Hindi News »Himachal »Rampur» बाहवा पंचायत में पेयजल को लेकर हाहाकार, आठवें दिन मिल रहा पानी

बाहवा पंचायत में पेयजल को लेकर हाहाकार, आठवें दिन मिल रहा पानी

भास्कर न्यूज | रामपुर बुशहर निरमंड खंड की बाहवा पंचायत के चार गांव के हजारों लोग पेयजल किल्लत की मार से जूझ रहे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:05 AM IST

भास्कर न्यूज | रामपुर बुशहर

निरमंड खंड की बाहवा पंचायत के चार गांव के हजारों लोग पेयजल किल्लत की मार से जूझ रहे हैं। जबकि आईपीएच विभाग ग्रामीणों को पर्याप्त पेयजल आपूर्ति करने में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रहा है। ग्रामीणों को विभाग 8 दिन में एक बार पेयजल आपूर्ति दे तो रहा है वह भी 15 मिनट के लिए, ऐसे में ग्रामीणों को जीवनयापन करने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। आईपीएच विभाग का खामियाजा आज चार गांव के हजारों लोगों को भुगतना पड़ रहा है। इसके चलते ग्रामीणों में प्रदेश सरकार और आईपीएच विभाग के प्रति खासा रोष हैं।

पानी खरीदने को मजबूर ग्रामीण: बाहवा पंचायत के परस राम, नीरथ सिंह, लाल चंद, दौलत राम, जयशील पुजारी, बुद्धराम, किरत राम, योगराज, फूला देवी, ममता देवी, रीता देवी, आरती, कांता देवी, श्याम देवी सहित अन्य ग्रामीणों ने बताया कि वे इन दिनों 700 रुपये में 500 लीटर पानी खरीदने को मजबूर हो गए हैं।

हालांकि आईपीएच विभाग आठ दिनों के बाद पेयजल मुहैया तो करवा रहा है, लेकिन यह आपूर्ति भी मात्र 15 मिनट के लिए ही दी जा रही है। ऐसे में क्षेत्र में पेयजल के लिए हाहाकार मची हुई है। इस बारे में आईपीएच विभाग को बार बार शिकायत की गई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो पाई है। उन्होंने प्रदेश सरकार, स्थानीय प्रशासन और आईपीएच विभाग से समय रहते ग्रामीणों को पेयजल आपूर्ति मुहैया करवाने की मांग की है। इसके चलते आज उक्त पंचायत के बाहवा, शटलधार, जडोली और चंभू गांव में वर्षों से लोग पेयजल की समस्या से जूझ रहे हैं।

आईपीएच विभाग आठ दिन बाद मात्र 15 मिनट दे रहा पेयजल आपूर्ति

पेयजल योजना का निर्माण कार्य अधर में

गौरतलब है कि बाहवा पंचायत में पूर्व में लोग प्राकृतिक जल स्रोतों से अपनी प्यास बुझा रहे थे, लेकिन रामपुर जल विद्युत परियोजना के निर्माण के बाद क्षेत्र के सभी जलस्रोत सुख गए हैं और ग्रामीण पेयजल किल्लत की मार झेलने को मजबूर हैं। हालांकि रामपुर परियोजना द्वारा उक्त प्रभावित पंचायत को अन्य पंचायतों की तर्ज पर 4 करोड़ रुपये से पेयजल योजना का निर्माण भी कर रहा था, लेकिन इस योजना का निर्माण कार्य अधर में है और पानी की बूंद बूंद के लिए तरस गए हैं। पेयजल समस्या को लेकर पंचायत का एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से भी मिल चुका है। विभागाधिकारियों को जल्द इस समस्या को दूर करने के निर्देश दिए हैं। रामचंद्र जोशी, पंचायत प्रधान बाहवा।

पेयजल स्रोतों में 50 प्रतिशत तक पानी कम हो गया हैं। इसके चलते उक्त क्षेत्र में 4 दिन बाद पानी दिया जा रहा हैं। समस्या को जल्द दूर करने की कोशिश की जा रही हैं। नवल किशोर, एसडीओ आईपीएच विभाग निरमंड।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rampur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×