--Advertisement--

अपनी ही शुरू की गई हवाई सेवा से नहीं आ पा रहे मोदी, ये है कारण

प्रदेश आने वाले यात्रियों को भी तीन महीने करना होगा इंतजार

Danik Bhaskar | Dec 27, 2017, 07:07 AM IST
फाइल फोटो फाइल फोटो

शिमला. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल 16 अप्रैल को दिल्ली शिमला हवाई सेवा काे पांच साल बाद शुरू किया। लेकिन जयराम ठाकुर के सीएम बनने के शपथ ग्रहण समारोह के लिए नरेंद्र मोदी खुद इस फ्लाइट से नहीं आ सके। ज्यादातर नेता अनाडेल पर ही आ रहे हैं। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि दिल्ली-शिमला फ्लाइट में मार्च तक पहले ही एडवांस बुकिंग की वजह से सीटें नहीं हैं।

ऐसे में पहले से एडवांस बुकिंग करवा चुके पैसेंजर्ज के टिकट कैंसिल नहीं कर सकते थे। यही वजह बनी कि प्रधानमंत्री समेत सभी वीवीआईपी हेलिकॉप्टर से शिमला पहुंच रहे हैं।


एयर डेकन शुरू नहीं कर पाया उड़ान
केंद्र सरकार ने एयर एंडिया और एयर डेकन को उड़ान योजना के तहत शिमला के लिए एयर क्राफ्ट शुरू करने को कहा। इसमें से एयर एंडिया ने तो अपनी हवाई सेवा तत्काल प्रभाव से लागू कर दी लेकिन एयर डेकन अभी तक अपनी हवाई सेवा को आरंभ नहीं कर पाया है। एयर डेकन ने सितंबर से अपनी हवाई सेवा शुरू करनी थी जो आज चार महीने बाद भी शुरू नहीं हो पाई है। इस वजह से भी यात्रियों की मार्च तक फुल बुकिंग चल रही है।

तीन अौर फ्लाइट की है जरूरत

प्रदेश में तीन महीने की फुल बुकिंग को देखते हुए शिमला के लिए दिन में नियमित तौर पर तीन हवाई उड़ानों की आवश्यकता है। ऐयरपोर्ट अधिकारियों का दावा है कि अगर दिन की तीन उड़ाने नियमति तौर पर शुरू कर दी जाती है तो इसका अच्छा रिस्पांस मिलेगा। लोग हवाई यात्रा की अधिक मांग कर रहे है।

पैसेंजर्स बढ़े, सस्ती सेवा हो गई कम

केंद्र सरकार की इस उड़ान योजना को लोगों ने तो खूब फायदा उठाया। लेकिन इस सेवा में केंद्र सरकार ने सस्ते टिकट पर जो 15 सस्ती सीटें तय की थी उसे घटा कर 9 कर दिया है। यह कमी लोगों को खल रही है अब लोगों को छह सस्ती सीटों पर भी 19 हजार तक महंगी टिकटों पर सफर करना पड़ रहा है। कम सीटों के कारण सस्ती हवाई सेवा मार्च तक बुक है। अगर सीटें अधिक या 15 सीटें पूरी होती तो अधिक से अधिक लोग उड़ान सेवा का लाभ उठा रहे होते। नौ सीटों पर ही लोग 2200 रुपए के टिकट शिमला से दिल्ली तक हवाई सफर कर रहे है।