अन्नकूट उत्सव पर शहर के 80 परिवाराें ने बनाए 500 व्यंजन, भगवान काे लगाया भाेग

Shimla News - शिमला| नए अनाज से सबसे पहले भगवान काे प्रसाद बनाकर चढ़ाया जाता है। यह परंपरा भगवान श्री कृष्ण ने करीब 5000 साल पहले...

Nov 11, 2019, 07:26 AM IST
शिमला| नए अनाज से सबसे पहले भगवान काे प्रसाद बनाकर चढ़ाया जाता है। यह परंपरा भगवान श्री कृष्ण ने करीब 5000 साल पहले शुरू की थी। तब से शुरू हुई यह परंपरा अाज भी कायम है। इसी परंपरा के चलते श्री अक्षरधाम मंदिर न्यू शिमला में अन्नकूट उत्सव मनाया गया। स्वामी जै तीर्थ जी ने प्रात 11 बजे अन्नकूट की पूजा की अाैर विशेष आरती की। उसके बाद शहर के 70 से 80 परिवार घरों से करीब 500 व्यंजन लेकर अाए जिसका भोग मंदिर में लगाया गया। प्रेस सचिव सुमन पॉल दत्ता ने बताया कि भाेग लगाने के बाद हर घंटे बाद प्रभु की आरती की गई। अंतिम आरती सांय 7 बजे की गई। दोपहर 12 बजे भंडारे का आयोजन किया गया।

इन व्यंजनों का लगा भोग अलग-अलग व्यंजनों में करीब पांच प्रकार के चावल बनाए गए। इसके अलावा सूप, दाल, चटनी, कढ़ी, शरबत, मुरब्बा, हलवा, पूरी, न्यूट्री, बड़ियां, मठ्ठी, कई प्रकार के नमकीन, फेनी, मालपुआ, जलेबी, रसगुल्ला, रायता, दलिया, लड्डू, साग, अचार, खीर, दही, गाय का घी, मक्खन, मलाई, रबड़ी, पापड़, लस्सी, इलायची, फल समेत कई प्रकार के व्यंजन भगवान कृष्ण काे लगाए गए।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना