--Advertisement--

विकास में अनदेखी के चलते कांग्रेस मुक्त हो गया है मंडी जिला : अनिल

विधायक बोले- वीरभद्र ने कांग्रेस को बनाया है ‘वीरभद्र सिंह एंड सन्ज’

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 07:37 AM IST
मंडी में मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए विधायक अनिल शर्मा। उन्होंने बयां किया अपने दिल की दर्द। मंडी में मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए विधायक अनिल शर्मा। उन्होंने बयां किया अपने दिल की दर्द।

मंडी. मंडी से भाजपा के विधायक अनिल शर्मा ने वीरभद्र सिंह पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि आज जिला मंडी में कांग्रेस को शून्य करने में सबसे बड़ा हाथ वीरभद्र सिंह का है। वीरभद्र सिंह ने कांग्रेस को एक पार्टी नहीं बल्कि ‘वीरभद्र सिंह एंड सन्ज’ बनाकर रख दिया है। विधानसभा चुनावों में जीत के बाद बधाई देने आए कार्यकर्ताओं से मुलाकात के बाद अनिल शर्मा ने कहा कि मेरे भाजपा में शामिल होने पर वीरभद्र सिंह ने एक या दो लोगों के भाजपा में जाने से कोई फर्क नहीं पड़ने का ब्यान दिया था, जिसका असर अब उन्हें पता चला होगा।

पार्टी करेगी तय सीएम
भाजपा के मुख्यमंत्री चेहरा प्रेम कुमार धूमल की हार पर अफसोस जताते हुए अनिल शर्मा ने कहा कि भाजपा की जीत में यह सूचना दुखद है। मंडी से सीएम पद पर जवाब देते हुए कहा कि भाजपा देश की सबसे बड़ी पार्टी है,जो प्रदेश के हित के लिए ही क्षेत्रवाद से ऊपर उठकर निर्णय लेती है। भाजपा व पीएम मोदी ने मेरे ऊपर जो विश्वास जताया है उसके लिए मैं उनका आभारी हूं। मैंने अभी भाजपा में पहला चुनाव लड़ा है। इस मुद्दे पर जो भी निर्णय पार्टी लेगी उसका पूरा समर्थन किया जाएगा। भाजपा हाईकमान प्रदेश के हित को देखते हुए ही सीएम पद के लिए चेहरे का चुनाव करेगी। सीएम के चयन के लिए पार्टी में एक तय प्रक्रिया है उसी के अनुसार ही कार्य किया जाएगा। पार्टी मुझे

जो भी जिम्मेदारी देगी उसका पूरी ईमानदारी के साथ पूरा किया जाएगा।

छोटा नेता भी हो सकता है घातक, मंडी में खाता तक नहीं खोल सकी कांग्रेस

जिला मंडी के चुनावी नतीजों ने बता दिया है कि एक छोटा नेता भी कितना बड़ा नुकसान कर सकता है। पूरे प्रदेश में जहां कांग्रेस खाता खोलने में कामयाब रही है वहां जिला मंडी में कांग्रेस का खाता भी नहीं खुल सका है। इस हार के लिए सीधे तौर पर वीरभद्र सिंह जिम्मेदार है। जिन्होेंने न केवल समय-समय पर मंडी जिला की अनदेखी की वहीं पंडित सुखराम को भी अपमानित किया। आज उसी का परिणाम है कि मंडी कांग्रेस मुक्त हो गई है। इससे पंडित सुखराम के जनाधार का भी आभास उन्हें हो गया होगा। वीरभद्र सिंह की सत्ता में मात्र कुछ लोगों तक ही पावर सीमित रहती है। अब समय आ गया है कि कांग्रेस को भी अपनी हार का विश्लेषण करना चाहिए। मेरा लक्ष्य हमेशा सदर क्षेत्र के साथ मंडी जिला का विकास करना है। पार्टी के सहयोग से विकास कार्यों को और गति दी जाएगी।