लोस चुनाव में नहीं उठा आवारा पशुओं के हल करने का मुद्दा

Hamirpur News - लोकसभा चुनावों को लेकर शुक्रवार शाम चुनाव प्रचार थम गया, लेकिन इस बार न तो किसी प्रमुख पार्टी के नेताओं ने किसानों...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:21 AM IST
Hamirpur News - issue of solving livestock animals not picked in the los election
लोकसभा चुनावों को लेकर शुक्रवार शाम चुनाव प्रचार थम गया, लेकिन इस बार न तो किसी प्रमुख पार्टी के नेताओं ने किसानों और आम लोगों की सबसे बड़ी समस्या के हल के लिए कोई बात रखी है और न ही कोई हल की बात मुद्दों में कही। यहां आवारा पुशओं से जहां किसान परेशान हो कर फसलों की बिजाई करने से कतराने लगे हैं, वहीं लगातार इनके हमलों से घायल हो रहे आम लोग अपनी परेशानी से निजात पा रहे हैं।

कहीं से भी इसका स्थाई हल न होने से लोगांे में निराशा भी अब झलकने लगी है। दरअसल जिले में हर चुनावों में बंदरों का मुद्दा काफी गर्माता रहा है।

इसको लेकर भाजपा-कांग्रेस के नेताओं की ओर से एक-दूसरे के खिलाफ काफी बयानबाजी होती रही है, लेकिन इस बार लोकसभा के चुनावों में यह मामला ही काफी पीछे छूट गया।

यहीं नहीं दूसरे आवारा पशुओं को लेकर भी नेताओं की ओर से कोई रणनीति लोगों के सामने नहीं रखी जा सकी जबकि मतदाताओं की ओर से आवाज उठती रही है कि नेताओं से लेकर अधिकारियों तक को उनको आवारा पशुओं से निजात दिलाने के लिए कोई ठोस कदम उठाने के लिए पहल की जाए ताकि किसानों की फसलों को उजाड़ने से जहां निजात मिले, वहीं बुजुर्ग, महिलाएं व बच्चे बैखौफ रास्तों से गुजर सकें।

किसी नेता को नहीं आई किसानों की याद : मतदाता प्रदीप कुमार का कहना था कि लोकसभा चुनावों के दौरान प्रचार में किसी नेता ने भी लोगों केा इस बड़ी समस्या से निजात दिलाने के लिए उनके पास क्या रणनीति रहेगी से अवगत करवाने से गंवारा नहीं समझा। उनका कहना था कि एक-दूसरे पर छींटाकशी करने तक ही चुनाव सिमट कर रह गए हैं। वहीं किसान अशोक कुमार, प्रशोत्तम चंद, ललित, कुलभूषण चंद, बनवारी लाल, केवल कुमार, किशोरी चंद, मदन लाल व प्रकाश चंद सहित कई लोगों का कहना है कि आवारा पशुओं के कारण किसान खेतीबाड़ी करने से गुरेज इसलिए कर रहे हैं क्योंकि यह फसलों को उजाड़ रहे हैं। उनका कहना है कि अब तो हालात यह हो गए हैं कि बच्चों को अकेले स्कूलों में भेजने से डर लगा रहता है कि कोई आवारा पशु उन्हें मारे न। कई लोग घायल कर चुके हैं, लेकिन किसी नेता या अधिकारी की ओर से अभी तक इनसे निजात दिलाने के लिए योजना धरातल पर लागू करवाने में पहल नहीं की है जबकि जिला भर के लोग इनसे परेशान हैं। उनका कहना है कि हर प्रत्याशी को चुनावों में इस योजना से निपटने के लिए क्या विजन है, वह पब्लिक को दिखाना चाहिए था, लेकिन उनको यह समस्या लगता गंभीर ही नहीं लगती।

X
Hamirpur News - issue of solving livestock animals not picked in the los election
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना