• Hindi News
  • Himachal
  • Nalagarh
  • नालागढ़ के एेतिहासिक तालाब की बदली दशा, अब यहां बोटिंग का लोग ले रहे मजा
--Advertisement--

नालागढ़ के एेतिहासिक तालाब की बदली दशा, अब यहां बोटिंग का लोग ले रहे मजा

औद्योगिकनगरी नालागढ़ के ऐतिहासिक तालाब में लोगों को जहां बोटिंग की सुविधा मिलने लगी है। वहीं पार्क ओपन एयर...

Dainik Bhaskar

Jan 08, 2018, 02:05 AM IST
नालागढ़ के एेतिहासिक तालाब की बदली दशा, अब यहां बोटिंग का लोग ले रहे मजा
औद्योगिकनगरी नालागढ़ के ऐतिहासिक तालाब में लोगों को जहां बोटिंग की सुविधा मिलने लगी है। वहीं पार्क ओपन एयर स्टेडियम की सुविधा भी मिलने वाली है। नालागढ़ के पुराने सीनियर सेकंडरी स्कूल के प्रांगन में बन रहे जवाहर लाल नेहरू पार्क और स्टेडियम का काम 95 फीसदी पूरा हो गया है।

तालाब की यह होगी खासियत

{इसतालाब पर करीब 2.5 करोड़ रुपए खर्च हो रहे { हनालागढ़ रोपड़ मार्ग पर पुराने सीनियर सेकंडरी स्कूल के पास स्थित ऐतिहासिक तालाब वर्ष 1800 का बना { जीर्ण-शीर्ण दशा को देखते हुए प्रशासन ने इसके संरक्षण के लिए जनसहयोग से इसका काम करवाना शुरू किया { आज यह स्थल पूरी तरह से विकसित हो चुका है। { तालाब शाम के समय रंग बिरंगी लाइटों से जगमगाता है। { तालाब के पास ऐतिहासिक शिव मंदिर और करीब सौ वर्ष पुरानी गौशाला स्थित है { तालाब के किनारे कैफेटेरिया की भी सुविधा दी गई है

ओपन एयर स्टेडियम का काम भी जल्द होगा पूरा | नालागढ़-रोपड़मार्ग पर करीब 30 बीघा भूमि पर बन रहे इस पार्क स्टेडियम की 4 सितंबर, 2016 को पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ने इसकी आधारशिला रखी थी निर्माण कार्य आरंभ किया गया। इस पार्क में रीडिंग रूम म्यूजियम की सुविधा प्रदान की जा रही है। इस पार्क और स्टेडियम पर करीब 2.5 करोड़ की राशि खर्च की जाएगी। वहीं इस पार्क का नाम पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के नाम पर रखा गया है। जबकि क्षेत्र के कुछ लोग पार्क का नाम नालागढ़ के राजा ईशरी सिंह या राजा सुरेंद्र सिंह के नाम पर रखने की मांग कर रहे थे। लोगों का कहना है कि राजा ईशरी सिंह ने पुराने सीसे स्कूल की भूमि दान में दी थी।

}प्रशासन ने ऐतिहासिक तालाब के संरक्षण को जनसहयोग से शुरू किया था काम

X
नालागढ़ के एेतिहासिक तालाब की बदली दशा, अब यहां बोटिंग का लोग ले रहे मजा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..