Hindi News »Himachal »Hamirpur» राज्य में स्वयं सहायता समूहों के लिए खुलेंगे सात प्रशिक्षण संस्थान : कंवर

राज्य में स्वयं सहायता समूहों के लिए खुलेंगे सात प्रशिक्षण संस्थान : कंवर

राज्य में स्वयं सहायता समूहों के लिए सात प्रशिक्षण संस्थान खोले जाएंगे। ग्रामीण विकास विभाग स्वयं सहायता समूहों...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 06, 2018, 02:00 AM IST

राज्य में स्वयं सहायता समूहों के लिए खुलेंगे सात प्रशिक्षण संस्थान : कंवर
राज्य में स्वयं सहायता समूहों के लिए सात प्रशिक्षण संस्थान खोले जाएंगे। ग्रामीण विकास विभाग स्वयं सहायता समूहों को आर्थिक तौर सुदृढ़ बनाने के लिए यह योजना शुरु करेगा। इसके लिए 42 करोड़ की राशि खर्च होगी। इन समूहों को उत्पाद तैयार करने के लिए प्रशिक्षण की बेहतर सुविधा मिल सकेगी।

यह बात ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने एनआईटी के सभागार में राज्य स्तरीय आजीविका एवं कौशल विकास समारोह में बतौर मुख्यातिथि शिरकत करते हुए कही।

हर जिला में विक्रय एवं प्रदर्शनी केंद्र खोले जाएंगे ताकि स्वयं सहायता समूहों के उत्पाद आसानी से बिक सकें। समूहों को पहले रिवॉल्विंग फंड के रूप में अपना कार्य आरंभ करने के लिए पच्चीस हजार की राशि दी जाती थी, लेकिन इसको बढ़ा कर अब चालीस हजार रुपए कर दिया गया है। कंवर ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार तथा प्रदेश की भाजपा सरकार ग्रामीण विकास को विशेष प्राथमिकता दे रही है। विधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा कि आजीविका मिशन युवाओं तथा महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए काफी प्रभावी सहायक हो रहा है। इस मौके पर विभाग के निदेशक राकेश कंवर, आरएन बत्ता, विधायक कमलेश कुमारी, राकेश ठाकुर, विजय अग्निहोत्री, डॉ. ऋचा वर्मा, र| गौतम, अतिरिक्त निदेशक ग्रामीण विकास विभाग सचिन कमल सहित कई लोग मौजूद थे।

राज्य स्तरीय आजीविका एवं कौशल िवकास समारोह में मंत्री वीेरेंद्र कंवर ने स्वयं सहायता समूहों को किया सम्मानित।

खोले जा सकते है विक्रय केंद्र

हिमाचल के स्वयं सहायता समूहों के उत्पाद महानगरों और पर्यटकों तक पहुंचाने के लिए प्लान तैयार किया गया है, इन उत्पादों की ब्रांडिंग भी सुनिश्चित की जाएगी ताकि स्वयं सहायता समूह की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हो सके। यह बात सांसद अनुराग ठाकुर ने कही। इन समूहों द्वारा ग्रामीण स्तर पर तैयार किए गए उत्पादों को पर्यटकों तक पहुंचाने के लिए भी योजना तैयार की जा रही है। बाबा बालक नाथ मंदिर, चिंतपूर्णी व नयना देवी में भी प्रति वर्ष लाखों की संख्या में श्रद्धालु व पर्यटक माथा टेकने आते हैं। इन जगहों पर स्वयं सहायता समूहों के लिए विक्रय केंद्र खोले जा सकते हैं तथा इसमें बतौर सांसद हरसंभव मदद मुहैया करवाई जाएगी। दीवाली जैसे त्योहारों में गिफ्ट के तौर पर स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार किए गए उत्पादों को आगे लाया जा सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hamirpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×