Hindi News »Himachal Pradesh News »Kullu News» कुल्लू के 17 स्कूलों पर लटक सकता है ताला

कुल्लू के 17 स्कूलों पर लटक सकता है ताला

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:00 AM IST

जिला कुल्लू में ऐसे 17 प्राथमिक स्कूलों पर ताला लटक सकता है जो विद्यार्थियों के लिए तरस रहे हैं। हालांकि जिला में...
जिला कुल्लू में ऐसे 17 प्राथमिक स्कूलों पर ताला लटक सकता है जो विद्यार्थियों के लिए तरस रहे हैं। हालांकि जिला में अनेकों स्कूल ऐसे हैं जो अध्यापक और विद्यार्थियों के अनुपात पर खरे नहीं उतर रहे हैं। लेकिन जिला कुल्लू में 17 प्राथमिक स्कूल ऐसे हैं जहां पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों की संख्या पांच से नीचे रह गई है। जिला के इन 17 स्कूलों में 63 विद्यार्थी अध्ययनरत है जबकि अध्यापकों की संख्या पर नजर दौड़ाएं तो इन स्कूलों में 28 अध्यापक तैनात हैं। लिहाजा, ऐसे स्कूलों की सूची शिक्षा विभाग ने निदेशालय को भेज दी है और निदेशालय से आदेश मिलते ही इन स्कूलों पर ताला लटकना तय माना जा रहा है। इन स्कूलों में सबसे ज्यादा स्कूल निरमंड खंड में शामिल है जहां 7 स्कूल ऐसे हैं जिसमें विद्यार्थियों की संख्या पांच से नीचे रह गई है। उसके बाद आनी, नग्गर, कुल्लू-2 में तीन-तीन स्कूल ऐसे हैं जबकि कुल्लू-1 में एक स्कूल ऐसा है जिसमें बच्चों की संख्या पांच से कम रह गई है। लिहाजा, इन स्कूलों में ताला लटकना तय माना जा रहा है।

मासू और मोईन स्कूल में दो विद्यार्थी दो अध्यापक, थारेधार में एक अध्यापक एक बच्चा

ये स्कूल बंद होने की लाइन मेंजिला कुल्लू में 5 से कम विद्यार्थियों की संख्या वाले 17 स्कूलों में धार, बागी, कार्की, मोईन, चम्भू, इश्वा, रठोन, काण्डा, पोखनी, थारेधार, शंगचर, निपाला, गौर, मासू, खोपड़ी, डाली, समालंग आदि स्कूल शामिल हंै।

प्रदेश सरकार और निदेशालय से जिला में कम विद्यार्थियों की संख्या वाले स्कूलों की सूची मांगी थी। जिसके चलते विभाग ने जिला के 17 ऐसे स्कूलों की सूची निदेशालय को भेज दी है। अब निदेशालय के निर्देश के बाद आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। कुलवंत सिंह पठानिया, शिक्षा उप निदेशक ऐलिमेंटरी

दस किलोमीटर जाना पड़ेगा मोईन के बच्चों कोनिरमंड खंड के मोईन प्राथमिक स्कूल के बंद होने से क्षेत्र के बच्चों को 10 किलोमीटर दूर आनस जाना पड़ेगा। क्योंकि इस स्कूल को आनस प्राथमिक स्कूल में मर्ज किया जाने की योजना है। ऐसे में क्षेत्र के बच्चों को इतनी दूर जाकर पढ़ाई करनी पड़ेगी। इसके अलावा कुल्लू के समालंग स्कूल के बंद होने पर क्षेत्र के बच्चों को 5 किलोमीटर दूर कडिंगचा स्कूल में शिक्षा ग्रहण करने जाना पड़ेगा। इसके अलावा अन्य स्कूलों के बंद होने पर 4 से लेकर एक किलोमीटर तक दूर जाकर दूसरे स्कूलों में शिक्षा ग्रहण करनी पड़ेगी।

ये स्कूल वीआईपी से कम नहींइन 17 स्कूलों में कुछ स्कूल ऐसे भी हैं जहां अध्यापक और विद्यार्थियों का अनुपात किसी वीआईपी स्कूल से कम नहीं। इन स्कूलों में मासू और मोईन प्राथमिक स्कूल में दो विद्यार्थी दो अध्यापक तैनात है जबकि थारेधार स्कूल में एक विद्यार्थी एक अध्यापक हैं। इसके अलावा ज्यादातर स्कूल ऐसे हैं जहां 4 विद्यार्थी और दो अध्यापक तैनात है। कुछ स्कूल ऐसे हैं जहां पांच बच्चे और दो अध्यापक हैं। ऐसे में ये स्कूल किसी वीआईपी स्कूल से कम नहीं हैं।

वीआईपी से कम नहीं ये स्कूल, अध्यापक छात्रों के अनुपात को भी नहीं कर पा रहा पूरा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Kullu News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: कुल्लू के 17 स्कूलों पर लटक सकता है ताला
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Kullu

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×