Hindi News »Himachal »Hamirpur» 264 गांव की 1.25 लाख की आबादी काे स्वास्थ्य सुविधा देने वाला संस्थान बदहाल

264 गांव की 1.25 लाख की आबादी काे स्वास्थ्य सुविधा देने वाला संस्थान बदहाल

धर्मपुर उपमंडल के लोगों को स्वास्थ्य सुविधा देने वाले स्वास्थ्य संस्थान खुद बीमार है। 264 गांवों वाले इस उपमंडल के...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 05, 2018, 02:00 AM IST

264 गांव की 1.25 लाख की आबादी काे स्वास्थ्य सुविधा देने वाला संस्थान बदहाल
धर्मपुर उपमंडल के लोगों को स्वास्थ्य सुविधा देने वाले स्वास्थ्य संस्थान खुद बीमार है। 264 गांवों वाले इस उपमंडल के स्वास्थ्य संस्थ बदहाल स्थिति में है। कहीं स्टाफ नहीं है तो कहीं अन्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं है। जिसका खामियाजा क्षेत्र के लोगों को भुगतना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री का धर्मपुर दौरा भी इन स्वास्थ्य संस्थानों की हालत नहीं सुधार पाया है।

क्षेत्र के इन 264 गांवों की अाबादी लगभग एक लाख 25 हजार है। इतनी बड़ी आबादी के लिए क्षेत्र में एक सुविधा संपन्न अस्पताल तक नहीं बन पाया है। हालत यह है कि एमरजेंसी में मरीज स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में जान से हाथ धो बैठते हैं। गत दो दशकों में करीब दो दर्जन लोग गंभीर हालत में जीवन रक्षक प्रणाली और आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में अपनी जिंदगी खो चुके है। चिकित्सक तक स्वास्थ्य संस्थानों में नहीं है। जिसके कारण अस्पताल में पहुंचने पहले ही गंभीर स्थिति में रास्ते में ही दम तोड़ देते है। गत दो दशकों में हुए विकास ने प्रदेश की तस्वीर बदल डाली है। सड़क, शिक्षा और रोजगार में भी अभूतपूर्व प्रगति हुई। सरकारी अस्पतालों के अलावा बड़े बड़े निजी अस्पतालों का जाल भी बिछा लेकिन धर्मपुर विधानसभा हल्का स्वास्थ्य क्षेत्र में लगातार पिछड़ता गया है।

कागजों में ही मिले दर्जे,सुविधा नहीं

हजारों लोगों की सेहत का जिम्मा संभालने वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र धर्मपुर में स्वास्थ्य सुविधाएं न के बराबर हैं। मात्र 6बिस्तरों की क्षमता वाला यह अस्पताल लगभग 30पंचायतों को स्वास्थ्य-सुविधा देता है। गौरतलब है कि 6 जून 1998 को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र धर्मपुर को स्तरोन्नत कर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बनाने की घोषणा तत्कालीन भाजपा सरकार के स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा ने की थी। अस्पताल का दर्जा कागजों में तो बढ़ गया लेकिन सुविधा नहीं बढ़ पाई। उसके बाद दो बार भाजपा और दो बार कांग्रेस की सरकारें प्रदेश में रही लेकिन इस अस्पताल में लोगों को सुविधा नहीं मिल पाई। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के मापदंडों को देखें तो इस हॉस्पिटल में 30-50 बिस्तरों की सुविधा होनी चाहिए लेकिन आज के हालात के मुताबिक यहां केवल 6 ही बिस्तर उपलब्ध हैं। गंभीर स्थिति में मरीजों को इन्हीं बिस्तरों पर दो-दो मरीजों को लिटा कर उपचार दिया जाता है। अस्पताल में तैनात एक मेडिकल अफसर करीब तीन हजार रोगियों की मासिक ओपीडी संभालता है।

सुविधाओं के अभाव में खड़ा धर्मपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र।

लोगांे को उपचार के लिए जाना पड़ता है मंडी या हमीरपुर

जिला के तीन नामी निजी अस्पतालों में रोजाना ओपीडी में 70 प्रतिशत धर्मपुर क्षेत्र के रोगी होते हैं जबकि धर्मपुर अस्पताल में आने वाले लोग दूर-दराज़ क्षेत्रों मंडप, पैहड, ब्रांग, स्योह, समौड़, खनौड़, बिंगा, सिद्धपुर, कौंसल, जतेहड़ी, कुमाहरड़ा, सरी, के अलावा जोगेंद्रनगर विधान सभा क्षेत्र से होते हैं। स्वास्थ्य-सुविधाओं के टोटे के कारण उन्हें भारी परेशानी उठानी पड़ती है। आर्थिक रूप से मजबूत लोग तो जैसे तैसे मंडी या हमीरपुर जाकर इलाज करवा लेते हैं लेकिन गरीब के लिए कोई विकल्प मौजूद नहीं है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के धर्मपुर दौरे से जनता को स्वास्थ्य सुविधाओं की बहाली पर बड़ी घोषणा की उम्मीद थी लेकिन इस बार इसे आवश्यक नहीं समझा जिसका लोगों में भारी रोष है।

अस्पताल में रिक्त पदों का विवरण स्वीकृति हेतु स्वास्थ्य निदेशालय को भेजा गया है। रिक्त पदों को चरणबद्ध तरीके से भरा जा रहा है। लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने के प्रयास किए जा रहे है। डॉ. जीवानंद चौहान, सीएमओ, मंडी।

उपमंडल में स्वास्थ्य

संस्थानों में दर्जनों पद खाली

धर्मपुर उपमंडल में दो नागरिक अस्पताल, एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व 8 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं। जिनमें दर्जनों पद खाली पड़े हुए है। नागरिक अस्पताल संधोल में एक डॉक्टर, कार्यालय अधीक्षक, कंप्यूटर ऑपरेटर, स्टॉफ नर्स, एक्स-रे तकनीशियन, हेल्थ एजुकेटर और दो पद सफाई कर्मचारी के रिक्त हैं। नागरिक अस्पताल धर्मपुर में तीन डॉक्टर्स, कंप्यूटर ऑपरेटर, स्टॉफ नर्स, प्रयोगशाला सहायक, एक सफाई कर्मचारी, लिपिक और चालक के पद रिक्त है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्योह में सफाई कर्मचारी का पद खाली है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र दरवाड़ में एक लिपिक, लैब तकनीशियन और स्वीपर का पद खाली है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र चोलथरा दंत चिकित्सक, लैब तकनीशियन और स्वीपर का पद खाली। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मंडप में एक मेडिकल अफसर, लिपिक, लैब तकनीशियन और सफाई कर्मचारी का पद रिक्त। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र-सज्जाओपीपलू एक चिकित्साधिकारी, लैब टेक्नीशियन और स्वीपर की पोस्ट खाली। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मढ़ी में एक चिकित्साधिकारी, स्टॉफ नर्स, लिपिक, मेल हेल्थ सुपरवाइजर और सफाई कर्मचारी का पद रिक्त, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र चोलगढ़ में फार्मासिस्ट का पद खाली, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र टिहरा में दो डॉक्टर्स, स्टॉफ नर्स, लैब टेक्नीशियन और सफाई कर्मचारी के पद खाली चल रहे है।

India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Hamirpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 264 गांव की 1.25 लाख की आबादी काे स्वास्थ्य सुविधा देने वाला संस्थान बदहाल
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Hamirpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×