पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

18.5 करोड़ रुपए के लोन मामले में विजिलेंस ने देहरा व पालमपुर में दबिश देकर जब्त किया रिकॉर्ड

7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विजिलेंस टीम ने लोन लेने वालों के यहां दबिश दी। डेमो फोटो
Advertisement
Advertisement

धर्मशाला. विजिलेंस एवं एंटी करप्शन ब्यूरो उत्तरी क्षेत्र धर्मशाला ने कांगड़ा केंद्रीय सहकारी बैंक (केसीसीबी) मुख्यालय धर्मशाला से 18.5 करोड़ रुपए का लोन लेकर भुगतान न करने के मामले में संलिप्त दो आरोपितों के घर व होटल में दबिश देकर रिकॉर्ड जब्त किया है।


कुछ वर्ष पहले पालमपुर की एक महिला ने लोन लेने के लिए केसीसीबी की पालमपुर ब्रांच में आवेदन किया था। तत्कालीन बैंक निदेशक देहरा निवासी ने फर्जी तरीके से महिला को 18.5 करोड़ रुपए का ऋण दिला दिया। इस राशि से महिला ने पालमपुर के तहत घुग्गर में होटल का निर्माण किया। भुगतान न करने पर लोन की राशि एनपीए हो गई।


लोन आवंटन को लेकर न्यायालय ने सर्च वारंट जारी किया था। वीरवार को विजिलेंस टीम ने एसपी अरुल कुमार के नेतृत्व में पहले पालमपुर स्थित महिला के घर व होटल में दबिश दी। इसके बाद केसीसीबी के पूर्व निदेशक के घर देहरा में दबिश दी। इस दौरान टीम ने दोनों आरोपितों की चल-अचल संपत्ति व लोन के दस्तावेज तथा बैंक के सभी खातों का रिकॉर्ड जब्त किया है।

दो एफआईआर दर्ज हैं धर्मशाला और ऊना में
यह रिकॉर्ड वर्ष 2012 से 2017 के बीच निदेशक मंडल की बैठकों और लोन कमेटी की प्रोसिडिंग्स का था। इस अवधि के दौरान जिला की एक कंपनी और पालमपुर के होटल को करोड़ों रुपए का लोन दिया गया था जो कि बाद में एनपीए हो गया था।


पूर्व में विपक्ष में रहते हुए भाजपा ने इन मामलों की जांच की मांग उठाई थी। भाजपा की चार्जशीट के आरोपों पर विजिलेंस ब्यूरो ने इस संबंध में दो एफआईआर धर्मशाला और ऊना थाना में दर्ज कर जांच शुरू की थी। जांच में लोन आवंटन में भारी अनियमितताएं सामने आई।



Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप कई प्रकार की गतिविधियों में व्यस्त रहेंगे। साथ ही सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से मन में राहत रहेगी। धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में महत्वपूर्ण...

और पढ़ें

Advertisement