--Advertisement--

हिमाचल: स्कूल बस 200 फुट गहरी खाई में गिरी, ड्राइवर समेत 25 स्टूडेंट की मौत

हिमाचल के कांगड़ा जिले के नूरपुर की घटना।

Dainik Bhaskar

Apr 09, 2018, 06:09 PM IST
हादसे के बाद बस पूरी तरह क्षति हादसे के बाद बस पूरी तरह क्षति

  • संकरे रास्ते में एक बाइक वाले को साइड देते हुए बस अनकंट्राेल हो गई और 200 फीट गहरी खाई में जा गिरी।
  • मौके पर राहत और बचाव करने पहुंची एनडीआरएफ की टीम ने कटर से बस को काटकर शवों को निकाला।
  • एडमिशन लेने के बाद कई बच्चे पहले ही दिन स्कूल गए थे और काफी खुश थे।

शिमला. हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा जिले के नूरपुर में सोेमवार को एक निजी स्कूल की बस करीब 200 फीट गहरी खाई में गिर गई। हादसे में 27 लोगों की मौत हो गई, जिनमें 23 बच्चे (13 लड़के, 10 लड़कियां), दो शिक्षक, एक महिला और बस ड्राइवर शामिल है। बस में कुल 37 लोग सवार थे। ज्यादातर बच्चों की उम्र 8-14 साल के बीच है। गंभीर रूप से घायल 10 बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें कई बच्चे ऐसे थे जो पहले ही दिन स्कूल गए थे।

हादसा कब हुआ?

- हादसे की शिकार बस मलकवाल इलाके के वजीर राम सिंह पठानिया मेमोरियल स्कूल की थी।

- सोमवार को लगभग शाम 4.30 बजे स्कूल से छुट्टी होने के बाद स्कूल की बस बच्चों को घर छोड़ने जा रही थी। चेली गांव के पास संकरे रास्ते में एक बाइक वाले को साइड देते हुए बस अनकंट्राेल हो गई और 200 फीट गहरी खाई में जा गिरी। हादसे में बस ड्राइवर एक्स सर्विसमैन मदन सिंह सहित ज्यादातर की मौके पर ही मौत हो गई थी।

हादसे की वजह

- पठानकोट अस्पताल में भर्ती पांचवीं क्लास के छात्र रणवीर ने बताया कि सोमवार को वह पहले ही दिन स्कूल गया था। बस चेली के पास पहुंची तो सामने से एक बाइक आ रही थी। ड्राइवर ने साइड दी और बस नीचे की तरफ लुढ़कने लग गई।

- बस का दरवाजा खुला होने की वजह से वह बाहर गिर गया। इसके बाद वह लकड़ी का सहारा लेकर ऊपर पहुंचा और जिसने शोर मचाकर लोगों को इकट्‌ठा किया। इसके बाद स्थानीय लोगों ने खाई में उतरकर बच्चों को निकाला।

बस को गैस कटर से काटकर लाशों को निकाला गया

- प्रशासन ने सूचना मिलने के बाद एनडीआरएफ की टीम को राहत और बचाव के लिए मौके पर भेजा।

- कटर से बस को काटकर लाशों को निकाला गया। हादसे में मारे गए बच्चे चक्की दरिया के आसपास के कुठेड़, सुल्याली गांवों के रहने वाले थे।

2015 मॉडल की थी स्कूल बस

- स्कूल प्रशासन के प्रबंधक बिट्‌टू ने बताया कि बस का मॉडल 2015 का था, जिसकी पासिंग 30 अप्रैल तक वैध थी। बस का इंश्योरेंस मार्च 2018 में ही करवाया गया था।

- बस ड्राइवर मदन सिंह पिछले 13 साल से स्कूल बस चला रहा था। इससे पूर्व वह सेना से रिटायर होकर घर आया था। घर आते ही उसने स्कूल बस चलाने की नौकरी कर ली थी। 35 स्टूडेंट्स चक्की दरिया के कुठेड़ा, संगोता , कयोड़ा और ठेहड़ा गांव के रहने वाले थे।

एडमिशन लेने के बाद कई बच्चे पहले ही दिन गए थे स्कूल

- जानकारी के मुताबिक, ज्यादातर बच्चे सोमवार को पहली बार ही एडमिशन के बाद स्कूल गए थे। बच्चे स्कूल से लौटते हुए काफी खुश थे, लेकिन एक हादसे ने उनकी जिंदगी और परिवारों की खुशी को छीन लिया।

अस्पताल में भी हर तरफ बच्चों की लाशें रखी हुई थीं

- हादसे की खबर मिलते ही बच्चों के घरवाले मौके पर पहुंच गए। गांवों में चीख- पुकार मच गई। हर तरफ अफरा-तफरी का माहौल था। अस्पताल में भी हर तरफ बच्चों की लाशें रखी हुई थीं और घरवाले बिलख रहे थे।

- वहीं, क्वाड़ा गांव के दो भाइयों के चार बच्चे इस हादसे में मारे गए हैं। दोनों भाइयों की एक-एक लड़की और एक-एक लड़का था। पोस्टमार्टम हाउस के बाहर भी गांववालों और परिवार वालों की भीड़ जमा थी।

मृतकों और घायलों के नाम

- हादसे में जान गंवाने वालों में नितिन (6), रिया (5), अवनशी (10), श्रुति (12), दीक्षा (11), इशिता (12), युवराज (10), सारिका (6), स्नेहा (10), हर्ष (12), वरुण परमिश (6), काना (9), पलक, तरुण (7), गौरव (11), मुकुल (19), कार्तिक (20), पर्णव (18), जाह्नवी (16), शगुन (10), रीतिका, राजेश कुमार (टीचर), नरेश कुमारी, (टीचर), मदन सिंह (ड्राइवर) शामिल हैं।

- गंभीर रूप से घायल 6 छात्रों का इलाज अमनदीप हॉस्पिटल पठानकोट में चल रहा है। जबकि, चार घायल छात्रों का उपचार नूरपुर हॉस्पिटल में चल रहा है, जिनमें मनीष, कनिका ईशांत और रणवीर शामिल हैं।

पीएम मोदी ने ट्वीट कर जताया दुख

- पीएम ने हादसे पर दुख जताते हुए कहा, “कांगड़ा में बस एक्सिडेंट में गई जानों से गहरा दुख हुआ। घटना में जान गंवाने वालों के परिजनों के लिए मेरी प्रार्थना और सहानुभूति।”

मुख्यमंत्री ने जांच के आदेश दिए

- मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने जांच के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने कहा- "ये बेहद दुखद घटना है। राहत और बचाव कार्य के लिए सभी कोशिशें की जा रही हैं। पीड़ित परिवार को हरमुमकिन मदद दी जाएगी।" उन्होंने मृतक बच्चों टीचरों और ड्राइवर के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपए का मुआवजा देने का एलान किया है।
- केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री और हिमाचल प्रदेश से सांसद जेपी नड्डा ने ट्वीट कर कहा- "हिमाचल के कांगड़ा में हुई स्कूल बस दुर्घटना में बच्चों की मौत की सूचना से मैं बहुत दुखी हूं। ईश्वर इस संकट की घड़ी में परिजनों को शक्ति दे। मैं घायलों के जल्दी स्वस्थ होने की कामना करता हूं।"

X
हादसे के बाद बस पूरी तरह क्षतिहादसे के बाद बस पूरी तरह क्षति
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..