--Advertisement--

प्रदेश विधानसभा चुनाव में 197 उम्मीदवारों की जमानत जब्त, नोटा से भी कम वोट मिले

कई दिग्गज नेता भी हैं जो पूर्व में मंत्री और बड़े ओहदों पर रह चुके हैं।

Dainik Bhaskar

Dec 20, 2017, 07:39 AM IST
डेमोफोटो डेमोफोटो

शिमला. प्रदेश विधानसभा चुनाव में इस बार 197 उम्मीदवारों का चुनाव में अपनी जमानत तक भी नहीं बचा सके। चुनाव विभाग ने इनकी 19 लाख 700 रुपए की प्रतिभूति राशि को जब्त कर लिया है। चुनाव में खड़े कई उम्मीदवारों को तो नोटा से भी कम वोट मिले हैं। कई उम्मीदवार ऐसे भी हैं जिन्हें सौ से भी कम वोट मिले हैं। प्रदेश के सभी विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव में खड़े कई प्रत्याशियों की जमानतें जब्त हुई है। इसमें कई दिग्गज नेता भी हैं जो पूर्व में मंत्री और बड़े ओहदों पर रह चुके हैं।

पूर्व कांग्रेस सरकार में मंत्री रह चुके सिंघी राम जो पार्टी से टिकट न मिलने पर आजाद उम्मीदवार के तौर खड़े हुए थे, इस बार जनता ने उन्हें नहीं स्वीकारा। इस चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है, चुनाव में उनकी जमानत जब्त हुई है। इसी तरह शिमला नगर निगम के महापौर रह चुके सीपीआईएम के उम्मीदवार संजय चौहान भी अपनी जमानत नहीं बचा सके। सीपीआई एम के दिग्गज नेता डाॅ. कुलदीप सिंह तंवर की भी चुनाव में जमानत जब्त हुई है।

जनता ने नकारे थर्ड फ्रंट और आजाद उम्मीदवार

हर बार की तरह इस बार भी हिमाचल में थर्ड फ्रंट का कोई जादू नहीं चला। सीपीआईएम की एक सीट को छोड़ कर बाकी सभी जगह थर्ड फ्रंट का सूपड़ा पूरी तरह से साफ हो गया है। प्रदेश की जनता ने तीसरी किसी भी पार्टी को अपना जनादेश नहीं दिया है। ऐसे में तीसरी पार्टी ने जहां जहां भी अपने उम्मीदवार खड़े किए थे सभी जगह चुनाव में खड़े प्रत्याशियों को मुंह की खानी पड़ी है। प्रदेश विधानसभा चुनाव में 100 से अधिक आजाद उम्मीदवार उतरे थे।

थर्ड फ्रंट और आजाद उम्मीदवारों को मिली वोटों पर एक नजर

शिमला विधानसभा सीट से खड़े बसपा के प्रत्याशी हरी चंद को 498, चौपाल से हरि सिंह पंवर को 340, कसुम्पटी से सीपीआईएम के डाॅ कुलदीप सिंह तंवर को 4698, आजाद उम्मीदवार रोशनलाल को 294, मदन सिंह को 954, इंद्र सिंह को 212, बसपा के रमेश कुमार को 154, देव राज भारद्वाज को 71 वोट डलें है। शिमला शहर से सीपीआई एम के प्रत्याशी और पूर्व मेयर संजय चौहान को 3047, कांग्रेस के हर भजन सिंह भज्जी को 2680, वीरेंद्र कंवर को 119, स्वाभिमान पार्टी के प्रत्याशी डा किशोरी लाला शर्मा को 114 वोट पड़े हैं। शिमला ग्रामीण से एमडी शर्मा को 668 और स्वाभिमान पार्टी के कुशल राज को 325, जुब्बल कोटखाई से लोकेंद्र जाहूटा को 370, रामपुर से पूर्व कांग्रेस मंत्री और आजाद उम्मीदवार सिंघी राम को 3801, सुरेश सिंह सैनी को 297 वोट मिली है।

जिला हमीरपुर के सुजानपुर क्षेत्र से जोगिंद्र कुमार ठाकुर को 1023, रविंद्र सिंह डोगरा को 344, बसपा के प्रवीण ठाकुर को 190 वोट मिली है। हमीरपुर से आजाद उम्मीदवार कमल पठानिया को 509, बसपा के लाल सिंह मस्ताना को 231, आशीष कुमार को 111, समाज अधिकार कल्याण पार्टी के राज कुमार को 78 वोट मिले है। बड़सर से बसपा की सरोती देवी को 281, लोक गठबंधन पार्टी के विनोद ठाकुर को 138 वोट मिले है। पृथी चंद शर्मा को 364, बसपा के रवि प्रकाश को 339 और रंजीत सिंह जीतू को 302 वोट प्राप्त हुए हैं। जिला बिलासपुर के घुमारवीं सीट से सुरेश कुमार को 475, बिलासपुर से बसंत राम संधु को 1300 और अमर सिंह को 292, श्री नैना देवी से रमेश चंद को 382, बालक राम को 357, सुखराम ठाकुर को 314 मत पड़े है।

मायावती का हाथी नहीं चढ़ सका पहाड़
मायावती का हाथी हिमाचल में एक कदम भी नहीं चल पाया। प्रदेश विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज वादी पार्टी ने 20 से अधिक सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए थे, लेकिन चुनाव में मायावती का जादू नहीं चल पाया और सभी सीटों पर बसपा के उम्मीदवारों को करारी हार का सामना करना पड़ा और सभी उम्मीदवारों की जमानत जब्त हुई हैं।

X
डेमोफोटोडेमोफोटो
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..