 AM IST

मंडी. जिले के जोगेंद्रनगर क्षेत्र में बाल विवाह से मना करने पर नाबालिगा को मानसिक तौर पर प्रताड़ित किया गया। चाइल्ड हेल्प लाइन की टीम ने नाबालिगा को प्रताड़ित करने की भनक लगते ही वहां दबिश देकर उसका रेस्क्यू कर उसे अपने साथ ले आई है।

बाल कल्याण समिति के समक्ष नाबालिगा ने परिजनों पर उसे शारीरिक व मानसिक तौर पर प्रताड़ित करने की शिकायत कर घर न जाने की बात कही है। इधर, बहन के रेस्क्यू की सूचना मिलने पर बड़ी बहन ने चाइल्ड हेल्प लाइन के कार्यालय में संपर्क करने पर छोटी बहन को अपने साथ ले जाने का आग्रह किया है।

मामले में स्थानीय आंगनबाड़ी कार्यकर्ता तथा ग्राम पंचायत प्रतिनिधि को मामले में नजर रखने के लिए कहा गया था। रेस्क्यू करने की सूचना मिलने पर नाबालिगा की बड़ी बहन ने मंडी पहुंच कर बाल कल्याण समिति के सामने छोटी बहन को अपने साथ अपने घर ले जाने का आग्रह किया है। जिस पर समिति ने नाबालिगा को उसकी बड़ी बहन के सुपुर्द कर दिया है।

यह है मामला 

चाइल्ड हेल्पलाइन मंडी की टीम को टोल फ्री नंबर पर काल आई थी कि दसवीं की पढ़ाई करने के बाद उसके परिजन अब नाबालिगा की शादी करवाने जा रहे हैं। बैजनाथ क्षेत्र में नाबालिगा का रिश्ता पक्का कर जनवरी माह में उसके हाथ पीले किए जा रहे हैं। इसके लिए वर व वधु पक्ष की ओर से एक दूसरे को शगुन देने के बाद दोनों की शादी की तैयारियां पूरी की जा रही है।

जिस पर पांच नवंबर को चाइल्ड लाइन मंडी से टीम सदस्य लुदरमणी व शांता देवी, आंगनबाड़ी सुपरवाइजर, स्थानीय ग्राम पंचायत प्रधान के सहयोग से टीम ने बालिका के घर में पहुंच कर दस्तावेजों की छानबीन करने पर पाया था कि बालिका अभी जून 2020 में बालिग होगी। टीम के सदस्यों ने बालिका के परिजनों को बाल विवाह अधिनियम की जानकारी देकर समझाया कि बाल विवाह कानूनन अपराध है। इस पर बालिका के परिजनों ने स्वीकार किया था कि बालिका की शादी जनवरी माह में तय कर दी गई थी। लेकिन अब वह बालिका का विवाह बालिग होने के उपरांत ही करेंगे।
 

लड़की को उसकी बड़ी बहन को सुपुर्द किया

चाइल्ड हेल्प लाइन मंडी के कॉडीनेटर अच्छर सिंह ने बताया कि नाबालिगा की शादी रोकने के बाद नाबालिगा की मां ने उसे ताने देना शुरू कर दिया। नाबालिगा को मानसिक तौर पर परेशान किया जा रहा था। चाइल्ड हेल्प लाइन टीम ने दोबारा घर में दबिश दे कर नाबालिगा व उसके पिता से पूछताछ की है। नाबालिगा ने मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए घर में नहीं रहने का आग्रह किया है। जिस पर नाबालिगा का रेस्क्यू किया गया है। नाबालिगा को उसकी बड़ी बहन के सुपुर्द कर दिया गया है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना