Hindi News »Himachal »Shimla» Do Not Tell Your ATM Card Or PIN

ठगों से बचे- किसी को न बताएं अपना ATM काेड या पिन, इस साल ठगे एक करोड़ 67 लाख

एटीएम कार्ड एक्सपायर होने पर भी आपके बैंक का कोई ऑफिसर अापको ऐसा कॉल नहीं करता है।

Ramprasad Maralu | Last Modified - Dec 10, 2017, 03:56 AM IST

  • ठगों से बचे- किसी को न बताएं अपना ATM काेड या पिन, इस साल ठगे एक करोड़ 67 लाख
    डेमोफोटो

    शिमला.अगर आपको कभी किसी बैंक ऑफिसर के नाम से आपके एटीएम पिन बदलने के 16 नंबर का कोड या 4 नंबरों का पिन मांगने का कॉल आए तो अपनी ऐसी कोई भी जानकारी बिलकुल शेअर न करें। क्योंकि अगर आपने ये जानकारी शेअर कर दी तो कुछ ही मिनट में आपके बैंक एकाउंट में रखा गया पैसा शातिर ठगों के एकाउंट में पहुंच जाएगा। इस साल एटीएम पिन या कोड हासिल करके लोगों के बैंक खातों से पैसा निकालने की घटनाएं लगातार बढ़ी हैं। जबकि सच ये है कि एटीएम कार्ड एक्सपायर होने पर भी आपके बैंक का कोई ऑफिसर अापको ऐसा कॉल नहीं करता है।

    इस साल अक्टूबर तक डिजिटल बैंकिंग फ्रॉड की वजह से 316 लोगों के खातों का पैसा यही शातिर चोर उड़ा चुके हैं। ठग आधार कार्ड को बैंक के साथ लिंक करने के लिए लोगों को कॉल कर रहे हैं। 16 डिजिट का आधार कार्ड नंबर ठग को पता चलते ही आपके खाते से पैसा निकलने का मैसेज आपके मोबाइल पर आ जाएगा लेकिन ये कोई नहीं बता सकता कि आपका पैसा किसने निकाला है। शातिरों ने पिन नंबर बदलने और आधार कार्ड लिंक करने के नाम पर इस साल जनवरी से अक्टूबर महीने तक लोगों के खातों से करीब एक करोड़ 67 लाख रुपए निकल लिए हैं। पिछले साल प्रदेश में इस तरह की ठगी के जरिए 110 लोगों के खातों से 42.19 लाख रुपए निकाल लिया था।

    निशाने पर हैं ग्रामीण क्षेत्रों के लोग
    शातिरों के निशाने पर ग्रामीण क्षेत्रों के लोग हैं। गांव के लोगों से एटीएम पिन और आधार नंबर हासिल कर ठगी को आसानी से अंजाम दे देते हैं। लोगों को ठगी के बारे में तब पता चलता है जब पैसा निकालने का मैसेज आता है। जिनके मोबाइल नंबर उनके बैंक खातों से लिंक नहीं हैं, उन्हें बैंक आने के बाद ही इसके बारे में पता चलता है।

    शिमला जिले में ठगे ज्यादा
    डिजिटल बैंकिंग फ्रॉड के जरिए ठगाें के निशाने पर सबसे ज्यादा शिमला जिले के लोग रहे। कांगड़ा में 40, सोलन में 27, कुल्लू में 23, बिलासपुर में 17, बीबीएन में 16, ऊना व बिलासपुर में 14-14 केस सामने आए हैं। लाहौल स्पीति ही एक ऐसा जिला है, जहां ठगी का एक केस सामने आया है।

    पुलिस की ये है सलाह
    एसपी साइबर क्राइम संदीप धवल का कहना है कि डेबिट, क्रेडिट कार्ड की इन्फाॅर्मेशन किसी से शेयर न करें। अगर कोई एटीएम पिन बदलने के लिए कॉल करें, तो भी यह जानकारी न दें। आपका क्रेडिट या डेबिट कार्ड एक्सपायर हो जाए तो बैंक आपको खुद भेजता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Shimla News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Do Not Tell Your ATM Card Or PIN
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Shimla

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×