• Home
  • Himachal Pradesh News
  • Hamirpur News
  • बंगाणा क्षेत्र के लिए 21 करोड़ रुपए से बनेगी पेयजल योजना:वीरेंद्र कंवर
--Advertisement--

बंगाणा क्षेत्र के लिए 21 करोड़ रुपए से बनेगी पेयजल योजना:वीरेंद्र कंवर

ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि कुटलैहड़ हलके से पेयजल समस्या का स्थाई समाधान उनकी...

Danik Bhaskar | May 07, 2018, 02:00 AM IST
ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि कुटलैहड़ हलके से पेयजल समस्या का स्थाई समाधान उनकी प्राथमिकता में है। इसके लिए करीब 21 करोड़ से बंगाणा क्षेत्र के लिए बड़ी पेयजल योजना बनाई जाएगी। जिसकी मुख्यमंत्री ने सैद्धांतिक मंजूरी प्रदान कर दी है। एक साल के भीतर इस योजना का काम शुरू कर दिया जाएगा। कंवर रविवार को धुंदला और तनोह में आयोजित कार्यक्रमों में बोल रहे थे। दोनों जगह उन्होंने जनसमस्याएं भी सुनीं। उन्होंने कहा कि लगभग 13 करोड़ से रामगढ़धार पेयजल योजना के सेकंड फेस का का शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हलके के हर घर को पेयजल सुविधा मिले, इसके लिए प्रयास जारी हैं। कंवर ने कहा कि टुल्लूू पंप लगाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। इसके लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। साथ ही पेयजल योजनाओं के रखरखाव की हिदायत दी है। जिससे गर्मियों में लोगों को पेयजल की दिक्कतों का सामना न करना पड़े। कंवर ने कहा कि प्रदेश की सभी पंचायतों में मनरेगा से तालाब और चेकडैम बनाए जाएंगे। जिससे पर्यावरण संरक्षण की दिशा में कार्य किया जा सके। उन्होंने ग्रामीणों से वर्षा जल संग्रहण करने पर जोर दिया।

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों से जलवायु परिवर्तन से सूखे जैसी स्थिति से जूझना पड़ रहा है। उन्होंने लोगों को पर्यावरण संरक्षण के प्रति संवेदनशील बनने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि हलके की पेयजल योजनाओं से लीकेज समस्या को दुरूस्त किया जा रहा है। जिससे अब तक लगभग सात लाख लीटर पेयजल बर्बाद होने से बचाया जा चुका है। इस दिशा में प्रयास लगातार जारी हैं। कंवर ने कहा कि बंगाणा में मिनी सचिवालय, बस स्टैंड, केंद्रीय विद्यालय भवन और उप सब्जी मंडी का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बंगाणा सीएचसी को बेहतर बनाया जाएगा। अस्पताल में रिक्त डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ के पदों को भरा जाएगा। जिससे जनता को 24 घंटे बेहतर हेल्थ सेवाएं सुनिश्चित हो सकें। उन्होंने कहा कि कुटलैहड़ को पर्यटन की दृष्टि से उभारा जाएगा। इसके अलावा खेल मैदान भी बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि सरकार गौवंश संरक्षण और संवर्धन के लिए संवेदनशील है। कंवर ने पूर्व कांग्रेस सरकार पर प्रहार किए। उन्होंने कहा कि स्वराज पिछली सरकार की प्राथमिकता में नहीं रहा, पूरे प्रदेश में पांच वर्ष तक लूट का शासन रहा। जिससे प्रदेश को आर्थिक तौर नुकसान झेलना पड़ा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने संवैधानिक संस्थाओं को तहस नहस करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। रिटायर्ड व टायर्ड लोगों को प्राथमिकता दी जाती रही। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लोगों की मनपसंद सरकार बनी है। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में विकास कार्यों को तेजी ेस आगे बढ़ाया जा रहा है। इस मौके पर मंडल भाजपा के पूर्व अध्यक्ष जगत राम, महामंत्री चरनजीत शर्मा, मास्टर तरसेम, प्रदेश किसान मोर्चा के सचिव मदन राणा, एससी मोर्चा के जिलाध्यक्ष सूरम सिंह, महिला मोर्चा की अध्यक्ष उर्मिला ठाकुर, राजिंद्र मलांगड़, महिला मोर्चा की अध्यक्षा उर्मिल ठाकुर, ज्योति प्रकाश और बिटटू पाधा समेत कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

ग्रामीण विकास मंत्री वीरेंद्र कंवर धंुदला में जनसमस्याएं सुनते हुए।

सभी परिवारों को मिलेंगे विद्युत व रसोई गैस कनेक्शन: अनुराग

हमीरपुर |
प्रदेश के सभी परिवारों को विद्युत और रसोई गैस कनेक्शन मुहैया करवाए जाएंगे। इसके लिए केंद्र सरकार की तरफ से उज्ज्वला, सौभाग्य अभियान शुरू किया गया है। यह बात सांसद अनुराग ठाकुर ने रविवार को सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र के खैरी में सामुदायिक भवन का लोकार्पण करके और जोल लंबरी में उज्ज्वला योजना के तहत पात्र परिवारों को गैर कनेक्शन बांटने के बाद कही। उन्होंने कहा कि प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना नरेंद्र मोदी की भारत सरकार द्वारा शुरू की गई महत्त्वाकांक्षी योजना है। एलपीजी कनेक्शन केवल गरीबी रेखा से नीचे के परिवारों से संबंधित महिलाओं को दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि योजना के अंतर्गत भारत सरकार ने अगले 3 साल में 5 करोड़ परिवारों को मुफ्त में एलपीजी कनेक्शन मुहैया करवाने का लक्ष्य भी तस किया है। योजना के लागू करने का एक उद्देश्य यह भी है कि इससे महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा मिलेगा और महिलाओं के स्वास्थ्य कि भी सुरक्षा कि जा सकती है। देश भर में हाल ही में आयोजित ग्राम स्वराज कार्यक्रम के तहत चयनित गांवों में शतप्रतिशत विद्युतीकरण किया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध करवाने के लिए आजीविका मिशन शुरू किया गया है। इसके तहत सभी स्वयं सहायता समूहों को आर्थिक स्थिति मजबूत करने के विशेष प्रशिक्षण भी दिया गया है।