शिमला अर्बन, रूरल में 40 हजार गाड़ियां, अभी तक 12600 गाड़ियाें ने लगाया फास्टैग

Shimla News - शहर में फास्टैग लगाने के लिए लाेगाें ने अपनी काफी अधिक दिलचस्पी दिखाई है। शिमला शहर, ग्रामीण क्षेत्राें में...

Dec 03, 2019, 07:35 AM IST
Shimla News - 40 thousand vehicles in shimla urban rural 12600 trains fasted so far
शहर में फास्टैग लगाने के लिए लाेगाें ने अपनी काफी अधिक दिलचस्पी दिखाई है। शिमला शहर, ग्रामीण क्षेत्राें में रजिस्टर्ड कमर्शियल वाहनाें के अलावा निजी अाैर बाहरी राज्य जाने वाले करीब 40 हजार वाहनाें में फास्टैग लगने हैं। अभी तक परिवहन विभाग के अांकड़ाें के अनुसार 12600 वाहनाें में फास्टैग लगाए जा चुके हैं। इसके अलावा लाेग अाॅनलाइन भी फास्टैग लगा रहे हैं। बाहरी राज्य जाने वाले अधिकतर वाहनाें में फास्टैग लग चुके हैं, इसके बावजूद जाे वाहन शहर में चलते हैं, उसमें भी फास्टैग लगाने के लिए लाेग परिवहन विभाग में अावेदन कर रहे हैं। अगर किसी वाहन में फास्टैग नहीं लगा हो तो दोगुना फाइन भरने का निर्देश दिया गया था, जिसे लेकर वाहन मालिकों में अब फास्टैग लगाने के लिए हाेड़ लगी हुई हैं। हालांकि, सरकार ने इसकी डेडलाइन 15 दिसंबर तक और बढ़ा दी है। अतिरिक्त कमिश्नर ट्रांसपाेर्ट विभाग हेमिस नेगी का कहना है कि फास्टैग लगाने उन वाहनाें के लिए जरूरी है, जाे टाेल प्लाजा हाेकर गुजरते हैं। बाहरी राज्य जाने वाले वाहनाें के लिए फास्टैग जरूरी है। एेसे में वाहन मालिक इसे लगाने के लिए काफी दिलचस्पी दिखा रहे हैं।

एेसे हाेता है फास्टैग फास्टैग एक रेडियो फ्रीक्वेंसी टैग है, जिसे वाहन के विंडशील्ड पर लगाया जाता है, ताकि जब वाहन टोल प्लाजा से गुजरे तो वहां मौजूद सेंसर फास्टैग को रीड कर ले और उपकरण ऑटोमैटिक टोल टैक्स की वसूली कर ले। इससे वाहन चालकों के समय की बचत होती है। फास्टैग को समय-समय पर रिचार्ज करना पड़ता है। इसकी वैधता पांच साल तक की है। सभी फास्टैग ग्राहकों को टोल टैक्स में 2.5 फीसदी तक कैशबैक भी मिलेगा।

नहीं लगवाया तो ये होगा नुकसान सड़क परिवहन मंत्रालय के निर्देशानुसार, जो भी फास्टैग नहीं लगवाएगा उसे दोगुना टोल टैक्स वसूला जाएगा। हालांकि, बिना फास्टैग लगी गाड़ियों के लिए टोल प्लाजा पर एक अलग से लेन रहेगी। ऐसे में सिंगल लेन होने के कारण वहां वाहनों की लंबी कतार हो सकती है, जिससे आपका समय टोल प्लाजा के कतार में बर्बाद नहीं होगा।

बैंक अकाउंट से किया जा सकता है लिंक इसे माय फास्टैग ऐप की मदद से बैंक अकाउंट से लिंक किया जा सकता है। यूजर को व्हीकल रजिस्ट्रेशन नंबर डालना होगा, जिसके बाद फास्टैग एक्टिवेट होगा। ऐप पर यूपीआई पेमेंट के जरिए यूजर अपने फास्टैग को रिचार्ज कर सकेंगे। इसे पेटीएम से भी खरीदा जा सकेगा। पेटीएम पर वाहन की रजिस्ट्रेशेन नंबर और व्हीकल रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट अपलोड कर नए फास्टैग के लिए आवेदन किया जा सकता है।

15 दिसंबर तक कैश से भी टाेल प्लाजा पर कर सकेंगे भुगतान केंद्र सरकार ने टोल प्लाजा पर फास्टैग से भुगतान की समय सीमा को एक दिसंबर से आगे बढ़ा दिया था। अब 15 दिसंबर तक लोग टोल प्लाजा पर कैश से भुगतान कर सकेंगे। 15 दिसंबर के बाद उन वाहन मालिकों को इलेक्ट्रॉनिक टोल लेन में घुसने पर दो बार टोल चुकाना होगा, जिनकी गाड़ी पर फास्टैग नहीं लगा होगा। उस समय सभी टोल प्लाजा के सभी लेन इलेक्ट्रॉनिक होंगे, इसलिए फास्टैग जरूरी होगा।

X
Shimla News - 40 thousand vehicles in shimla urban rural 12600 trains fasted so far
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना