हिमाचल / सरांडा रोड खराब होने से नहीं जाते गाड़ी वाले, ग्रामीणों ने मरीज को पीठ पर उठा कर पहुंचाया मेन सड़क तक



The people of the village lift the patient and bring them to the hospital
X
The people of the village lift the patient and bring them to the hospital

  • ग्रामीणों ने सरकार से सरांडा सड़क की दयनीय हालत को सुधारने की उठाई मांग
  • बरसात में बहने के कारण सड़क दयनीय हालत में हो चुकी है

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2019, 11:17 AM IST

पंडोह. प्रदेश के नेताओं की ओर से गांवों की सड़कों को दुरूस्त करने की बात कही जाती है लेकिन अभी भी कई ऐसे गांव है जहां गाड़ियाें के नहीं पहुंचने से मरीजों को लोग अपने कंधों पर उठा कर अस्पताल तक पहुंचाना पड़ता है। सीएम के गृह जिला की मात्र 17 किमी दूर पंडोह पंचायत के सरांडा वार्ड आज भी विकास से काेसों दूर है। सरांडा वार्ड में हालत इतनी दयनीय है कि लोगों को बीमारी की हालत में अस्पताल ले जाने के लिए मेन सड़क तक पहुंचाना भी परेशानी का सबब बन चुका है। 

 

गांव के लोगों का कहना है कि सरांडा वार्ड के लोग सड़क सुविधाओं से आज भी महरूम है। उन्होंने बताया कि बखरांडा के घाट के लिए लगभग 7 वर्ष पूर्व 5 किलोमीटर कच्ची सड़क का निर्माण किया था, लेकिन यहां पर सड़क निकालने के नाम पर सरकारी धनराशि का ही दुरूपयोग हुआ है। सड़क के लिए विधायक निधि, मनरेगा व अन्य मदों से पैसा खर्च किया गया है। इस सड़क की निर्माण के बाद कोई सुध ही नहीं ली गई। बरसात में बहने के कारण सड़क दयनीय हालत में हो चुकी है।

 

लोगों ने पंचायत ग्राम सभा में व स्थानीय विधायक अनिल शर्मा, सांसद रामस्वरूप शर्मा से भी इस सड़क की मरम्मत के लिए कई बार धनराशि की मांग की है, लेकिन आज तक मांग पूरी नहीं हो पाई।

 

 

COMMENT