--Advertisement--

समझौते के मुताबिक ढुलान का कार्य ने मिलने से भड़के ट्रक ऑपरेटर

अल्ट्राटेकसीमेंट कंपनी की तरफ से समझौते के मुतािबक माल ढुलाई का कार्य नहीं मिलने से जिला सोलन बिलासपुर ट्रक...

Danik Bhaskar | Jan 10, 2018, 02:05 AM IST
अल्ट्राटेकसीमेंट कंपनी की तरफ से समझौते के मुतािबक माल ढुलाई का कार्य नहीं मिलने से जिला सोलन बिलासपुर ट्रक ऑपरेटर समन्वय समिति ने नाराजगी जताई है।

समन्वय समिति की तरफ से जारी बयान में कहा कि अल्ट्राटेक सीमेंट कारखाने से बागा भलग (अर्की) से सीमेंट क्लिंकर माल ढुलान में लगभग 4000 ट्रक जेपी सीमेंट बागा भलग से अलग-अलग स्थानों के लिए 8 वर्षों से सीमेंट ढुलाई का कार्य कर रहे हैं। जुलाई 2017 में जेपी प्रबंधन ने उक्त सीमेंट प्लांट अल्ट्राटेक सीमेंट प्रबंधन को बेच दिया। इसके बाद अल्ट्राटेक प्रबंधन से दोनों जिलों की समन्वय समिति की बैठक हुई प्रबंधन में 3 महीने का समय कारखाने को सुचारू रूप से चलाने के लिए मांगा। पदाधिकारियों ने कहा कि आज सातवां महीना शुरू हो चुका है लेकिन अल्ट्राटेक प्रबंधन केवल 30-40 प्रतिशत की माल ढुलान कार्य दे रहा है।

पूर्व में क्लिंकर ढुलान पानीपत रुड़की प्लांटो को दिया जाता था, इससे गाड़ियों को माल ढुलान सुचारू रूप से मिलता रहता था, लेकिन 31 लाख टन प्रति वर्ष क्लिंकर बनाने वाला प्लांट केवल 30-40 प्रतिशत ही उत्पादन कर रहा है। जिससे 4000 ट्रक ऑपरेटर पर वित्तीय संस्थाओं की देनदारियों दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। एक ट्रक का एक महीने का खर्च लगभग 50, 000 हैं। बैंकों प्राइवेट वित्तीय संस्थाओं के कर्ज उस पर चक्रवृद्धि ब्याज के चलते दोनों जिलों के ट्रक आॅपरेटरों के परिवार पर आर्थिक संकट पैदा हो गया है। दूसरे अल्ट्राटेक कंपनी का एक सीमेंट प्लांट बघेरी (नालागढ़) में स्थित है जिसके लिए क्लिंकर बागा (अर्की) से दिया जाता है। वहां से कंपनी लगभग 4000 टन उत्पादन कर रही है 15 टन सीमेंट ढुलान ओवरलोड हिमाचल के सभी जिलों को बघेरी से माल ढुलाई की जा रही है। जिससे बागा (अर्की) से हिमाचल की सीमेंट डीमांड बिल्कुल खत्म हो चुकी है ट्रक आपरेटरों को जानबूझकर भारी नुकसान पहुंचाया जा रहा है।