--Advertisement--

मुख्यमंत्री शपथ समारोह - प्रधानमंत्री के आने से पहले ही सुबह साढ़े नो बजे ही शहर जाम

पुलिस को सिर्फ परवाह थी तो इस बात की कि वीपीआईपी के काफिलों आसानी से रिज पर पहुंच जाएं।

Dainik Bhaskar

Dec 28, 2017, 08:15 AM IST
रिज पर आयाेजित शपथ ग्रहण समारोह खत्म होने के बाद ट्रैफिक रूट खोले गए जिस कारण गाड़ियों की तादाद इतनी बढ़ गई की छोटा शिमला में जाम लग गया। रिज पर आयाेजित शपथ ग्रहण समारोह खत्म होने के बाद ट्रैफिक रूट खोले गए जिस कारण गाड़ियों की तादाद इतनी बढ़ गई की छोटा शिमला में जाम लग गया।

शिमला. दावा था कि प्रदेश के नए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की ताजपोशी के लिए पूरे बंदोबस्त किए गए हैं लेकिन प्रदेश भर से आए समर्थकों के प्रेशर के आगे ट्रैफिक पुलिस के इंतजाम साढ़े नौ बजे ही जवाब दे गए तो शहर की ओर आने वाले सड़के बंद कर दी गईं। फिर तो चार घंटे तक शहर पूरी तरह ठहर गया। पुलिस को सिर्फ परवाह थी तो इस बात की कि वीपीआईपी के काफिलों आसानी से रिज पर पहुंच जाएं।

सड़कें बंद हुई तो एंबुलेंस भी फंसी और शिमला पहुंचने के लिए सिंगाराम जैसे बुजुर्ग को भी पांच किलोमीटर पैदल चलना पड़ा। शिमला आए सैलानियों की गाड़ियां पार्किंग में फंसी रह गई। निचले हिमाचल और चंडीगढ़ जाने वाले बसें ट्रैफिक में ऐसी फंसी कि डेढ़ से दो घंटे देरी से चली। शिमला आने वाली सड़कों से ट्रैफिक डायवर्ट किया तो लोगों को समझ ही नही आया कि शिमला कैसे पहुंचे।

तारादेवीतक 6 किमी लंबा जाम: सोलनकी तरफ से आने जाने वाले वाहनों को करीब 6 किलोमीटर लंबे जाम से गुजरना पड़ा। सुबह 7 बजे से जाम शुरू हो गया। पुलिस ने शपथ समारोह में आने वाले बड़े वाहनों को टूटीकंडी क्रॉसिंग तक आने का प्लान बनाया गया था। जबकि छोटे वाहनों को 103 टनल तक ड्रापिंग के बाद वापस जाना था। टूटीकंडी क्रॉसिंग पर कुछ देर तक तो सही व्यवस्था रही लेकिन नौ बजने तक जाम काबू से बाहर हो गया। बड़े वाहनों को तो संकटमोचन से आगे अाने ही नहीं दिया गया।

तवी मोड़ से डायवर्ट किया ट्रैफिक
लोअरहिमाचल से भाजपा समर्थक सबसे ज्यादा तादाद में शिमला रहे थे। लेकिन साढ़े नौ बजे के बाद तवी मोड़ से बालूगंज सड़क को भी बंद दिया गया। बिलासपुर, मंडी, हमीरपुर समेत लोअर हिमाचल से आने वाले ट्रैफिक चक्कर होकर आगे आया तो कालका-शिमला हाइवे पर पहले से लगे जाम में ट्रैफिक फंस गया। टुटू से आने वाले लोकल बसों को भी वाया टूटीकंडी भेजा गया तो बसें डेढ़ से दो घंटे में खलीणी चौक पहुंची। शिमला को आने वाली बसों को भी तवी मोड़ से वाया चक्कर टूटीकंडी के लिए डायवर्ट कर दिया गया। टूटीकंडी क्रॉसिंग से लोगों को पैदल ही शिमला आना पड़ा।

प्राइवेट बसें भी हो गई खड़ी
शपथग्रहण समारोह में बदले गए रूट पर जब जाम लगने लगा तो प्राइवेट बस ऑप्रेटरों ने भी लंबे रूट पर चलने की बजाय अपनी गाड़ियां खड़ी कर दीं। ऐसे में शिमला आने वाले लोकल लोगों को बसें नहीं मिलीं। शिमला से बाहर टूटीकंडी क्रॉसिंग पर पुलिस ने बसें दूसरी गाड़ियां रोक दीं। पर्यटकों को जब शहर में पहुंचने में दिक्कतें आई तो उन्हें टैक्सियां करके शहर में पहुंचना पड़ा।

सचिवालय में सरकार, समर्थकों का जाम
रिजमैदान पर शपथ ग्रहण समारोह के तुरंत बाद जैसे ही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर अन्य मंत्री सचिवालय पहुंचे तो वहां पर उनके हजारों समर्थक भी छोटा शिमला पहुंच गए। वह सचिवालय के बाहर आधी सड़क तक खड़े हो गए। इससे यहां पर काफी देर तक जाम लगा रहा। पुलिस हेड क्वार्टर से लेकर राजभवन को जाने वाली सड़क तक काफी देर तक जाम लगा रहा। वहीं जब पुलिस ने सड़क से लोगों को हटाया तो उसके बाद भी यहां पर वाहन रेंग-रेंग कर चलते रहे।

