--Advertisement--

बड़े नाम को नहीं जनता का वोट काम को : राणा, MLA ने कहा- धूमल के लिए खाली कर दूंगा सीट

हॉट सीट सुजानपुर में भाजपा के सीएम उम्मीदवार रहे धूमल को हराकर बोले राजेंद्र राणा

Dainik Bhaskar

Dec 19, 2017, 07:04 AM IST
कांग्रेस के प्रत्याशी राजेंद्र राणा जीत के बाद समर्थकों सहित विजयी चिन्ह बनाते हुए। कांग्रेस के प्रत्याशी राजेंद्र राणा जीत के बाद समर्थकों सहित विजयी चिन्ह बनाते हुए।

हमीरपुर. भाजपा जीत गई, लेकिन सीएम पद के प्रोजेक्टेड उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल सुजानपुर से हार गए। हराने वाले कांग्रेस प्रत्याशी राजेंद्र राणा थे। जिन्हाेंने जीत कर राजनीति में नया इतिहास कायम किया है, तभी तो वे यही कह रहे हैं कि सुजानपुर में नाम को नहीं, केवल और केवल काम को लोगों ने वोट दिया है।

सीएम कैंडिडेट को हराना अासान नहीं था, लेकिन बावजूद इसके शुरू से लेकर अंत तक बूथ वाइज यदि आकलन किया जाए, तो राणा ने डॉमिनेट किया और कहीं भी ऐसा नहीं लगा कि यहां चुनाव भाजपा के मुख्यमंत्री पद के दावेदार और एक कांग्रेस प्रत्याशी के बीच हो रहा है।

भास्कर ने जब बातचीत की तो उन्होंने साफ तौर पर मुस्कारते हुए कहा कि मेरा चुनाव आसान नहीं था। मुझे शुरू से पता था कि यहां उनकी राहें चुनावी माहौल में आसान होने वाली नहीं हैं, मगर वे पिछले उपचुनाव के बाद और दोगुणी मेहनत के साथ लोगों के बीच जमे। उनके दु:ख-सुख में शरीक हुए। सीएम वीरभद्र सिंह की सरकार में जितने काम हो सकते थे, वे करवाए गए। लोगों काे लगा कि राणा काम के मामले में कहीं भी पीछे नहीं हैं, इसी लिए भले ही यहां पर धूमल साहब को सीएम पद पर प्रोजेक्ट कर दिया था, मगर फिर भी लोगों ने राणा को उनके पांच साल मंे किए गए काम का सिला दिया। उस पर विश्वास किया। इसी लिए यह सारा श्रेय सुजानपुर वासियों को जाता है, जिन्होंने उन्हें विपरीत परिस्थितियों में जिताऊ बनाया।

धूमल के लिए खाली कर दूंगा सीट

धूमल चाहें तो कुटलैहड़ से चुनाव लड़ें, वह उनके लिए अपनी सीट का त्याग करने के लिए तैयार हैं। यह बात कुटलैहड़ के नवनिर्वाचित विधायक वीरेंद्र कंवर ने कही। प्रदेश में भाजपा को बहुमत मिलने के बावजूद धूमल की हार से कंवर बुझे बुझे से दिखे। इसके बाद उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में धूमल के प्रति वफादारी दिखाते हुए उन्हें मुख्यमंत्री बनाए जाने की सूरत में अपनी सीट खाली करने तक का प्रस्ताव रख दिया। उन्होंने कहा कि धूमल के बिना यह जीत फीकी है। उन्होंने कहा कि धूमल को मुख्यमंत्री चेहरा घोषित करने के बाद पार्टी को बहुमत मिला है।

वोटर्स को भाजपा ने दिए थे कई प्रलोभन, लेकिन मेरा काम आधार बना

राणा ने कहा कि चुनाव प्रचार के समय भाजपा ने उनके इलाके में लोगों को कई तरह की परेशानियों में डाला, लेकिन लोग विचलित नहीं हुए और न ही वे भाजपा के प्रलोभनों में आए। उन्होंने मेरे द्वारा करवाए गए िवकास को आधार बनाया। यही वजह रही कि उनकी जीत हुई है। उनका कहना है कि जिस चुनाव पर देश की नजरें लगी थीं, भाजपा का पूरा कुनवा काम कर रहा था, उसमें जीत पाना आसान नहीं था। लेकिन उन्हें शुरू से ही पता था कि उनके काम को लोग जानते हैं और वे उसका सिला चुनावों में जरूर देंगे।

X
कांग्रेस के प्रत्याशी राजेंद्र राणा जीत के बाद समर्थकों सहित विजयी चिन्ह बनाते हुए।कांग्रेस के प्रत्याशी राजेंद्र राणा जीत के बाद समर्थकों सहित विजयी चिन्ह बनाते हुए।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..