नदौन

  • Hindi News
  • Himachal Pradesh News
  • Nadaun News
  • नौंहगी पंचायत के प्रधान का चुनाव रद‌्द, याचिका कर्ता ने कोर्ट में अवैध कब्जे को लेकर दी थी चुनौती
--Advertisement--

नौंहगी पंचायत के प्रधान का चुनाव रद‌्द, याचिका कर्ता ने कोर्ट में अवैध कब्जे को लेकर दी थी चुनौती

नादौन उपमंडल की नौंहगी पंचायत के प्रधान हंसराज स्याल का चुनाव रद्द हो गया है। उन पर सरकारी भूमि पर अवैध कब्जे का...

Dainik Bhaskar

May 11, 2018, 02:00 AM IST
नादौन उपमंडल की नौंहगी पंचायत के प्रधान हंसराज स्याल का चुनाव रद्द हो गया है। उन पर सरकारी भूमि पर अवैध कब्जे का आरोप था। एसडीएम नादौन दिले राम धीमान ने चुनावी याचिका की सुनवाई करते हुए आज नौंहगी पंचायत के प्रधान हंस राज स्याल के चुनाव के खिलाफ दायर याचिका पर फैसला सुनाते हुए याचिकाकर्ता सूरम सिंह की याचिका का स्वीकार करते हुए हंसराज के चुनाव को अवैध घोषित कर दिया है।

जानकारी देते हुए याचिकाकर्ता नौंहगी पंचायत के कुठियाणा गांव के सूरम सिंह पुत्र परस राम ने बताया कि हंसराज ने 5 जनवरी 2016 को हुए पंचायत चुनाव में गलत हल्फनामा चुनाव आयोग को दिया था कि उनका सरकारी जमीन पर कोई कब्जा नहीं है, जबकि हंसराज के पिता के नाम पटवारघर दंगड़ी के गांव कुठियाणा में खसरा नंबर 305 व 336/2 रकवा 876 हैक्टेयर सरकारी भूमि पर अवैध कब्जा था।

सूरम सिंह की चुनावी याचिका की पैरवी करने वाले एडवोकेट रोहित शर्मा ने बताया कि नौंहगी पंचायत के प्रधान हंसराज के पिता ज्ञान चंद के नाम न केवल सरकारी भूमि पर कब्जा था, अपितु सरकारी भूमि पर कब्जे को नियमित करने के लिए वर्ष 2005 में राजस्व विभाग को हल्फनामा भी दिया था।

हंसराज ने अवैध कब्जे के बारे में गलत हल्फनामा भी चुनाव आयोग को दिया था कि उनका सरकारी भूमि पर कोई कब्जा नहीं है। इस गलत हल्फनामे की वजह से ही चुनाव आयोग को गुमराह करते हुए वह अयोग्य होते हुए भी चुनावी मैदान में उतरे और चुनाव जीता।

उन्होंने बताया कि अदालत ने सूरम सिंह की चुनावी याचिका को स्वीकार करते हुए नौंहगी पंचायत के प्रधान हंसराज के चुनाव को अवैध करार दे दिया है। हंसराज स्याल के पांच भाई हैं, जिन्हें पिता की जमीन व हक हकूक मिले हैं। काबिलेगौर है कि हंसराज स्याल, महेश काका और भगवान दास ने 5 जनवरी, 2016 को प्रधान पद का चुनाव लड़ा था, जिसमें हंसराज ने अपने निकटतम प्रतिद्वद्धि महेश काका को 63 मतों से पराजित किया था।

X
Click to listen..