पर्यटक भी निकले पैदल
शिमला शहर घूमने के लिए बाहरी राज्यों से आए पर्यटकों के लिए भी बुधवार का दिन भारी परेशानी वाला रहा। जो लोग शिमला के लिए रहे थे, उन्हें तारादेवी से आगे आने के लिए दो से ढाई घंटे तक का समय लग गया। इसके अलावा रिज मालरोड पूरा जाम था, इसके चलते पर्यटक घूमने का आनंद भी नहीं उठा सके। रिज पर उन्हें जाने नहीं दिया गया। जाेधा निवास और फिंगास्क एरिया के होटलों में पर्यटक गाड़ियों के साथ फंसे रहे। जाखू सड़क को भी बंद किया गया था। पर्यटक पैदल ही सामान के साथ निकल पड़े।

मालरोड, लोअर बाजार के बीच में भी बैरिकेड
रिज पर शपथ ग्रहण के लिए अनाडेल से रिज आने वाले नेताओं के लिए वाया माल रोड रूट लगा। ये सभी वीवीआईपी मालरोड से राजभवन और फिर वापस मुड़कर रामचंद्रा चौक, मच्छी वाली कोठी और जोधा निवास होते हुए रिज पर पहुंचे। इन सभी सड़कों पर आम लोगों की गाड़ियाें के लिए रास्ता पूरी तरह से बंद कर दिया। प्रधानमंत्री का इसी सड़क से आना जाना हुआ। माल रोड से लोअर बाजार जाने वाली सीढ़ियां भी गेयटी थिएटर के सामने बैरिकेट लगाकर बंद कर दी।

मालराेड-आईजीएमसी का पैदल रास्ता भी बदला
शपथग्रहण समारोह के लिए मालरोड और रिज पर वीवीआईपी का रूट लगा था तो पैदल चलने के रास्ते भी बदल दिए। स्टेट बैंक से आगे सीटीओ और सैकेंडल प्वाइंट की तरफ आने वाली सड़क पैदल चलने के लिए बंद हुई तो लोगाें को कालीबाड़ी होकर आना पड़ा। रिज पर लोगों की भीड़ थी तो आईजीएमसी जाने वालों के टका बैंच होकर और लक्कड़ बाजार होकर पैदल जाने वाला रास्ता बंद कर दिया। लोगों को स्कैंडल प्वाइंट से लक्कड़ बाजार बस स्टैंड से ऑकलेंड होकर वापस लक्कड़ बाजार होकर आईजीएमसी पहुंचना पड़ा।

शपथग ्रहण समारोह अभी शुरू भी नहीं हुआ था कि पुलिस ने ह्यूमन चेन बनाकर रिज की ओर जाने वाला रास्ता बंद कर दिया। समारोह स्थल सुबह ही फुल हो चुका था जिस कारण अन्य लोगों को वहां जाने से रोका जा रहा था। शपथग ्रहण समारोह अभी शुरू भी नहीं हुआ था कि पुलिस ने ह्यूमन चेन बनाकर रिज की ओर जाने वाला रास्ता बंद कर दिया। समारोह स्थल सुबह ही फुल हो चुका था जिस कारण अन्य लोगों को वहां जाने से रोका जा रहा था।
शपथ ग्रहण समारोह के बाद विधानसभा के पास भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के काफिले में एक एंबुलेंस भी फंस गई। काफिला जाने के बाद ही एंबुलेंस ही आगे जा पाई। शपथ ग्रहण समारोह के बाद विधानसभा के पास भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के काफिले में एक एंबुलेंस भी फंस गई। काफिला जाने के बाद ही एंबुलेंस ही आगे जा पाई।
X
रिज पर आयाेजित शपथ ग्रहण समारोह खत्म होने के बाद ट्रैफिक रूट खोले गए जिस कारण गाड़ियों की तादाद इतनी बढ़ गई की छोटा शिमला में जाम लग गया।रिज पर आयाेजित शपथ ग्रहण समारोह खत्म होने के बाद ट्रैफिक रूट खोले गए जिस कारण गाड़ियों की तादाद इतनी बढ़ गई की छोटा शिमला में जाम लग गया।
शपथग ्रहण समारोह अभी शुरू भी नहीं हुआ था कि पुलिस ने ह्यूमन चेन बनाकर रिज की ओर जाने वाला रास्ता बंद कर दिया। समारोह स्थल सुबह ही फुल हो चुका था जिस कारण अन्य लोगों को वहां जाने से रोका जा रहा था।शपथग ्रहण समारोह अभी शुरू भी नहीं हुआ था कि पुलिस ने ह्यूमन चेन बनाकर रिज की ओर जाने वाला रास्ता बंद कर दिया। समारोह स्थल सुबह ही फुल हो चुका था जिस कारण अन्य लोगों को वहां जाने से रोका जा रहा था।
शपथ ग्रहण समारोह के बाद विधानसभा के पास भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के काफिले में एक एंबुलेंस भी फंस गई। काफिला जाने के बाद ही एंबुलेंस ही आगे जा पाई।शपथ ग्रहण समारोह के बाद विधानसभा के पास भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के काफिले में एक एंबुलेंस भी फंस गई। काफिला जाने के बाद ही एंबुलेंस ही आगे जा पाई।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..