--Advertisement--

आम पर ‘मैंगो हाॅपर’ का प्रकोप बढ़ा, फसल खराब

जिले के कई इलाकों में आम की खेती को मैंगो हॉपर का अटैक बुरी तरह नुकसान पहुंचा रहा है। कई जगह पर 40 से 70 फीसदी फसल इसकी...

Dainik Bhaskar

May 08, 2018, 02:00 AM IST
आम पर ‘मैंगो हाॅपर’ का प्रकोप बढ़ा, फसल खराब
जिले के कई इलाकों में आम की खेती को मैंगो हॉपर का अटैक बुरी तरह नुकसान पहुंचा रहा है। कई जगह पर 40 से 70 फीसदी फसल इसकी चपेट में आ चुकी है। आम पेड़ों के नीचे बड़े स्तर पर आम के टूटे हुए फल गिरे हुए दिखते है। पेड़ भी विशेष तरह की मक्खियों की चपेट में आने से चिपचिपाहट दे रहे हैं। दवाई का स्प्रे समय पर नहीं होने की वजह से नुकसान का यह अटैक लगातार बढ़ता जा रहा है।

भोरंज ब्लॉक में कई किसानों का कहना है कि उनकी फसल तबाह हो रही है विभाग को भी कई बार इससे निजात दिलाने के लिए दवाई का स्प्रे करने को बोला गया है लेकिन कोई भी सुनवाई नहीं हो रही है। न ही तो विभाग के पास दवाई स्प्रे करने वाले कर्मचारी मौजूद हैं और ना ही विभाग के अधिकारी किसानों को इस बाबत जानकारी देकर इसके बचाव की रूपरेखा बता रहे हैं। यह किसान राकेश का कहना था कि पिछले एक सप्ताह से वह इस समस्या से बुरी तरह परेशान है। उसके बगीचे में करीब 4 दर्जन पेड़ हैं। उन सब पर मैंगो हापर बीमारी का अटैक बुरी तरह घर कर गया है। और 10 फीसदी फसल भी बची हो, ऐसा अब दिख नहीं रहा।

बिझड़ इलाके में भी यही स्थिति कई किसानों की हो गई है। नादौन इलाके से भी ऐसी शिकायतें मिल रही हैं कि आम की फसल इस बार तबाह हो रही है। दरअसल में बागवानी विभाग भी किसानों के लिए अब नमूना ही साबित हो रहा है क्योंकि समय पर इनके कर्मचारियों और अधिकारियों के पास किसानों तक पहुंच कर उन्हें सही जानकारी देने का समय बचा नहीं है। केवल मात्र चुनिंदा किसानों के टूर प्रोग्राम करवा कर यह विभाग अपने बजट को खर्च कर रहा है। इससे आम किसान परेशान है। उनका कहना है कि बागवानी विभाग लापरवाही छोड़कर किसानों के साथ मिल-जुल कर उनकी समस्या का हल निकालना चाहिए। ताकि थोड़ी बहुत बची हुई उम्मीद किसानों की फलीभूत हो पाए।

किसान परेशान, विभाग ने साधी चुप्पी, कौन बचाएगा आम के पेड़ों को, अटैक स्प्रे न होने से समस्या

मैंगो हॉपर ने आम की खेती का कई इलाकों में की फसल की हालत खराब।

किसान विभाग के कार्यालय से ले दवाइयां

बागवानी विभाग के यहां स्थित डिप्टी डायरेक्टर आरके धीमान का कहना है की मैंगो होपर का अटैक इतना ज्यादा नहीं है। उनका कहना है कि किसानों को मैंगो सप्रे के लिए एक दवाई विभाग के कार्यालय में या निजी दुकान पर मिल सकती है उसका सफाई करने से यह बीमारी खत्म हो जाती है। विभाग खुद किसानों के पास जाकर सप्रे करेगा, ऐसा नहीं हो सकता। क्योंकि कर्मचारी नहीं है जो सप्रे कर सकें।

X
आम पर ‘मैंगो हाॅपर’ का प्रकोप बढ़ा, फसल खराब
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..