• Hindi News
  • Himachal
  • Hamirpur
  • कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
--Advertisement--

कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर

Dainik Bhaskar

Apr 26, 2018, 02:00 AM IST

Hamirpur News - हमीरपुर की समृद्धि सहगल पुत्री मुनीष सहगल ने साइंस में 489 अंक (97.8 फीसदी) लेकर साइंस की मेरिट सूची में दूसरा स्थान...

कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
हमीरपुर की समृद्धि सहगल पुत्री मुनीष सहगल ने साइंस में 489 अंक (97.8 फीसदी) लेकर साइंस की मेरिट सूची में दूसरा स्थान हासिल किया। उसके पिता एक्सईएन पीडब्ल्यूडी और माता अलका सहगल पीजीटी स्कूल पहुंचे और बेटी की उपलब्धी पर खुशी मनाई, वह किसी परीक्षा की तैयारी के लिए चंडीगढ़ गई हैं। समृद्धि का सपना आईएएस बनाना है। इसके अलावा इसी स्कूल की मैत्री खन्ना पुत्री कविश खन्ना ने 481 अंक (96.2 फीसदी) ने साइंस में नौवां रैंक मेरिट में हासिल किया। वह इंजीनियर रिसर्च बनना चाहती हैं। उसके पिता कविश खन्ना डेंटल डॉक्टर और माता गर्गी खन्ना एनआइटी प्रोफेसर ही स्कूल पहुंचे, क्यांेकि मैत्री भी अन्य परीक्षा के चंडीगढ़ गई है। ब्लू स्टार सीनियर सेकंडरी स्कूल प्रिंसिपल डॉ. सुमन लता ने बधाई देते हुए कहा कि उन्हें तो चार स्टूडेंट्स के मेरिट में आने की उम्मीद थी।

हिमांशु भंडारी ने साइंस में 481 अंक हासिल कर मेरिट सूची में 9वें स्थान पर रहे। वे आर्मी आॅफिसर बनना चाहते हैं। अब वह एनडीए की तैयारी कर रहे हैं।

आयुष सकलानी पुत्र विजय कुमार ने साइंस की मेरिट में 10वां स्थान हासिल किया। वह कंप्यूटर साइंस इंजीनियर बनना चाहता है। उसके पिता बद्दी की लोट्स हर्बल में अकाउंटेंट और माता पूनम ठाकुर गृहिणी हैं।

मैहरे/बड़सर : सीनियर सेकंडरी स्कूल बणी की छात्रा स्वाति शर्मा पुत्री राज कुमार ने हिमाचल शिक्षा बोर्ड की जमा दो काॅमर्स परीक्षा में 465 अंक प्राप्त कर दसवां स्थान हासिल किया है। स्वाति शर्मा का सीए बनना चाहती है। स्वाति के पिता राज कुमार चंडीगढ़ में दुकान करते हैं, जबकि माता सरोज कुमारी गृहिणी हैं।

नादौन : भगवती पब्लिक सीनियर सेकंडरी स्कूल जलाड़ी के सौरव परमार पुत्र कुलदीप सिंह ने साइंस की मेरिट सूची में 480 अंक लेकर 10वां स्थान प्राप्त किया है। वह इंजीनियरिंग क्षेत्र में नाम कमाना चाहता है। उसने सफलता का श्रेय टीचरों और पेरेंट्स को दिया है। उसके पिता डीसी ऑफिस में असिस्टेंट कंट्रोलर फाइनेंस कार्यरत हैं। जबकि मां कुशला परमार ग्रहिणी हैं।

हमीरपुर : झगड़ियाणी सीनियर सेकंडरी स्कूल की ममता शर्मा पुत्री पुरुशोत्तम दास ने आर्ट्स की मेरिट सूची में 465 अंक लेकर 8वां स्थान हासिल किया। वह कॉलेज प्रोफेसर बनाना चाहती है। उसके पिता धनेड़ सीनियर सेकंडरी स्कूल में बतौर एलए नियुक्त हैं। जबकि माता रजनी देवी गृहिणी है।

ब्लू स्टार स्कूल में समृिद्ध सहगल और मैत्री खन्ना की उपलब्धि पर एक-दूसरे को बधाई देते पेरेंटस व स्कूल का स्टाफ7

प्लस टू बोर्ड की मेरिट सूची में स्थान प्राप्त करने वाले भगवती पब्लिक स्कूल के सौरव परमार को बधाई देता स्कूल प्रशासन व अभिभावक।

हिम अकादमी स्कूल हीरा नगर के स्टूडेंट हिमांशु को सम्मािनत करता स्कूल प्रबंधन।

उच्च शिक्षा हासिल कर बनूंगी आॅफिसर : निशा कुमारी

िबझड़ी | लोहारली स्कूल की निशा कुमारी पुत्री सुखराम ने आर्ट्स में 467 अंक लेकर (93.4 फीसदी) छठा स्थान हासिल किया है। बीपीएल परिवार की इस बेटी के पिता सुखराम मजदूरी करते हैं और माता ग्रहिणी हैं। भविष्य में वह उच्च शिक्षा के लिए पढ़ाई जारी रखकर आॅफिसर बनाना चाहती हैं। पंचायत प्रधान संजय कुमार ने उसके घर जाकर बधाई दी।

बणी स्कूल स्वाति शर्मा ने जमा दो के कॉमर्स वर्ग में मेिरट सूची में नाैवां स्थान किया प्राप्त।

कुलेहड़ा के शुभम बनेंगे सीए

भोटा | कुलेहड़ा सीनियर सेकंडरी स्कूल शुभम पुत्र ब्रहमदास ने कॉमर्स की मेरिट सूची में 8वां स्थान हासिल किया। उसने 467 अंक (93.40 फीसदी) हासिल किए, उसने उपलब्धी का श्रेय टीचरों और माता-पिता को दिया। वह बी-कॉम करने के बाद सीए बनना चाहता है। उसके पिता मजदूरी करते और माता भोली देवी गृहिणी और गांव की मौजूदा वार्ड वार्ड पंच भी हैं। परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के बावजूद स्वयं मेरिट के लिए मेहनत की है।

लोहारली स्कूल की निशा कला संकाय में छठा स्थान प्राप्त करने पर पंचायत प्रधान संजय ने घर जाकर माता-िपता व स्टूडेंटस को दी बधाई।

सांइस मेरिट में दसवें स्थान पर रहे गुरुकुल पब्लिक स्कूल के आयुष सकलानी स्कूल प्रिंिसपल रविंद्र और अन्य के साथ।

कुलेहड़ा स्कूल के शुभम ने कॉमर्स में आठवां स्थान हासिल किया।

आशीष का सपना इंजीनियर बनना

बड़सर| जौड़े अंब स्कूल के आशीष कुमार शर्मा पुत्र राज कुमार ने साइंस की मेरिट सूची में 480 अंक लेकर 10वां स्थान हासिल किया। वह इंजीनियरिंग करना चाहता है। उसके पिता प्राइवेट जॉब करते जबकि माता गृहिणी हैं।

मैहरे/बड़सर | साक्षी शर्मा ने साइंस में 8वां स्थान हासिल किया, वह डॉक्टर बनना चाहती। पिता प्राइवेट कंपनी में कार्यरत हैं। जबकि माता अंजू शर्मा एक गृहिणी हैं। उसने उपलब्धि का श्रेय अपने माता-पिता को दिया।

कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
X
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
कोई आईएएस तो कोई बनना चाहता है आर्मी में आॅफिसर और डाॅक्टर
Astrology

Recommended

Click to listen..