नई पहल / हिमाचल के राज्यपाल दत्तात्रेय ने कहा, पर्यटन के लिए उत्तर-दक्षिण काे जाेड़ना जरूरी



The new governor said that will work for tourism
X
The new governor said that will work for tourism

  • शपथ ग्रहण के बाद बोले राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, तेलंगाना सरकार से करूंगा बात
  • राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ नशे पर भी पाबंदी लगाऐंगे

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2019, 12:19 PM IST

शिमला. बंडारू दत्तात्रेय ने बुधवार काे राजभवन में गरिमापूर्ण समारोह में प्रदेश के 27वें राज्यपाल के रूप में शपथ ग्रहण की। मुख्य न्यायाधीश की गैर मौजूदगी में हाईकोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति धर्मचंद चाैधरी ने उन्हें पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, राज्यपाल की धर्मपत्नी वसंथा दत्तात्रेय भी उपस्थित थी।

 

मुख्य सचिव डा. श्रीकांत बाल्दी ने राज्यपाल की नियुक्ति का पत्र पढ़ा। राज्यपाल के सचिव राकेश कंवर ने कार्यभार प्रमाण पत्र पर राज्यपाल के हस्ताक्षर प्राप्त किए। विधानसभा अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल, पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और प्रेम कुमार धूमल, शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज सहित कई प्रमुख नागरिक भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

 

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि पर्यटन विकास के लिए दक्षिण काे उत्तर भारत से जोड़ना समय की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हर साल लाखाें की तादाद में पर्यटक घूमने आते हैं। उनकी कोशिश रहेगी कि विभिन्न माध्यमों से दोनों क्षेत्रों को जोड़कर एकरूपता लाने का प्रयास किया जाए। इसके लिए वह तेलंगाना सरकार से भी बात करेंगे। उन्होंने कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हिमाचल सरकार के साथ-साथ तेलंगाना राज्य सरकार से बात करेंगे।

 

राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि हिमाचल देवभूमि और वीर भूमि है। यहां की उच्च परंपराए, समृद्ध संस्कृति और रीति-रिवाज हैं, जो इस पहाड़ी प्रदेश को अन्यों से अलग करता है। राज्यपाल ने कहा कि वे इसे अपना सौभाग्य समझते हैं कि हिमालय की गोद में बसे इस प्रदेश में राज्यपाल के रूप में कार्य करने का मौका मिला है। यहां के प्राकृतिक सौंदर्य की चर्चा हमारे दक्षिण भारत में खूब होती है विशेष कर यहां के पहाड़, बर्फ और स्वच्छ वातावरण की।

 

उन्होंने कहा कि राजनैतिक क्षेत्र में जनसेवा का मुझे बहुत लंबा अनुभव मिला है और अब संवैधानिक पद के दायित्व की जिम्मेवारी का निर्वहन करना है। राज्यपाल के पद पर रहकर हम केवल संवैधानिक दायरे में रहकर ही प्रदेश के विकास की गति को और तेज करने में सहयोग कर सकते हैं।
 

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना