• Home
  • Himachal Pradesh News
  • Hamirpur News
  • मंत्री से मिलने के लिए पहुंचे ग्रामीण, नहीं रुके तो लोगों ने किया प्रदर्शन
--Advertisement--

मंत्री से मिलने के लिए पहुंचे ग्रामीण, नहीं रुके तो लोगों ने किया प्रदर्शन

स्थानीय पक्का भरो में शराब का ठेका बंद करवाने और कुछ युवकों के साथ हुई मारपीट की घटना में आरोपियों को न पकड़ने को...

Danik Bhaskar | Apr 29, 2018, 02:00 AM IST
स्थानीय पक्का भरो में शराब का ठेका बंद करवाने और कुछ युवकों के साथ हुई मारपीट की घटना में आरोपियों को न पकड़ने को लेकर झनियारा और मटाहणी के ग्रामीण प्रदर्शन करने के लिए चौक पर पहुंचे हुए थे। ग्रामीणों को जानकारी मिली थी कि उद्योग मंत्री विक्रम ठाकुर यहां से गुजरने वाले हैं, लिहाजा दर्जनों लोग सड़क पर उन्हें घेरने का इंतजार कर रहे थे, ज्यों ही मंत्री का काफिला सामने से आया तो लोगों ने उन्हें रोकर बात करने की कोशिश की। लेकिन मंत्री न तो रुके और न ही उतर कर किसी से बात की।

सिर्फ एक हल्का सा इशारा पीछे की तरफ करके वह निकल गए, उनके पीछे जिला के कई आलाधिकारियों की गाड़ियां आ रही थीं, लेकिन उनका काफिला भी नहीं रुका। लोगों में इस बात को लेकर काफी गुस्सा था कि अगर सरकार के मंत्री ही उनकी बात नहीं सुनेंगे तो जनता की आवाज को कौन सुनेगा। उद्योग मंत्री पास में ही एक स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने के लिए जा रहे थे। लोग उम्मीद कर रहे थे कि मंत्री से बात करके उन्हें कार्रवाई का कुछ आश्वासन मिलेगा। लेकिन मंत्री के न रुकने से वो उनसे नहीं मिल पाए।

झनियारा और मटाहणी के ग्रामीणों ने शनिवार दोपहर करीब 11:30 बजे शराब के ठेके के पास धरना-प्रदर्शन शुरू किया। यह ठेका एनएच सड़क के ठीक किनारे पर है। लोगों का कहना था कि इस ठेके को तुरंत बंद करवाया जाए, क्योंकि इसकी वजह से आए दिन यहां लड़ाई-झगड़े की घटनाएं हो रही हैं। तीन दिन पहले भी दो युवकों को यहां कुछ प्रभावशाली युवकों ने बुरी तरह से पीटा था। आज तक मारपीट करने वाले यह आरोपी भी पुलिस ने नहीं पकड़े हैं। लोगों ने प्रदेश सरकार और पुलिस प्रशासन के खिलाफ जम कर नारेबाजी की। प्रदर्शन में महिलाएं भी शामिल थीं ग्रामीणों राजेंद्र सिंह, तनु, उपप्रधान रमेश, निशा, अनीता, मनीषा, प्रवीण, विजय कुमार, राजेश व राजीव का कहना था कि ठेके को तुरंत यहां से बंद करवाया जाए, मारपीट के आरोपियों को पकड़ा जाए।

पक्काभरो चौक पर शराब का ठेका बंद करने की मांग को लेकर धरना-प्रदर्शन करते ग्रामीण।

एसडीएम और पुलिस बल किया तैनात

मंत्री का घेराव करने और धरना प्रदर्शन को लेकर काफी तादाद में पुलिस बल मौके पर तैनात किया गया था। आईपीएस एवं कार्यकारी एसएचओ आकृति शर्मा के अलावा एसडीएम अरिंदम चौधरी स्थिति पर नजर रखने के लिए वहां मौजूद रहे। नेशनल हाईवे सड़क के किनारे प्रदर्शन होने के चलते यहां ट्रैफिक जाम भी हो रहा था। मामले में कार्रवाई करने को लेकर 25 अप्रैल को ग्रामीण एडीसी से भी मिले थे और उन्होंने प्रशासन को दो दिन का समय कार्रवाई के लिए दिया था। लेकिन कोई कार्रवाई कहीं से नहीं हुई। एनएच के किनारे पर जहां पर यह ठेका स्थित है, उसकी फिजिबिलिटी को लेकर भी ग्रामीण सवाल उठा रहे हैं और संबंधित विभाग को दोबारा से इसकी फिजिबिलिटी चेक करने की कह रहे हैं। उनका कहना है कि 100 मीटर पर एक स्कूल है और ठीक बगल में एक अस्पताल है, लिहाजा ठेका वहां नहीं हो सकता है।