--Advertisement--

5000 सेंटर पैरा मिलिट्री फोर्स और पुलिस का रहेगा पहरा, होंगे पुख्ता इंतजाम

मतगणना के लिए जेनेसिस सॉफ्टवेयर होगा इस्तेमाल, 6 महीने तक ईवीएम में सुरक्षित रहेगा रिजल्ट

Dainik Bhaskar

Dec 18, 2017, 07:37 AM IST
स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर ईवीएम की सुरक्षा के लिए तैनात किए गए जवान। स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर ईवीएम की सुरक्षा के लिए तैनात किए गए जवान।

शिमला. प्रदेश विधानसभा चुनाव में मतगणना केंद्रों पर 5000 जवानों का कड़ा पहरा रहेगा। इसमें सेंटर पैरा मिलिट्री फोर्स के 3000 और हिमाचल पुलिस के 2000 हजार जवानों की मतगणना केंद्रों पर तैनाती कर दी गई है। सुरक्षा के तीन पहरे में मतों की गणना का कार्य किया जाएगा।

मतगणना प्रदेश के सभी 68 विधानसभा में बनाए गए 48 मतगणना केंद्रों में की जाएगी। मतगणना केंद्र के 100 मीटर के दायरे को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। यहां पर किसी भी तरह की भीड़ मान्य नहीं होगी। मतगणना का कार्य सभी जगह एक साथ सुबह आठ बजे शुरू होगा। मतगणना के कार्य के लिए 3000 कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी पुष्पेंद्र राजपूत ने मतगणना की तैयारियों को लेकर रविवार को अवकाश वाले दिन अधिकारियों के साथ अंतिम समीक्षा बैठक की। उन्होंने सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों से मतगणना की तैयारियों की फीडबैक लिया और उन्हें जरूरी दिशा निर्देश जारी किए। चुनाव विभाग मतगणना के बाद चुनाव परिणामों को अगले छह महीने तक ईवीएम में सुरक्षित रखेगा। यह ईवीएम मशीनें चुनाव विभाग की कस्टडी में रहेगी। चुनाव परिणाम जानने के लिए चुनाव विभाग जेनेसिस सॉफ्टवेयर को इस्तेमाल में ला रहा है। यह सॉफ्टवेयर पूरे देश में केवल मतगणना के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है।

शिमला में रविवार को संजाैली कॉलेज में चुनावों के अधिकारियो से बातचीत करत रिटर्निंग अधिकारी। शिमला में रविवार को संजाैली कॉलेज में चुनावों के अधिकारियो से बातचीत करत रिटर्निंग अधिकारी।
X
स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर ईवीएम की सुरक्षा के लिए तैनात किए गए जवान।स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर ईवीएम की सुरक्षा के लिए तैनात किए गए जवान।
शिमला में रविवार को संजाैली कॉलेज में चुनावों के अधिकारियो से बातचीत करत रिटर्निंग अधिकारी।शिमला में रविवार को संजाैली कॉलेज में चुनावों के अधिकारियो से बातचीत करत रिटर्निंग अधिकारी।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..