--Advertisement--

जेल में सारे कैदी करते थे पूजा, उस समय इस ट्रिक से काटी सलाखें और हुए फरार

कैदी एक हफ्ते से सलाखों को ब्लेड से थोड़ा-थोड़ा काटते आ रहे थे।

Dainik Bhaskar

Dec 10, 2017, 12:34 AM IST
पुलिस आरोपियों को पकड़कर लाती हुई। पुलिस आरोपियों को पकड़कर लाती हुई।

शिमला. कैदियों ने जेल से फरार होने के लिए जेल के बैरक की मोटी सलाखों को ब्लेड से काट दिया औऱ वहां से फरार हो गए। बता दें कि उन्होंने भागने के लिए बैरक की सलाखों को एक रात में नहीं काटा बल्कि ये कैदी एक हफ्ते से सलाखों को ब्लेड से थोड़ा-थोड़ा काटते आ रहे थे। सलाखों को काटने के लिए कैदियों ने शाम का वो वक्त चुना था, जब जेल के अंदर पूजा होती थी। रेप और हत्या केस में बंद थे तीनों आरोपी...

- 5 से 10 मिनट की इस सामूहिक पूजा में जब बाकी कैदी पूजा कर रहे होते थे तो ये तीनों पूजा में शामिल हुए बगैर बैरक के अंदर घुसकर सलाखों को ब्लेड से काटने में जुट जाते थे।
- आदर्श जेल कंडा में बाकी कैदियों को सलाखों को काटने का पता न चले तो ये तीनों ही कैदी वे ब्लेड (आयरन कटर) को चलाने से पहले सलाखों पर साबुन लगा दिया करते थे।
- साबुन लगाने के बाद सलाखों पर ब्लेड को चलाने की आवाज नहीं आती थी।
- हफ्ते भर में करीब एक इंच मोटी सलाखों को थोड़ा-थोड़ा काटने के बाद 5 दिसंबर की रात जब सलाखें काटने में सफलता मिली तो तीनों बैरक से भाग निकले।
- तीनों कैदियों ने पुलिस पूछताछ में जेल के अंदर से भागने की प्लानिंग का खुलासा किया है।
- कंडा जेल से 5 दिसंबर की रात फरार हुए प्रेम बहादुर, लीलाधार और प्रताप सिंह को पुलिस ने शुक्रवार को सोलन के सबाथू के जंगल में धरा था।

तीनों ने जेल में ही बनाया था भागने का प्लान
- तीनों कैदी नेपाली मूल के हैं, लेकिन वो पहले से एक दूसरे को नहीं जानते थे। जेल में ही वे एक दूसरे से मिले और यहीं भागने का प्लान बनाया।
- 27 वर्षीय प्रताप सिंह पर नाबालिग बच्ची से दुराचार का आरोप है। उसके खिलाफ महिला पुलिस थाना न्यू शिमला में 376, 377 और पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज है।
- 22 वर्षीय प्रेम बहादुर भी रेप केस में आरोपी है। उसे रामपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। तीसरा कैदी लीलाधर पर हत्या का केस है। उसे कुल्लू पुलिस ने पकड़ा था।

बैरक के अंदर ब्लेड कैसे पहुंचा, नहीं चला पता
- कंडा जेल में कंस्ट्रक्शन कार्य चला हुआ था। जहां से इन कैदियों ने ब्लेड उठाया।
- इस ब्लेड को बैरक के अंदर कैसे ले गए और इसमें किसने लापरवाही बरती है, इसके बारे में अभी तक पता नहीं चल पाया है।
- जेल के अंदर और आते जाते वक्त सभी कैदियों की बाकायदा चैकिंग की जाती है।
- ऐसे में ब्लेड को बैरक में अंदर ले जाना बड़ी लापरवाही की ओर इशारा करती है।

आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...

फरार आरोपा को पकड़े हुए पुलिस। फरार आरोपा को पकड़े हुए पुलिस।
पुलिस ऐसे आरोपियों को पकड़कर लाई। पुलिस ऐसे आरोपियों को पकड़कर लाई।
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी। पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।
पुलिस ने आरोपियों को जंगल से दबोचा। पुलिस ने आरोपियों को जंगल से दबोचा।
तीनों ने जेल में ही बनाया था भागने का प्लान । तीनों ने जेल में ही बनाया था भागने का प्लान ।
तीनों कैदी नेपाली मूल के हैं, लेकिन वो पहले से एक दूसरे को नहीं जानते थे। तीनों कैदी नेपाली मूल के हैं, लेकिन वो पहले से एक दूसरे को नहीं जानते थे।
27 वर्षीय प्रताप सिंह पर नाबालिग बच्ची से रेप का आरोप है। 27 वर्षीय प्रताप सिंह पर नाबालिग बच्ची से रेप का आरोप है।
22 वर्षीय प्रेम बहादुर भी रेप केस में आरोपी है। 22 वर्षीय प्रेम बहादुर भी रेप केस में आरोपी है।
तीसरा कैदी लीलाधर पर हत्या का केस है। तीसरा कैदी लीलाधर पर हत्या का केस है।
X
पुलिस आरोपियों को पकड़कर लाती हुई।पुलिस आरोपियों को पकड़कर लाती हुई।
फरार आरोपा को पकड़े हुए पुलिस।फरार आरोपा को पकड़े हुए पुलिस।
पुलिस ऐसे आरोपियों को पकड़कर लाई।पुलिस ऐसे आरोपियों को पकड़कर लाई।
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।
पुलिस ने आरोपियों को जंगल से दबोचा।पुलिस ने आरोपियों को जंगल से दबोचा।
तीनों ने जेल में ही बनाया था भागने का प्लान ।तीनों ने जेल में ही बनाया था भागने का प्लान ।
तीनों कैदी नेपाली मूल के हैं, लेकिन वो पहले से एक दूसरे को नहीं जानते थे।तीनों कैदी नेपाली मूल के हैं, लेकिन वो पहले से एक दूसरे को नहीं जानते थे।
27 वर्षीय प्रताप सिंह पर नाबालिग बच्ची से रेप का आरोप है।27 वर्षीय प्रताप सिंह पर नाबालिग बच्ची से रेप का आरोप है।
22 वर्षीय प्रेम बहादुर भी रेप केस में आरोपी है।22 वर्षीय प्रेम बहादुर भी रेप केस में आरोपी है।
तीसरा कैदी लीलाधर पर हत्या का केस है।तीसरा कैदी लीलाधर पर हत्या का केस है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..