हमीरपुर

--Advertisement--

बार-बार युक्तिकरण से प्राइमरी स्कूलों में पढ़ाई प्रभावित

राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ युक्तिकरण और लंबित मांगे न माने जाने पर आर-पार की लड़ाई को तैयार हो गया है। खफा संघ के...

Dainik Bhaskar

May 16, 2018, 02:00 AM IST
राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ युक्तिकरण और लंबित मांगे न माने जाने पर आर-पार की लड़ाई को तैयार हो गया है। खफा संघ के पदाधिकारी ब्लॉक के बाद अब 17 मई को जिला स्तर और 24 मई को स्टेट स्तर पर निदेशालय में शिक्षा सचिव व डायरेक्टर को ज्ञापन देंगे, अगर युक्तिकरण का फैसला वापस न लिया तो संघ संघर्ष का रास्ता अपनाने से भी गुरेज नहीं करेगा। काबिलेगौर है कि पीटीएफ प्रदेशाध्यक्ष जीएस बेदी की अध्यक्षता में हाल ही में नादौन में हुई अहम बैठक में अारोप लगया कि बार-बार युक्तिकरण से ही प्राइमरी स्कूलों में पढ़ाई प्रभावित हो रही, जो टीचर गुणवत्ता लाने के प्रयास कर रहे उनको भी इस चक्की में पीस दिया जा रहा है। बीते साल भी यही चक्की चली थी, सैकड़ों टीचर इधर से उधर हुए, कई स्कूल मर्ज किए, जिससे उन स्टूडेंट्स को पढ़ाई का नुकसान उठाना पड़ा, जो प्राइवेट स्कूलों की भारी भरकम फीस अदा नहीं कर सकते थे। अब फिर सरकार स्वयं इन स्कूलों की पढ़ाई प्रभावित करने पर तूल गई है।

टीचरों की मेहनत होगी बेकार: हजारों मेहनती टीचरों ने आम जनता में जाकर प्राइवेट स्कूलों में ही अच्छी पढ़ाई को लेकर पैदा हुआ भ्रम तोड़ा और सरकार द्वारा दी जा रही मुफ्त शिक्षा, फ्री किताबें, मुफ्त वर्दी, गरीब स्टूडेंट्स को वजीफा, खेलों के आयोजन जैसी सुविधाओं के दम पर आम जनता का रुझान सरकारी स्कूलों की तरफ बढ़ाया, जिन टीचरों के हौंसले पर बच्चों को सरकारी स्कूलों में भेजा गया, अगर वे युक्तिकरण में बदले गए तो पेरेंट्स का मनोबल टूटेगा, वो फिर से मजबूर होकर न चाह कर भी प्राइवेट स्कूलों की मनमानी सहने को मजबूर हो जाएंगे।

नर्सरी क्लास शुरू हो: संघ के प्रदेशाध्यक्ष जीएस बेदी का कहना है कि युक्तिकरण की जाए तो अच्छा होता अगर सरकार सरकारी स्कूलों में नर्सरी क्लास शुरू करने की पहल करती, पीटीआर को कम करके 41 बच्चों को 3 तीन टीचर मुहैया करवाते, जिसका सीधा लाभ आम जनता और सरकारी स्कूलों के स्टूडेंट्स को मिलना था। उन्होंने इस बजह से संघ ने संघर्ष की राह पर चलने का फैसला लिया है। ज्ञापनों के बाद अगर विभाग और सरकार ने युक्तिकरण का तुगलकी फरमान वापस नहीं लिया, संघर्ष हो कर रहेगा।

X
Click to listen..